हाइलाइट्स

  • देश में कम हो रहा बहुविवाह का प्रचलन
  • बहुविवाह के लिए सिर्फ धर्म जिम्मेदार नहीं
  • नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे
  • बहुविवाह के लिए जिम्मेदार कई वजहें

लेटेस्ट खबर

Bihar News: बाहुबली आनंद मोहन का जलवा, पेशी के लिए आए पूर्व सांसद पहुंचे घर

Bihar News: बाहुबली आनंद मोहन का जलवा, पेशी के लिए आए पूर्व सांसद पहुंचे घर

Maharashtra Cabinet Expansion: महाराष्ट्र में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, फडणवीस को गृह और वित्त

Maharashtra Cabinet Expansion: महाराष्ट्र में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, फडणवीस को गृह और वित्त

Madhya Pradesh News: करंट लगने से शख्स की मौत, तिरंगा लगाते हुए हादसा 

Madhya Pradesh News: करंट लगने से शख्स की मौत, तिरंगा लगाते हुए हादसा 

Independence Day 2022: BJP ने वीडियो जारी कर नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस का पलटवार

Independence Day 2022: BJP ने वीडियो जारी कर नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस का पलटवार

Har Ghar Tiranga: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में बंपर उछाल, 500 करोड़ रु का हुआ व्यापार

Har Ghar Tiranga: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में बंपर उछाल, 500 करोड़ रु का हुआ व्यापार

Polygamy : देश में एक से ज्यादा पत्नियां रखने में कौन आगे ? NFHS के आंकड़ें कर देंगे हैरान

मुसलमानों पर अक्सर बहुविवाह के आरोप लगते रहते हैं. इसके पीछे कुरान और हदीस में चार शादियों की छूट का हवाला दिया जाता है. लेकिन नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (National Family Health Survey) यानी NFHS रिपोर्ट के आंकड़ें कुछ और ही तस्वीर पेश कर रही है.

देश में एक से ज्यादा पत्नियां (Wife) रखने के आरोप भले ही मुसलमानों (Muslim) पर लगते हों. लेकिन आंकड़ें कुछ और ही गवाही दे रहे हैं. नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (National Family Health Survey) यानी NFHS रिपोर्ट के आंकड़ों की मानें तो देश में एक से अधिक पत्नी रखने या शादी करने के मामले में दूसरे समुदाय (Community) के लोग भी पीछे नहीं हैं. मगर निशाने पर अक्सर मुस्लिम समुदाय ही होता है.

इसे भी पढ़ें : Freebies Culture: क्या सियासत की 'रेवड़ी कल्चर' पर लगेगी रोक ? अर्थव्यवस्था को कैसे हो रहा नुकसान जानिए

असल में इसके पीछे आम धारणा यह है कि एक से ज्यादा पत्नी रखना या शादी करना इस्लाम (Islam) में कानून सम्मत है. यहां पुरुषों को एक से ज्यादा और कम से कम चार शादियां करने की छूट है और इसके लिए कुरान (Quran) और हदीस का हवाला दिया जाता है. लेकिन सच्चाई ये नहीं है. कुरान और हदीस में भी ऐसा विशेष परिस्थितियों में ही करने की इजाजत देता है. मतलब साफ है कि वहां भी बंदिशें हैं. लेकिन निशाने पर अक्सर मुस्लिम समुदाय आ जाते हैं. जबकि हकीकत के आईने में कुछ और ही तस्वीर सामने आती है.

मुंबई (Mumbai) के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन स्टडीज (International Institute of Population Studies) के फैकल्टी की तरफ से तीन NFHS सर्वे के आंकड़ों के विश्लेषण में चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं. भारत में बहुविवाह (Polygamy) 2005-06 में 1.9 फीसदी से से घटकर 2019-20 में 1.4 फीसदी रह गया है. यानी हर गुजरते वक्त के साथ इस प्रचलन में गिरावट दर्ज की गई है.

इसे भी पढ़ें : Ranveer Singh के Nude PhotoShoot पर इतना हंगामा क्यों बरपा है ? जानिए अपने सवालों के जवाब

सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक बहुविवाह के लिए सिर्फ धर्म को ही जिम्मेदार मानना कतई ठीक नहीं है. इसके पीछे कई और कारण जिम्मेदार होते हैं. मसलन शिक्षा (Education), जाति (Cast), गरीबी (Poverty) और भौगोलिक परिवेश (Geographical Environment) भी इसमें अहम भूमिका निभाते हैं.

किस धर्म में ज्यादा बहुविवाह ?

