हाइलाइट्स

  • 400 से अधिक विमान उड़ान भरने से पहले ही हो गए नष्ट
  • इजराइल और अरब देशों के बीच हुआ था युद्ध विराम
  • छह दिनों तक चले युद्ध में अरब देशों को मिली थी मात
  • 1 जून को ही मोशे दायान बने थे इजराइल के रक्षा मंत्री

लेटेस्ट खबर

Presidential Election 2022: यशवंत सिन्हा ने किया नामांकन, राहुल-पवार समेत कई बड़े नेता रहे मौजूद

Presidential Election 2022: यशवंत सिन्हा ने किया नामांकन, राहुल-पवार समेत कई बड़े नेता रहे मौजूद

Jacqueline Fernandez: ED ने जैकलीन फर्नांडिस को फिर किया तलब,  जानें क्या है पूरा मामला?

Jacqueline Fernandez: ED ने जैकलीन फर्नांडिस को फिर किया तलब, जानें क्या है पूरा मामला?

IND vs ENG: 'पंत में अभी बचपना रोहित के ना होने पर कोहली करें कप्तानी', पूर्व क्रिकेटर के बड़े बोल

IND vs ENG: 'पंत में अभी बचपना रोहित के ना होने पर कोहली करें कप्तानी', पूर्व क्रिकेटर के बड़े बोल

Robo fish environment cleaner: छोटी सी मछली बड़ा काम, समुद्र से करेगी गंदगी का सफाया

Robo fish environment cleaner: छोटी सी मछली बड़ा काम, समुद्र से करेगी गंदगी का सफाया

 Alia Bhatt और रणबीर कपूर को मिल रही हैं खूब बधाइयां, करण से लेकर सोनी और रिद्दिमा ने किया पोस्ट

Alia Bhatt और रणबीर कपूर को मिल रही हैं खूब बधाइयां, करण से लेकर सोनी और रिद्दिमा ने किया पोस्ट

Today in History, 10 June : इजराइल बना ‘महाशक्ति’…8 अरब देशों को अकेले दे दी मात!

इजराइल और अरब देशों के बीच हुए Six-Day War का युद्ध विराम आज ही हुआ था... क्या क्या हुआ था इस जंग में, आइए जानते हैं इस खास आर्टिकल में

Today in History, 10 June 2022: अंग्रेजी में एक कहावत है- Offence is the best Defence… इस कहावत को पूरी दुनिया में सबसे अच्छे तरीके से हकीकत की धरती पर किसी ने उतारा तो वो इजराइल है... क्योंकि आज से 55 साल पहले इजराइल अकेले ही 8 देशों से टकरा गया था और उसने न सिर्फ ये जंग ( Six-Day War ) जीती बल्कि महज छह दिनों में पूरे मिडिल-ईस्ट का नक्शा हमेशा के लिए बदल दिया... जी हां, आज की तारीख यानी 10 जून का संबंध इसी ऐतिहासिक घटना है... आज ही के दिन 1967 में इजराइल और अरब देशों के बीच युद्ध विराम हुआ था.

ये भी देखें- Today in History, 9th June...: 25 साल की उम्र में बिरसा कैसे बन गए 'भगवान'? आज है शहादत का दिन

ये बात 1967 के गर्मियों की है...इजराइल के तब के प्रधानमंत्री एशकोल ( Israel prime MInister Levi Eshkol ) से मिलने के लिए विपक्ष के नेता मेनाचिम बेगिन ( Menachem Begin ) उनके घर पहुंचे. PM एशकोल इस उधेड़बुन में थे कि किसे मुल्क का रक्षामंत्री बनाया जाए. बेगिन ने उन्हें कहा- अगर आप मोशे दायान ( Moshe Dayan ) को रक्षा मंत्री बना दें, तो आधे घंटे के अंदर सारा देश आपके पीछे खड़ा हो जाएगा.

