हाइलाइट्स

  • श्रीलंका की सड़कों पर फिर उतरे लोग
  • राजपक्षे परिवार के खिलाफ जनता का इंकलाब
  • गोटाबाया के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा

लेटेस्ट खबर

ओलंपिक पदक विजेता Vijender Singh ने पेशेवर मुक्केबाजी में की शानदार वापसी, इलियासू सूले को किया नॉकआउट

ओलंपिक पदक विजेता Vijender Singh ने पेशेवर मुक्केबाजी में की शानदार वापसी, इलियासू सूले को किया नॉकआउट

Vicky- Katrina की शादी से पहले, नशे में Karan Johar और Alia Bhatt ने Vicky Kaushal को किया था कॉल

Vicky- Katrina की शादी से पहले, नशे में Karan Johar और Alia Bhatt ने Vicky Kaushal को किया था कॉल

Video: MP में 45 पैसे किलो मिल रहा लहसुन, परेशान होकर किसानों ने नदी में फेंका, देखें वीडियो

Video: MP में 45 पैसे किलो मिल रहा लहसुन, परेशान होकर किसानों ने नदी में फेंका, देखें वीडियो

लुसाने डाइमंड लीग की लिस्ट में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट Neeraj Chopra का नाम, Avinash Sable ने भी बनाई जगह

लुसाने डाइमंड लीग की लिस्ट में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट Neeraj Chopra का नाम, Avinash Sable ने भी बनाई जगह

R Madhavan ने 'Laal Singh Chaddha' के बॉक्स ऑफिस पर न चलने की बताई वजह, कहा-'लोगों की पसंद बदल गई'

R Madhavan ने 'Laal Singh Chaddha' के बॉक्स ऑफिस पर न चलने की बताई वजह, कहा-'लोगों की पसंद बदल गई'

Sri Lanka Crisis: कौन हैं Gotabaya Rajapaksa? राजपक्षे परिवार से क्यों नाराज हैं श्रीलंका की जनता ?

Sri Lanka की सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारियों ने जमकर बवाल काटा. राजपक्षे परिवार से नाराज लोग गोटाबाया के इस्तीफे पर अड़े हैं. श्रीलंका की राजनीति में इस परिवार के वर्चस्व क्या खत्म हो जाएगा ?

पड़ोसी मुल्क श्रीलंका (Sri Lanka) में हालात बदतर होते दिखाई दे रहे हैं. एक बार फिर हजारों लोग राजधानी कोलंबो (Colombo) की सड़कों पर उतर आए हैं. प्रदर्शनकारी (Protestor) राष्ट्रपति भवन (President House) में घुस गए और उस पर कब्जा कर लिया. इसके बाद श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) को भागना पड़ा.

इससे पहले मई महीने में ही तत्कालीन प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे (Former Prime Minister Mahinda Rajapakse) को भी उस वक्त पूरे परिवार के साथ भागना पड़ गया था, जब प्रदर्शनकारियों ने राजपक्षे के सरकारी आवास (PM House) को घेर लिया था. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि कौन हैं गोटाबाया राजपक्षे ? (Who is Gotabaya Rajapaksa) आखिर राजपक्षे परिवार (Rajapakse Family) से क्यों नाराज है श्रीलंका की जनता ?

इसे भी पढ़ें : Sri lanka Crisis: राष्ट्रपति के बेडरूम में घुसे प्रदर्शनकारी... सासंद रंजीथा सेनारत्ने को सड़क पर पीटा

कौन हैं गोटाबाया राजपक्षे ? || Who is Gotabaya Rajapaksa

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे (President Gotabaya Rajapaksa) पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के छोटे भाई हैं. गोटाबाया का जन्म श्रीलंका के एक प्रतिष्ठित सियासी परिवार (Political Family) में 20 जून, 1949 को हुआ था.

