हाइलाइट्स

  • दो गुट भी आपस में भिड़ गए, जिससे 12 लोग घायल हो गए
  • श्रीलंकाई सेना ने अपने नागरिकों के सामने हथियार नीचे कर दिए हैं
  • राजपक्षे अमेरिका भागना चाहते थे, लेकिन US ने उन्हें वीजा नहीं दिया

लेटेस्ट खबर

Corona Cases in Delhi: दिल्ली में कोरोना विस्फोट, 6 महीनों का रिकॉर्ड तोड़ा

Corona Cases in Delhi: दिल्ली में कोरोना विस्फोट, 6 महीनों का रिकॉर्ड तोड़ा

Jamnagar Fire: आगे के धमाकों से दहल गया गुजरात के जामनगर का होटल, पलक झपकते ही सब कुछ हुआ स्वाहा

Jamnagar Fire: आगे के धमाकों से दहल गया गुजरात के जामनगर का होटल, पलक झपकते ही सब कुछ हुआ स्वाहा

Kanpur News: ट्रेन में बिना टिकट सफर कर रहे सिपाहियों ने TT को जमकर पीटा, देखें वायरल वीडियो

Kanpur News: ट्रेन में बिना टिकट सफर कर रहे सिपाहियों ने TT को जमकर पीटा, देखें वायरल वीडियो

Kejriwal on Pm modi: रेवड़ी कल्चर पर केजरीवाल का पलटवार, अपने अमीर दोस्तों का कर्ज माफ कर रही मोदी सरकार

Kejriwal on Pm modi: रेवड़ी कल्चर पर केजरीवाल का पलटवार, अपने अमीर दोस्तों का कर्ज माफ कर रही मोदी सरकार

Raksha Bandhan 2022: 12 अगस्त को मना रहे हैं रक्षाबंधन, सुबह इतने बजे से पहले बांधें राखी

Raksha Bandhan 2022: 12 अगस्त को मना रहे हैं रक्षाबंधन, सुबह इतने बजे से पहले बांधें राखी

Sri Lanka Crisis: अकेले मालदीव्स नहीं गए गोटाबाया राजपक्षे, 13 लोग भी साथ में...संकट के बड़े अपडेट्स

श्रीलंका संकट से जुड़े ताजा अपडेट्स क्या हैं? आइए जानते हैं देश में बिगड़े हालात से जुड़ी कुछ बड़ी जानकारी...

श्रीलंका में आर्थिक संकट (Sri Lanka Crisis) से उपजे हालात बुधवार को और भयानक हो गए. राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) सेना के एक विमान से देश छोड़कर मालदीव चले गए जिसके बाद पीएम रानिल विक्रमसिंघे (PM Ranil Wickramasinghe) ने आपातकाल की घोषणा कर दी.

राजपक्षे ने देश की अर्थव्यवस्था को न संभाल पाने के कारण अपने और अपने परिवार के खिलाफ बढ़ते जन आक्रोश के बीच बुधवार को इस्तीफा देने की घोषणा की थी. श्रीलंका की एयरफोर्स ने एक संक्षिप्त बयान में बताया कि 73 वर्षीय नेता अपनी पत्नी और दो सुरक्षा अधिकारियों के साथ सेना के एक विमान में देश छोड़कर चले गए हैं.

गोटाबाया को दिया गया एयरफोर्स के विमान

बयान में कहा गया है, ‘‘सरकार के अनुरोध पर और संविधान के तहत राष्ट्रपति को मिली शक्तियों के अनुसार, रक्षा मंत्रालय की पूर्ण स्वीकृति के साथ राष्ट्रपति, उनकी पत्नी और दो सुरक्षा अधिकारियों को 13 जुलाई को कातुनायके अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से मालदीव रवाना होने के लिए श्रीलंकाई वायु सेना (Sri Lankan Airforce) का विमान उपलब्ध कराया गया.’’