मुश्किल ये थी कि प्रधानमंत्री एशकोल, मोशे दायान को पंसद नहीं करते थे...लेकिन तब की परिस्थितियों में उन्हें भी मोशे से बेहतर कोई नाम नहीं मिला...परिस्थितियां इसलिए गंभीर थी क्योंकि अरब वर्ल्ड के तकरीबन 8 बड़े देश इजराइल पर एक साथ हमले की फिराक में थे...बहरहाल 1 जून 1967 को मोशे दायान रक्षा मंत्री की शपथ ले ली.

फिर आई 5 जून की तारीख... तेल अवीव स्थित इजराइली रक्षा मंत्रालय ( Israel Defense Ministry ) के दफ्तर में सुबह 7.40 मिनट का वक्त हुआ था...वहां मौजूद हर शख्स सांसे रोके बैठा था...क्योंकि इजराइल के फाइटर जेट्स जॉर्डन के आसमान की ओर उड़ चुके थे...मोशे और उनके कमांडरों की रणनीति ये थी कि दुश्मन को सोचने का वक्त भी न मिले और वे अपने लक्ष्य को हासिल कर लें और ये लक्ष्य था इजिप्ट, जॉर्डन, इराक और सीरिया के तकरीबन 400 से ज्यादा फाइटर जेट्स को जमीन पर ही नष्ट कर देने का.

इजराइल का ये हमला इतना अचानक था कि ये सभी देश भौंचक्के रह गए... एक दिन के अंदर ही अकेले मिस्र ने अपने 300 विमान खो दिए थे. इसके साथ ही सीरिया के 60, जॉर्डन के 35 और इराक़ के 16 विमान भी मार गिराए गए थे. दूसरी तरफ इजराइल की 400 विमानों की वायुसेना के मात्र 19 विमान ही नष्ट हुए थे...हालात ऐसे थे जैसे की इजराइल के लड़ाकू विमान टारगेट प्रैक्टिस कर रहे हों...क्योंकि इस हमले में इन सभी अरब देशों के अधिकांश विमान जमीन पर खड़े-खड़े ही नष्ट हो गए थे.

ये भी देखें- 6 June...: आज ही हुआ था देश का सबसे बड़ा रेल हादसा, नदी में समा गए थे ट्रेन के 7 डिब्बे

दरअसल, इजराइली वायुसेना इन हमलों की तैयारी कई वर्षों से कर रही थी. इस उद्देश्य के लिए उन्होंने मिस्र, जॉर्डन और सीरिया के हवाई अड्डों की पूरी तस्वीर प्राप्त करने के लिए सैकड़ों जासूसी मिशन भेजे थे..इनकी मदद से उन्होंने अरब वायुसेना के सभी ठिकानों को पहले से समझ लिया था.

बहरहाल अचानक हुए इस हमले की वजह से मिस्र, जॉर्डन, इराक, कुवैत, सीरिया, सऊदी अरब, सूडान और अल्जीरिया की संयुक्त सेना की कमर टूट गई...मजबूरी में 10 जून 1967 को सीरिया में इन देशों ने इजराइल के साथ युद्ध विराम का समझौता किया...इसी तारीख के बाद से यरुशलम पर इजराइल का विवादित कब्जा हो गया और अब तक इन सभी अरब देशों ने इजराइल से राजनियक संबंध स्थापित नहीं किए हैं...ये अलग बात है कि बीते कुछ महीनों से करीब 4 अरब देशों के साथ इजराइल की औपचारिक तौर पर बातचीत शुरू हो गई है.

अब चलते-चलते आज की तारीख के कुछ दूसरी अहम घटनाओं पर निगाह डाल लेते हैं.