कोलंबो में अपनी स्कूली पढ़ाई (School Education) पूरी करने के बाद गोटाबाया साल 1971 में श्रीलंका की सेना (Sri Lanka Army) में बतौर अधिकारी कैडेट (Cadet) के तौर पर शामिल हुए. साल 1983 में उन्होंने मद्रास यूनिवर्सिटी (Madras University) में रक्षा अध्ययन में पोस्ट ग्रैजुएट (Post Graduate) की उपाधि हासिल की.

साल 1991 में सर जॉन कोटेलवाला रक्षा अकादमी (Sir John Kotelwala Defence Academy) के उप कमांडेंट (Deputy Commandant) नियुक्त किए और 1992 में सेना से रिटायर (Retirement) होने तक इस पद पर बने रहे.

इसके बाद, गोटाबाया साल 2005 में अपने भाई महिंदा राजपक्षे के राष्ट्रपति चुनाव प्रचार (Election Campaign) में मदद करने के लिए अपने देश लौटे और श्रीलंका की दोहरी नागरिकता ली. बड़े भाई महिंदा राजपक्षे के राष्ट्रपति रहने के दौरान गोटाबाया साल 2005 से 2014 तक रक्षा सचिव (Defence Secretary) रहे.

गोटाबाया श्रीलंका में 26 साल तक चले गृह युद्ध (Civil War) के दौरान एक कामयाब सैन्य अधिकारी (Army Officer) के रूप में काम कर चुके हैं. देश में तमिल अलगाववादी (Tamil Liberation) युद्ध को खत्म करने में भी इनकी खास भूमिका रही.

इतना ही नहीं लिट्टे (LTTE) को क्रूरता से दबाने में गोटाबाया की अहम भूमिका के चलते ही उन्हें 'द टर्मिनेटर' (The Terminator) के तौर पर जाना जाता है. हालांकि गोटाबाया पर गंभीर मानवाधिकार (Human Rights) उल्लंघन के भी आरोप लगे. तमिल मूल के वे परिवार जिनके अपने गृहयुद्ध के दौरान या तो मारे गए या फिर लापता हो गए, वे गोटाबाया पर युद्ध अपराध (War Crime) का आरोप तक लगाते हैं.

इसे भी पढ़ें : Sri Lanka: प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति भवन पर किया कब्जा, आवास छोड़कर भागे राष्ट्रपति राजपक्षे

गोटाबाया से क्यों नाराज हैं श्रीलंका की जनता ? || Why people of Sri Lanka angry with the Rajapaksa family?

दरअसल, श्रीलंका के सियासत (Sri Lanka Politics) में राजपक्षे परिवार (Rajapaksa Family) का वर्चस्व है. श्रीलंका की मौजूदा सरकार पर राजपक्षे परिवार के 5 सदस्य सरकार में मंत्री (Minister) हैं. चार भाइयों के अलावा परिवार का एक बेटा भी मंत्री हैं. खुद गोटाबाया राजपक्षे देश के राष्ट्रपति (President) हैं.

इतना ही नहीं बतौर राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के कार्यकाल के दौरान इस परिवार के सदस्यों को 40 मंत्री पद दिये गये. कहा जाता है कि इस परिवार ने श्रीलंका की सियासत में परिवारवाद और भाई-भतीजावाद (Nepotism) को जन्म दिया.

साल 2019 में आर्थिक पुनरुद्धार (Economic Revival) और सुरक्षा (Security) मुहैया कराने जैसे वादों के चलते गोटाबाया चुनाव जीत तो गए. लेकिन वो जनता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए. उनकी आर्थिक नीतियां (Economic Policy) फेल हो गई और सरकार आर्थिक मोर्चे (Economic Fronts) पर पूरी तरह नाकाम साबित हुई.

कोलंबो (Colombo) को सुंदर बनाने की परियोजना (Projects) के लिए झुग्गी-झोपड़ियों (Slums) में रहने वाले लोगों के आशियाने उजाड़ दिए गए. रासायनिक उर्वरकों (Chemical Fertilizer) के इस्तेमाल और आयात (Imports) पर पूरी तरह बैन (Ban) लगा दिया.

