हाइलाइट्स

  • 28 जुलाई 1979 को प्रधानमंत्री बने थे चौधरी चरण सिंह
  • एक महीने बाद ही चौधरी साहब को इस्तीफा देना पड़ा
  • आजादी के पहले से ही किसानों की बड़ी आवाज थे चौधरी साहब

लेटेस्ट खबर

Bilkis Bano Case: गुजरात में रेप के दोषियों का मिठाई और फूल से स्वागत, फैसले पर विवाद

Bilkis Bano Case: गुजरात में रेप के दोषियों का मिठाई और फूल से स्वागत, फैसले पर विवाद

Janmashtami 2022: 18 या 19 अगस्त? कब मनाई जाएगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, जानिए सही तारीख और शुभ मुहूर्त

Janmashtami 2022: 18 या 19 अगस्त? कब मनाई जाएगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, जानिए सही तारीख और शुभ मुहूर्त

Nitish Cabinet Ministers: 33 में से 24 मंत्रियों का है क्रिमिनल रिकॉर्ड, किन पर हैं गंभीर मामले दर्ज?

Nitish Cabinet Ministers: 33 में से 24 मंत्रियों का है क्रिमिनल रिकॉर्ड, किन पर हैं गंभीर मामले दर्ज?

MP Flood: मध्यप्रदेश और गुजरात में भारी बारिश, कई इलाकों में बाढ़ का तांडव?

MP Flood: मध्यप्रदेश और गुजरात में भारी बारिश, कई इलाकों में बाढ़ का तांडव?

Bihar Cabinet Expansion: नीतीश-तेजस्वी की महागठबंधन सरकार 2015 से कैसे अलग है?

Bihar Cabinet Expansion: नीतीश-तेजस्वी की महागठबंधन सरकार 2015 से कैसे अलग है?

28 July Jharokha: जब PM से 35 रुपये की रिश्वत मांगी थी दारोगा ने, जानिए Chaudhary Charan Singh की कहानी

23 दिसंबर 1902 को जन्मे चौधरी चरण सिंह भारत के 5वें प्रधानमंत्री बने. 28 जुलाई 1979 को चरण सिंह ने पीएम पद की शपथ ली थी. आइए आज जानते हैं चौधरी चरण सिंह के जीवन को करीब से...

चौधरी चरण सिंह (Chaudhary Charan Singh) भारत के किसान नेता और 5वें प्रधानमंत्री रहे. चरण सिंह 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे थे. चरण सिंह का जन्म 23 दिसंबर 1902 को यूपी के हापुड़ में चौधरी मीर सिंह और नेत्र कौर के घर हुआ था. 1937 की अंतरिम सरकार में जब चरण सिंह विधायक बने तो सरकार में रहते हुए उन्होंने 1939 में कर्जमाफी विधेयक पास करवाया. एक जुलाई 1952 को यूपी में उनकी बदौलत ही जमींदारी प्रथा का उन्मूलन हुआ और गरीबों को अधिकार मिला. चरण सिंह का ये कदम आज भी उन राजनीतिक दलों का मुख्य एजेंडा बना रहता है जो खुद को किसानों के हिमायती बताते हैं. आइए आज जानते हैं चौधरी चरण सिंह के बारे में

ये भी देखें- Abdul Kalam Death Anniversary : जब कलाम के पूर्वज ने बचाई थी भगवान की मूर्ति, पीढ़ियों तक मिला सम्मान!

ये बात है 1979 के अगस्त महीने की है...शाम के छह बजे थे. यूपी के इटावा जिले के ऊसराहार थाने में मैली धोती और कुर्ता पहने हुए एक शख्स पहुंचा. उसने सिपाही से कहा- मेरा बैल चोरी हो गया है साहब, रिपोर्ट लिख लो. सिपाही ने पहले तो अनसुना कर दिया लेकिन किसान अड़ गया तो उसे वो दारोगा के पास ले गया. दारोगा ने पुलिसिया अंदाज में किसान से 4-6 आड़े-टेढ़े सवाल पूछे और बिना रपट लिखे डांट-डपट कर चलता कर दिया.