ये भी देखें- Sri Lanka Crisis: भारत ने किया साफ, राजपक्षे के भागने में नहीं की मदद...हमारा समर्थन श्रीलंका की जनता को

प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी राष्ट्रपति के देश छोड़ने की पुष्टि की है. ऐसा बताया जा रहा है कि राजपक्षे नयी सरकार द्वारा गिरफ्तार किए जाने की आशंका के चलते इस्तीफा देने से पहले विदेश जाना चाहते थे. राजपक्षे ने शनिवार को घोषणा की थी कि वह बुधवार को इस्तीफा देंगे. उन्होंने गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में प्रदर्शनकारियों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास पर कब्जा जमाने के बाद यह घोषणा की थी.

‘बीबीसी’ की एक खबर में कहा गया है कि वह स्थानीय समयानुसार देर रात करीब तीन बजे मालदीव की राजधानी माले पहुंचे. यहां सूत्रों ने मालदीव के अधिकारियों के हवाले से बताया कि वेलाना हवाई अड्डे पर मालदीव सरकार के प्रतिनिधियों ने राजपक्षे की अगवानी की. उन्हें पुलिस की सुरक्षा में अज्ञात स्थान पर ले जाया गया.

मोहम्मद नशीद ने की राजपक्षे की मदद!

मालदीव की राजधानी माले में सूत्रों ने बताया कि राजपक्षे की देश छोड़कर मालदीव जाने में मालदीव की संसद के अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद (Mohamed Nasheed) ने मदद की है. सूत्रों ने बताया कि मालदीव सरकार का तर्क है कि राजपक्षे अब भी श्रीलंका के राष्ट्रपति हैं और उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है या किसी उत्तराधिकारी को अपनी शक्तियां नहीं सौंपी हैं. अत: अगर वह मालदीव आना चाहते हैं तो इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. टीवी समाचार चैनलों की खबरों के अनुसार, राजपक्षे के साथ 13 लोग मालदीव गए हैं. वे एएन32 विमान से मालदीव पहुंचे.

खबरों के अनुसार, मालदीव में नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने देश में किसी सैन्य विमान के उतरने के शुरुआती अनुरोधों को ठुकरा दिया था लेकिन बाद में अध्यक्ष नशीद के आग्रह पर विमान को उतरने की अनुमति दी गई. राजपक्षे मालदीव से किसी अन्य देश जा सकते हैं, जिसके बारे में अभी जानकारी नहीं है.

श्रीलंका के ‘द मॉर्निंग’ समाचार पोर्टल की खबर में सरकार में उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि राजपक्षे बुधवार की शाम को अंतिम गंतव्य देश में पहुंचने के बाद इस्तीफा भेज सकते हैं. खबर के अनुसार, समझा जाता है कि राजपक्षे का इस्तीफा पत्र श्रीलंका के समयानुसार रात करीब आठ बजे अध्यक्ष महिंदा यापा अभयवर्दने को भेजा जाएगा.

इस बीच, श्रीलंका में भारतीय उच्चायोग ने बुधवार को मीडिया में आयी उन खबरों को ‘‘निराधार और कयास आधारित’’ बताया कि उसने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के देश छोड़कर मालदीव जाने में मदद की है. उसने कहा, ‘‘यह दोहराया जाता है कि भारत लोकतांत्रिक माध्यमों और मूल्यों, स्थापित लोकतांत्रिक संस्थानों और संवैधानिक रूपरेखा के जरिए समृद्धि एवं प्रगति की आकांक्षाओं को पूरा करने में श्रीलंका के लोगों का सहयोग करता रहेगा.’’