अगर धर्म के हिसाब से बात की जाए तो हिंदुओं में बहुविवाह का प्रचलन 1.3 फीसदी, मुसलमानों में 1.9 फीसदी, ईसाई में 2.1 फीसदी, सिख (Sikh) में 0.5 फीसदी, बौद्ध (Buddhist) में 1.3 फीसदी और अन्य में 2.5 फीसदी है. रिपोर्ट के मुताबिक ईसाइयों (Christians) में सबसे ज्यादा बहुविवाह पूर्वोत्तर (North East) राज्यों की वजह से हो सकता है. इन राज्यों में बहुविवाह की प्रथा आम बात है. रिपोर्ट की मानें तो अधिक जनजातीय आबादी वाले नॉर्थ-ईस्ट राज्यों में बहुविवाह करने वाली महिलाओं का अनुपात सबसे ज्यादा है. ये मेघालय (Meghalaya) में 6.1 फीसद से लेकर त्रिपुरा (Tripura) में 2 फीसदी तक है.

इसे भी पढ़ें : Monkeypox कितना खतरनाक? भारत में पहले मरीज का डायग्नोसिस करने वाली डॉ. ऋचा चौधरी से जानिए

किस जाति में ज्यादा बहुविवाह ?

अगर जाति के हिसाब से बात की जाए तो अनुसूचित जनजातियों (Scheduled Tribe) में बहुविवाह की प्रथा सबसे ज्यादा प्रचलित है. हालांकि इन जातियों में बहुविवाह 2019-20 में कम होकर 2.4 फीसदी रह गया है. साल 2005-06 में यह आंकड़ा 3.1 फीसदी था. इसी तरह अनुसूचित जाति (Scheduled Caste) में बहुविवाह 2005-06 में 2.2 फीसदी के मुकाबले 2019-20 में 1.5 फीसदी कम है. इसी तरह ओबीसी (OBC) में बहुविवाह की प्रथा साल 2005-06 में 1.8 फीसदी था. जो 2019-20 में कम होकर 1.3 फीसदी रह गया है. यानी ज्यादा आदिवासी आबादी वाले राज्य में बहुविवाह का प्रचलन सबसे अधिक है.

शिक्षा-गरीबी की भूमिका ?

NFHS-5 रिपोर्ट के मुताबिक अशिक्षित लोगों में बहुविवाह के आंकड़ें 2.4 फीसदी है. प्राइमरी तक शिक्षा (Primary Education) हासिल करने वालों में 2.1 फीसदी, सेकेंडरी तक शिक्षित (Secondary Education) लोगों में 0.9 फीसदी और उच्च शिक्षा (Higher Education) हासिल करने वाले वर्ग में करीब 0.3 फीसदी लोगों में बहुविवाह की प्रथा प्रचलित हैं. इसी तरह आर्थिक (Economic) तौर पर मजबूत लोगों में बहुविवाह का प्रतिशत महज 0.5 है. तो वहीं सबसे गरीब वर्ग में यह आंकड़ा 2.4 है. यानी बहुविवाह के लिए गरीबी भी एक प्रमुख कारण है.

इसे भी पढ़ें : Meta Revenue Drop: WhatsApp बेच सकते हैं Mark Zuckerberg; जाने क्या है वजह

राज्यवार स्थिति क्या है ?

NFHS-5 के आकंड़ों के मुताबिक तेलंगाना, ओडिशा और तमिलनाडु (Telangana, Odisha and Tamil Nadu) जैसे राज्यों में हिंदुओं में बहुविवाह की प्रथा ज्यादा प्रचलित है. वहीं जम्मू-कश्मीर, हरियाणा और पंजाब (Jammu and Kashmir, Haryana and Punjab) जैसे राज्यों में कम है. इसी तरह ओडिशा, असम (Assam), पश्चिम बंगाल (West Bengal) जैसे राज्यों में मुसलमानों के बीच बहुविवाह का प्रचलन अधिक है. तो वहीं जम्मू-कश्मीर, महाराष्ट्र (Maharashtra) और हरियाणा (Haryana) जैसे राज्यों में कम है.

NFHS-5 की रिपोर्ट के मुताबिक ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्यों में हिंदु और मुसलमानों की तुलना में अन्य में बहुविवाह की प्रथा अधिक प्रचलित है. इसी तरह दक्षिणी राज्यों और पूर्व में मसलन बिहार (Bihar), झारखंड (Jharkhand), ओडिशा और पश्चिम बंगाल में उत्तर भारत की तुलना में बहुविवाह का प्रचलन अधिक है.

इसे भी पढ़ें : Life on a Moon: चांद पर इंसानों के लिए बनेगी कॉलोनी, 328 फीट गड्ढे में ऐसे जी पाएंगे लोग!