निराश किसान लौटने लगा तो एक सिपाही पीछे से आया और कहा- बाबा थोड़ा खर्चा-पानी दे तो रपट लिख ली जाएगी. थोड़ा मोल-भाव करने के बाद में 35 रुपये की रिश्वत लेकर रपट लिखना तय हुआ. रपट लिख कर मुंशी ने किसान से पूछा- बाबा हस्ताक्षर करोगे कि अंगूठा लगाओगे.

ये भी देखें- Kargil Vijay Diwas : हथियार खत्म हो गए तो पाक सैनिकों को पत्थरों से मारा, Kargil युद्ध की अनसुनी दास्तां!

किसान ने कहा- हस्ताक्षर करूंगा. इसके बाद उसने न सिर्फ तहरीर पर साइन किया बल्कि जेब से एक मुहर निकाल कर कागज पर ठोंक भी दिया. उस मुहर पर लिखा था- प्रधानमंत्री, भारत सरकार. ये देखते ही हड़कंप मच गया...बाद में पूरा थाना ही सस्पेंड हो गया. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि थाने में कागज पर मुहर लगाने और साइन करने वाले शख्स थे देश के पांचवें प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह.

आज की तारीख यानी 28 जुलाई का संबंध किसानों के मसीहा कहे जाने वाले चौधरी चरण सिंह है जिन्होंने आज ही के दिन बतौर प्रधानमंत्री देश की बागडोर संभाली थी.

23 दिसंबर 1902 को जन्मे थे चौधरी चरण सिंह

23 दिसंबर 1902 को यूपी के हापुड़ में चौधरी मीर सिंह और नेत्र कौर के घर एक बालक का जन्म हुआ. जिसका नाम रखा गया चौधरी चरण सिंह. यही बालक बड़ा होकर किसानों की सबसे बड़ी आवाज बना. एक ऐसी आवाज जो अंग्रेजों के शासन काल में भी किसानों के लिए गूंजती थी. 1937 की अंतरिम सरकार में जब चरण सिंह विधायक बने तो सरकार में रहते हुए उन्होंने 1939 में कर्जमाफी विधेयक पास करवाया.

एक जुलाई 1952 को यूपी में उनकी बदौलत ही जमींदारी प्रथा का उन्मूलन हुआ और गरीबों को अधिकार मिला. चरण सिंह का ये कदम आज भी उन राजनीतिक दलों का मुख्य एजेंडा बना रहता है जो खुद को किसानों के हिमायती बताते हैं.

ये भी देखें- History of Indian Tricolor: तिरंगे से क्यों गायब हुआ चरखा? जानें भारत के झंडे के बनने की कहानी

बहरहाल, भारत की सियासत में चौधरी साहब का नाम एक ऐसे ऐसे प्रधानमंत्री के तौर पर दर्ज है जिन्हें कभी संसद का सामना नहीं करना पड़ा. जी हां वे नौ महीने तक इस पद पर रहे लेकिन हालात ऐसे थे कि उन्हें संसद में कदम ही नहीं रख सके. चकराइए नहीं आपको कहानी शुरू से बताते हैं.

1977 में बनी मोरारजी देसाई की सरकार

बात 1977 की है. केन्द्र में मोरारजी देसाई (Morarji Desai) की सरकार बनी. इस सरकार में चरण सिंह और जगजीवन राम (Jagjivan Ram) उप-प्रधानमंत्री बने. जगजीवन राम को रक्षा मंत्रालय मिला वहीं चरण सिंह को गृह मंत्रालय दिया गया. लेकिन इन तीनों नेताओं की आपस में बिल्कुल भी नहीं बनती थी. मोरारजी देसाई के बारे में चरण सिंह की राय थी कि वे Do-Nothing प्राइम मिनिस्टर हैं. उनकी शिकायत थी कि मोरारजी खुद फैसला लेते थे और किसी की सुनते नहीं थे.