बासिल राजपक्षे ने छोड़ा देश, पहले रोक दिया गया था

राजपक्षे के देश छोड़ने की खबरें आने के बाद उत्साहित भीड़ सिंहली भाषा में ‘‘संघर्ष की जीत’’ और ‘‘गो होम गोटा’’ के नारे लगाते हुए गाले फेस ग्रीन में एकत्रित हो गई. बीबीसी ने सूत्रों के हवाले से खबर दी कि राजपक्षे के छोटे भाई और पूर्व वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे भी देश छोड़कर चले गए हैं. हालांकि देश के सबसे खराब आर्थिक संकट के लिए काफी हद तक बासिल (71) को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. बासिल के पास अमेरिका का पासपोर्ट है.

इससे पहले सोमवार की रात को राजपक्षे और उनके भाई बासिल ने अपने और अपने परिवार के खिलाफ बढ़ते जन आक्रोश के बीच देश छोड़ने की कोशिश की, लेकिन हवाई अड्डे पर आव्रजन अधिकारियों ने उन्हें रोक दिया था. बासिल ने ईंधन, खाद्य पदार्थ और अन्य जरूरी वस्तुओं की कमी के खिलाफ लोगों की नाराजगी बढ़ने के बाद अप्रैल की शुरुआत में वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था और जून में संसद में अपनी सीट त्याग दी थी.

ये भी देखें- Sri lanka Crisis: श्रीलंका में इमरजेंसी लागू, राष्ट्रपति के देश छोड़ने पर भड़की जनता और बिगड़े हालात

राष्ट्रपति राजपक्षे ने संसद के अध्यक्ष महिंदा यापा अभयवर्धने और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को सूचित किया था कि वह 13 जुलाई को इस्तीफा देंगे. उन्होंने यह घोषणा तब की थी जब प्रदर्शनकारी द्वीपीय देश में बिगड़े हालात को लेकर आक्रोश के बीच उनके आधिकारिक आवास में घुस गए थे. प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने पहले ही कहा है कि वह इस्तीफा देने तथा सर्वदलीय सरकार के गठन का मार्ग प्रशस्त करने के लिए तैयार हैं.

श्रीलंका के संविधान के तहत, अगर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों इस्तीफा देते हैं, तो संसद का अध्यक्ष अधिकतम 30 दिन के लिए कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में कार्य कर सकता है. वहीं, श्रीलंका के राजनीतिक दलों ने एक सर्वदलीय सरकार बनाने तथा दिवालिया हुए देश में अराजकता फैलने से रोकने के लिए 20 जुलाई को नए राष्ट्रपति का चुनाव करने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं.

मुख्य विपक्षी दल समागी जन बालवेगया (एसजेबी) और पूर्व राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना की श्रीलंका फ्रीडम पार्टी (एसएलएफपी) के बीच बैठक हुई. राजनीतिक दलों ने संभावित उम्मीदवारों के समर्थन के लिए प्रचार अभियान शुरू कर दिया है. एसजेबी ने कहा कि वह सजित प्रेमदास को अंतरिम राष्ट्रपति नियुक्त करने के लिए प्रचार करेगी.

प्रेमदास ने सोमवार को कहा कि उनकी पार्टी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री स्तर पर देश का नेतृत्व करने तथा अर्थव्यवस्था में सुधार लाने के लिए तैयार है. गौरतलब है कि 2.2 करोड़ की आबादी वाला देश सात दशकों में सबसे खराब आर्थिक संकट से जूझ रहा है, जिसके कारण लोग खाद्य पदार्थ, दवा, ईंधन और अन्य जरूरी वस्तुएं खरीदने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

अप नेक्स्ट

Sri Lanka Crisis: अकेले मालदीव्स नहीं गए गोटाबाया राजपक्षे, 13 लोग भी साथ में...संकट के बड़े अपडेट्स

Sri Lanka Crisis: अकेले मालदीव्स नहीं गए गोटाबाया राजपक्षे, 13 लोग भी साथ में...संकट के बड़े अपडेट्स

Indo-Pak Relation: समरकंद में हो सकती है भारत-पाक के पीएम की मुलाकात, क्या फिर शुरू होगी वार्ता ?

Indo-Pak Relation: समरकंद में हो सकती है भारत-पाक के पीएम की मुलाकात, क्या फिर शुरू होगी वार्ता ?