सर्वे रिपोर्ट की मानें तो कुल मिलाकर, गरीब, अशिक्षा, ग्रामीण और अधिक उम्र वालों में बहुविवाह अधिक पाया गया. रिपोर्ट से ये संकेत भी मिलते हैं कि क्षेत्र और धर्म के अलावा सामाजिक-आर्थिक कारकों ने भी एक से ज्यादा विवाह में अहम भूमिका निभाई है. हालांकि भारत में बहुविवाह का प्रचलन कम था, जो अब लुप्त होने की कगार पर है.

अप नेक्स्ट

Polygamy : देश में एक से ज्यादा पत्नियां रखने में कौन आगे ? NFHS के आंकड़ें कर देंगे हैरान

Polygamy : देश में एक से ज्यादा पत्नियां रखने में कौन आगे ? NFHS के आंकड़ें कर देंगे हैरान

Bihar News: बाहुबली आनंद मोहन का जलवा, पेशी के लिए आए पूर्व सांसद पहुंचे घर

Bihar News: बाहुबली आनंद मोहन का जलवा, पेशी के लिए आए पूर्व सांसद पहुंचे घर

Maharashtra Cabinet Expansion: महाराष्ट्र में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, फडणवीस को गृह और वित्त

Maharashtra Cabinet Expansion: महाराष्ट्र में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, फडणवीस को गृह और वित्त

Independence Day 2022: BJP ने वीडियो जारी कर नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस का पलटवार

Independence Day 2022: BJP ने वीडियो जारी कर नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस का पलटवार

Har Ghar Tiranga: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में बंपर उछाल, 500 करोड़ रु का हुआ व्यापार

Har Ghar Tiranga: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में बंपर उछाल, 500 करोड़ रु का हुआ व्यापार

President Speech: राष्ट्र के नाम संबोधन में बोलीं मुर्मू, '2047 तक सेनानियों के सपनों को साकार कर लेंगे'

President Speech: राष्ट्र के नाम संबोधन में बोलीं मुर्मू, '2047 तक सेनानियों के सपनों को साकार कर लेंगे'

और वीडियो

Siddhu Moosewala: मूसेवाला की हत्या के पीछे कुछ पंजाबी सिंगर और नेता! पिता का दावा- जल्द करेंगे खुलासा

Siddhu Moosewala: मूसेवाला की हत्या के पीछे कुछ पंजाबी सिंगर और नेता! पिता का दावा- जल्द करेंगे खुलासा

Evening News Brief: CM योगी को धमकी देने वाला गिरफ्तार, काहिरा के चर्च में आग लगने से 41 मौत

Evening News Brief: CM योगी को धमकी देने वाला गिरफ्तार, काहिरा के चर्च में आग लगने से 41 मौत

UP ATS को मिली एक और बड़ी कामयाबी, कानपुर से जैश का आतंकी गिरफ्तार

UP ATS को मिली एक और बड़ी कामयाबी, कानपुर से जैश का आतंकी गिरफ्तार

Independence Day 2022: राष्ट्रध्वज तिरंगा को डिस्पोज करने का है खास नियम,  गलती करने से पहले आप भी जान ले

Independence Day 2022: राष्ट्रध्वज तिरंगा को डिस्पोज करने का है खास नियम,  गलती करने से पहले आप भी जान ले

Rakesh jhunjhunwala : झुनझुनवाला ने बच्चों के लिए छोड़ा बड़ी संपत्ति, जानें उनके परिवार बारे में सबकुछ

Rakesh jhunjhunwala : झुनझुनवाला ने बच्चों के लिए छोड़ा बड़ी संपत्ति, जानें उनके परिवार बारे में सबकुछ

Akhilesh Yadav: रामनगरी में तिरंगे का अपमान! कूड़ा गाड़ी से बांटे गए राष्ट्रध्वज...देखें Video

Akhilesh Yadav: रामनगरी में तिरंगे का अपमान! कूड़ा गाड़ी से बांटे गए राष्ट्रध्वज...देखें Video

UP NEWS: बीमार मुलायम सिंह यादव से अस्पताल में मिलने पहुंचे रामगोपाल यादव, गुफ्तगू करते नजर आए दोनों नेता

UP NEWS: बीमार मुलायम सिंह यादव से अस्पताल में मिलने पहुंचे रामगोपाल यादव, गुफ्तगू करते नजर आए दोनों नेता

Rakesh Jhunjhunwala: 5 हजार रुपये से खड़ा किया 40 हजार करोड़ का साम्राज्य, जानिए झुनझुनवाला की कहानी

Rakesh Jhunjhunwala: 5 हजार रुपये से खड़ा किया 40 हजार करोड़ का साम्राज्य, जानिए झुनझुनवाला की कहानी

China : चीन के जासूसी जहाज को श्रीलंका आने की मिली हरी झंडी, भारतीय नौसेना और इसरो को खतरा

China : चीन के जासूसी जहाज को श्रीलंका आने की मिली हरी झंडी, भारतीय नौसेना और इसरो को खतरा

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.