यहां तक की 24 मार्च, 1978 को सीसीएस को दिए एक इंटरव्यू में चरण सिंह ने कहा था कि मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बनने की रेस में थे ही नहीं और ना ही उन्हें कोई सपोर्ट कर रहा था. बात तो तब जगजीवन राम को PM बनाने की हुई थी. इमरजेंसी को लेकर इंदिरा गांधी को जेल भेजने के मुद्दे पर भी चरण सिंह और मोरारजी देसाई की राय अलग थी. मोरारजी चाहते थे कि इंदिरा गांधी को सजा देने के लिए वही कानूनी प्रावधान अपनाएं जाएं जो पहले से हैं.

ये भी देखें- श्रीलंका से थी दुनिया की पहली महिला PM, ऐसा था Sirimavo Bandaranaike का दौर!

वहीं चरण सिंह किसी भी हाल में इंदिरा को जेल भेजना चाहते थे. बाद में चरण सिंह इसमें सफल भी हुए और इंदिरा को गिरफ्तारी का सामना करना पड़ा. इन्हीं वजहों से मोरारजी और चरण सिंह में मतभेद गहराते गए. हालात यहां तक बिगड़ गए कि साल 1978 में मोरारजी देसाई ने चरण सिंह को अपनी कैबिनेट से बाहर कर दिया. खटपट बढ़ती गई और मोरारजी की सरकार गिर गई.

मोरारजी की सरकार गिरने के बाद चरण सिंह ने एक ऐसा कदम उठाया जिसके लिए आज भी उनकी आलोचना होती है. दरअसल, जिस इंदिरा गांधी के खिलाफ नारा देकर उन्होंने चुनाव लड़ा था उन्हीं की पार्टी से समर्थन लेकर चरण सिंह ने सदन में बहुमत साबित किया.

28 जुलाई, 1979 को चौधरी चरण सिंह समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और कांग्रेस (आई) के समर्थन से भारत के पांचवें प्रधानमंत्री बने. लेकिन शपथ लेने के ठीक एक महीने बाद ही इंदिरा गांधी ने चरण सिंह सरकार से समर्थन वापस ले लिया. इसके बाद चरण सिंह को इस्तीफा देना पड़ा. हालात ऐसे बने की छठी लोकसभा भंग करनी पड़ी.

ये भी देखें- NASA Apollo-11 Program: एक पेन ने बचाई थी Neil Armstrong की जान! 1969 का अनसुना किस्से

चुनाव आयोग को चुनाव की तैयारियों के लिए समय चाहिए था, इसलिए करीब 6 महीनों तक चरण सिंह ही प्रधानमंत्री बने रहे. यही वजह है जिसके कारण चौधरी साहब ने बतौर प्रधानमंत्री संसद का सामना नहीं किया. बाद में साल 1980 के चुनाव में सबसे बड़ा झटका खुद चौधरी चरण सिंह को ही लगा. इंदिरा गांधी को 351 सीटों पर जीत मिली और सत्ता में उनकी शानदार वापसी हुई.

अब चलते-चलते आज के दिन की दूसरी अहम घटनाओं पर भी निगाह मार लेते हैं.

1914: प्रथम विश्‍व युद्ध (First World War) की शुरुआत हुई
1925: हेपेटाइटिस (Hepatitis) का टीका खोजने वाले बारुक ब्‍लमर्ग का जन्‍म
2001 : पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री मोहम्मद सिद्दिकी ख़ान कंजू (Mohammed Siddique Khan Kanju) की हत्या
2005: सौरमंडल के दसवें ग्रह की खोज का दावा

अप नेक्स्ट

28 July Jharokha:  जब PM से 35 रुपये की रिश्वत मांगी थी दारोगा ने, जानिए Chaudhary Charan Singh की कहानी

28 July Jharokha: जब PM से 35 रुपये की रिश्वत मांगी थी दारोगा ने, जानिए Chaudhary Charan Singh की कहानी

Bilkis Bano Case: गुजरात में रेप के दोषियों का मिठाई और फूल से स्वागत, फैसले पर विवाद

Bilkis Bano Case: गुजरात में रेप के दोषियों का मिठाई और फूल से स्वागत, फैसले पर विवाद

Janmashtami 2022: 18 या 19 अगस्त? कब मनाई जाएगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, जानिए सही तारीख और शुभ मुहूर्त

Janmashtami 2022: 18 या 19 अगस्त? कब मनाई जाएगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, जानिए सही तारीख और शुभ मुहूर्त

Nitish Cabinet Ministers: 33 में से 24 मंत्रियों का है क्रिमिनल रिकॉर्ड, किन पर हैं गंभीर मामले दर्ज?