श्रीलंका को ऑर्गेनिक हब (Organic Hub) बनाने के लिए सरकार ने ये फैसला तो लिया, लेकिन इससे श्रीलंका के एग्री सेक्टर (Agri Sector) पूरी तरह से तबाह हो गया. खेती करने वाली एक बड़ी आबादी ने इससे मुंह मोड़ लिया जिससे देश का कृषि उत्पादन (Agriculture Production) आधा रह गया.

देश में चीनी और चावल (Sugar and Rice) की भारी किल्लत है. कोविड (Covid) के चलते टूरिज्म सेक्टर (Tourism Sector) पर पड़ी मार, डॉलर (Dollar) के भंडार में कमी से आर्थिक संकट (Economic Crisis) और गहरा गया.

इसका नतीजा ये हुआ की ईंधन, एलपीजी, बिजली (Fuel, LPG, Electricity) और जरूरी भोजन (Essential Food) की भारी किल्लत हो गई. रही सही कसर देश पर चीन के भारी भरकम कर्ज (China's huge debt) ने पूरी कर दी. यही वजह है कि लोग राजपक्षे से तुरंत सत्ता छोड़ने की मांग कर रहे हैं.

अप नेक्स्ट

Sri Lanka Crisis: कौन हैं Gotabaya Rajapaksa? राजपक्षे परिवार से क्यों नाराज हैं श्रीलंका की जनता ?

Sri Lanka Crisis: कौन हैं Gotabaya Rajapaksa? राजपक्षे परिवार से क्यों नाराज हैं श्रीलंका की जनता ?

Nitish Kumar: हर चुनाव से पहले पलट जाते हैं नीतीश कुमार, जानिए कब-कब पलटी मारी, लेकिन बने रहे CM

Nitish Kumar: हर चुनाव से पहले पलट जाते हैं नीतीश कुमार, जानिए कब-कब पलटी मारी, लेकिन बने रहे CM

60 दुकानें, नोएडा अथॉरिटी में भी सांठगांठ...'गालीबाज' Shrikant Tyagi है अथाह संपत्ति का मालिक

60 दुकानें, नोएडा अथॉरिटी में भी सांठगांठ...'गालीबाज' Shrikant Tyagi है अथाह संपत्ति का मालिक

Taiwan Vs China: ताइवान के 10 'ब्रह्मास्त्र' जो चीन को चटा देंगे धूल, उड़ जाएंगे 'ड्रैगन' के होश

Taiwan Vs China: ताइवान के 10 'ब्रह्मास्त्र' जो चीन को चटा देंगे धूल, उड़ जाएंगे 'ड्रैगन' के होश

Who was Al-Zawahiri: कौन था दुनिया का दुश्मन अल जवाहिरी? रोचक है लादेन के सिपहसालार की कहानी

Who was Al-Zawahiri: कौन था दुनिया का दुश्मन अल जवाहिरी? रोचक है लादेन के सिपहसालार की कहानी

'SEX की गलती से होगा Monkeypox',  WHO ने जारी की पुरुषों के लिए गाइडलाइंस

'SEX की गलती से होगा Monkeypox', WHO ने जारी की पुरुषों के लिए गाइडलाइंस

और वीडियो

Explained: रिटायरमेंट के बाद पूर्व राष्ट्रपति जीते हैं आलीशान जिंदगी, जानें क्या सुविधाएं मिलती हैं

Explained: रिटायरमेंट के बाद पूर्व राष्ट्रपति जीते हैं आलीशान जिंदगी, जानें क्या सुविधाएं मिलती हैं

पति को तलाक, भागकर शादी और घूंघट को ना...जानें Draupadi Murmu के आदिवासी समुदाय की 15 रोचक बातें

पति को तलाक, भागकर शादी और घूंघट को ना...जानें Draupadi Murmu के आदिवासी समुदाय की 15 रोचक बातें

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.