Donald Trump: पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति के घर FBI की रेड, ट्रंप ने कहा- यह देश के लिए काला दिन 

Donald Trump: पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति के घर FBI की रेड, ट्रंप ने कहा- यह देश के लिए काला दिन 

US warship in India: क्यों भारत पहुंचा अमेरिकी नौसेना का जहाज? चीन में बढ़ी हलचल

US warship in India: क्यों भारत पहुंचा अमेरिकी नौसेना का जहाज? चीन में बढ़ी हलचल

Viral Video: हेलीकॉप्टर पर लटक कर यूट्यूबर ने लगाए हैरतअंगेज पुल-अप, वीडियो हुआ वायरल

Viral Video: हेलीकॉप्टर पर लटक कर यूट्यूबर ने लगाए हैरतअंगेज पुल-अप, वीडियो हुआ वायरल

Cuba fire: क्यूबा में आकाशीय बिजली गिरने से तेल टैंक में लगी भयानक आग, 80 घायल

Cuba fire: क्यूबा में आकाशीय बिजली गिरने से तेल टैंक में लगी भयानक आग, 80 घायल

और वीडियो

Elon Musk vs Twitter deal:  एलन मस्क ने बताया क्यों तोड़ी ट्विटर के साथ डील, लिया भारत का नाम

Elon Musk vs Twitter deal: एलन मस्क ने बताया क्यों तोड़ी ट्विटर के साथ डील, लिया भारत का नाम

China-Taiwan Tension: अगर चीन-ताइवान में युद्ध हुआ तो भारत पर क्या होगा असर ?

China-Taiwan Tension: अगर चीन-ताइवान में युद्ध हुआ तो भारत पर क्या होगा असर ?

China-Taiwan Conflict: चीन की सेना ने शुरू की 'जंग की तैयारी', ताइवान के पास दागी मिसाइलें!

China-Taiwan Conflict: चीन की सेना ने शुरू की 'जंग की तैयारी', ताइवान के पास दागी मिसाइलें!

Shocking VIDEO: चलती कार से गिरी मासूम, मां-बाप पर फूटा 'इंटरनेट ब्रिगेड' का गुस्सा

Shocking VIDEO: चलती कार से गिरी मासूम, मां-बाप पर फूटा 'इंटरनेट ब्रिगेड' का गुस्सा

Taiwan Vs China: ताइवान के 10 'ब्रह्मास्त्र' जो चीन को चटा देंगे धूल, उड़ जाएंगे 'ड्रैगन' के होश

Taiwan Vs China: ताइवान के 10 'ब्रह्मास्त्र' जो चीन को चटा देंगे धूल, उड़ जाएंगे 'ड्रैगन' के होश

Viral Video: गए तो मौज मस्ती करने....लेकिन जान जाते जाते बची

Viral Video: गए तो मौज मस्ती करने....लेकिन जान जाते जाते बची

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Who was Al-Zawahiri: कौन था दुनिया का दुश्मन अल जवाहिरी? रोचक है लादेन के सिपहसालार की कहानी

Who was Al-Zawahiri: कौन था दुनिया का दुश्मन अल जवाहिरी? रोचक है लादेन के सिपहसालार की कहानी

Al Qaeda: अमेरिका ने अलकायदा सरगना अल जवाहिरी को मारा गिराया, काबुल में CIA ड्रोन हमले में हुई मौत

Al Qaeda: अमेरिका ने अलकायदा सरगना अल जवाहिरी को मारा गिराया, काबुल में CIA ड्रोन हमले में हुई मौत

US Experts Report: भारत और अमेरिका के लिए बढ़ा खतरा, अब गहरे महासागर से भी  मिसाइल दाग सकता है चीन

US Experts Report: भारत और अमेरिका के लिए बढ़ा खतरा, अब गहरे महासागर से भी मिसाइल दाग सकता है चीन

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.