Nitish Cabinet Ministers: 33 में से 24 मंत्रियों का है क्रिमिनल रिकॉर्ड, किन पर हैं गंभीर मामले दर्ज?

MP Flood: मध्यप्रदेश और गुजरात में भारी बारिश, कई इलाकों में बाढ़ का तांडव?

MP Flood: मध्यप्रदेश और गुजरात में भारी बारिश, कई इलाकों में बाढ़ का तांडव?

Bihar Cabinet Expansion: नीतीश-तेजस्वी की महागठबंधन सरकार 2015 से कैसे अलग है?

Bihar Cabinet Expansion: नीतीश-तेजस्वी की महागठबंधन सरकार 2015 से कैसे अलग है?

और वीडियो

मुझे क्या मिलेगा नहीं, मैं देश को क्या दे रहा हूं पूछें... मोहन भागवत का ये बयान क्या कहता है?

मुझे क्या मिलेगा नहीं, मैं देश को क्या दे रहा हूं पूछें... मोहन भागवत का ये बयान क्या कहता है?

Ghazipur News: 'कलयुगी मां' ने अपने 3 बच्चों को मारा, चाय में मिलाया जहर

Ghazipur News: 'कलयुगी मां' ने अपने 3 बच्चों को मारा, चाय में मिलाया जहर

Karnataka Minister Audio Leak: अपनी ही सरकार के खिलाफ BJP के मंत्री! Audio लीक

Karnataka Minister Audio Leak: अपनी ही सरकार के खिलाफ BJP के मंत्री! Audio लीक

Barmer News: स्वतंत्रता दिवस पर स्कूल में 'अफीम पार्टी'! शिक्षा विभाग ने दिए जांच के आदेश

Barmer News: स्वतंत्रता दिवस पर स्कूल में 'अफीम पार्टी'! शिक्षा विभाग ने दिए जांच के आदेश

Partition of India: विभाजन रेखा खींचने वाले Radcliffe को क्यों था फैसले पर अफसोस? | Jharokha 17 Aug

Partition of India: विभाजन रेखा खींचने वाले Radcliffe को क्यों था फैसले पर अफसोस? | Jharokha 17 Aug

Future Indian Army: दुश्मनों के छक्के छुड़ाएगी फ्यूचर की सेना, आप भी देख लीजिए एक झलक

Future Indian Army: दुश्मनों के छक्के छुड़ाएगी फ्यूचर की सेना, आप भी देख लीजिए एक झलक

Evening News Brief: केजरीवाल ने गुजरात में किया छठी गारंटी का ऐलान, सड़क हादसे में जिंदा जले 20 लोग

Evening News Brief: केजरीवाल ने गुजरात में किया छठी गारंटी का ऐलान, सड़क हादसे में जिंदा जले 20 लोग

Nitish Cabinet : महागठबंधन के वो कद्दावर नेता जिन्हें मिली नीतीश सरकार में जगह, मिला यह विभाग

Nitish Cabinet : महागठबंधन के वो कद्दावर नेता जिन्हें मिली नीतीश सरकार में जगह, मिला यह विभाग

Jammu Kashmir: कश्मीरी पंडितों पर फिर आतंक! एक की मौत और दूसरा भाई घायल

Jammu Kashmir: कश्मीरी पंडितों पर फिर आतंक! एक की मौत और दूसरा भाई घायल

Nitish Cabinet: बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, कुल 31 मंत्रियों ने ली शपथ, जाने कौन बने मंत्री

Nitish Cabinet: बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, कुल 31 मंत्रियों ने ली शपथ, जाने कौन बने मंत्री

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.