1246: नसीरुद्दीन मुहम्मद शाह प्रथम दिल्ली का शासक बना
1946: राजशाही खत्म होने के बाद इटली गणतांत्रिक राष्ट्र बना.
1966: वायु सेना के लड़ाकू विमान 'मिग' का महाराष्ट्र के नासिक से उत्पादन शुरू
1986: भारत ने इंग्लैंड को 5 विकेट से हराकर लॉर्ड्स में पहली टेस्ट जीत दर्ज की
2002: पाकिस्तान ने विश्व की दूसरी सबसे ऊँची चोटी के -2 का नाम बदलकर 'शाहगौरी' कर दिया

अप नेक्स्ट

Today in History, 10 June : इजराइल बना ‘महाशक्ति’…8 अरब देशों को अकेले दे दी मात!

Today in History, 10 June : इजराइल बना ‘महाशक्ति’…8 अरब देशों को अकेले दे दी मात!

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Agnipath Scheme: अग्निवीरों के लिए बीजेपी सांसद वरुण गांधी पेंशन छोड़ने को तैयार, सरकार दिखाएगी हिम्मत?

Agnipath Scheme: अग्निवीरों के लिए बीजेपी सांसद वरुण गांधी पेंशन छोड़ने को तैयार, सरकार दिखाएगी हिम्मत?

मधुबनी: NH-227L को लेकर सोशल साइट्स पर क्यों पूछे जा रहे सवाल, गड्ढे में सड़क या सड़क में गड्ढा?

मधुबनी: NH-227L को लेकर सोशल साइट्स पर क्यों पूछे जा रहे सवाल, गड्ढे में सड़क या सड़क में गड्ढा?

Maharashtra Crisis: एकनाथ शिंदे की उद्धव ठाकरे से बगावत या BJP का 'बदला', संकट के मायने क्या?

Maharashtra Crisis: एकनाथ शिंदे की उद्धव ठाकरे से बगावत या BJP का 'बदला', संकट के मायने क्या?

SSC GD 2018: PM Modi-Amit Shah से क्यों बोले छात्र, तलवार उठाने को मजबूर मत कीजिए?

SSC GD 2018: PM Modi-Amit Shah से क्यों बोले छात्र, तलवार उठाने को मजबूर मत कीजिए?

और वीडियो

Agnipath Scheme: अग्निवीरों से क्या उद्योगपतियों की चौकीदारी करवाने की है तैयारी?

Agnipath Scheme: अग्निवीरों से क्या उद्योगपतियों की चौकीदारी करवाने की है तैयारी?

Black Hole Tragedy: 20 June, Today History- कलकत्ता की इस घटना ने भारत में खोल दिए अंग्रेजी राज के दरवाजे

Black Hole Tragedy: 20 June, Today History- कलकत्ता की इस घटना ने भारत में खोल दिए अंग्रेजी राज के दरवाजे

Agnipath scheme protest: क्यों भड़के बिहार के छात्र, क्या देश की सुरक्षा के लिए भी ठीक नहीं है फैसला?

Agnipath scheme protest: क्यों भड़के बिहार के छात्र, क्या देश की सुरक्षा के लिए भी ठीक नहीं है फैसला?

6 June...: आज ही हुआ था देश का सबसे बड़ा रेल हादसा, नदी में समा गए थे ट्रेन के 7 डिब्बे

6 June...: आज ही हुआ था देश का सबसे बड़ा रेल हादसा, नदी में समा गए थे ट्रेन के 7 डिब्बे

5 June in History: क्या आप जानते हैं- औरंगजेब ने दिल्ली से लेकर गुवाहाटी तक मंदिर भी बनवाए थे

5 June in History: क्या आप जानते हैं- औरंगजेब ने दिल्ली से लेकर गुवाहाटी तक मंदिर भी बनवाए थे

Loudspeaker Row: BJP पर गरम रहने वाले Raj Thackeray, उद्धव सरकार पर सख्त क्यों?

Loudspeaker Row: BJP पर गरम रहने वाले Raj Thackeray, उद्धव सरकार पर सख्त क्यों?

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

UP Elections 2022: क्या जाति फैक्टर बिगाड़ेगा BJP का खेल?

UP Elections 2022: क्या जाति फैक्टर बिगाड़ेगा BJP का खेल?

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.