हाइलाइट्स

  • 15 अप्रैल 1469 को हुआ था गुरु नानक देव जी का जन्म
  • सिख धर्म में नानक देव जी ने की लंगर की शुरुआत
  • 22 सितंबर 1539 में हुआ गुरु नानक देव जी का निधन

लेटेस्ट खबर

Ghulam Nabi Azad: गुलाम नबी आजाद ने बनाई नई पार्टी, 'डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी' रखा नाम

Ghulam Nabi Azad: गुलाम नबी आजाद ने बनाई नई पार्टी, 'डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी' रखा नाम

Rohit Sharma के बयान से Rishabh Pant के लिए बजी खतरे की घंटी, Dinesh Karthik को लेकर क्या बोले कप्तान?

Rohit Sharma के बयान से Rishabh Pant के लिए बजी खतरे की घंटी, Dinesh Karthik को लेकर क्या बोले कप्तान?

Chunky Panday के बर्थडे पर बेटी Ananya ने खास अंदाज में किया विश, एक्ट्रेस ने शेयर की पापा संग तस्वीरें

Chunky Panday के बर्थडे पर बेटी Ananya ने खास अंदाज में किया विश, एक्ट्रेस ने शेयर की पापा संग तस्वीरें

'मैं अगले साल वैंकूवर आने के लिए और अधिक उत्सुक हूं', दिग्गज खिलाड़ी Roger Federer ने दिए वापसी के संकेत

'मैं अगले साल वैंकूवर आने के लिए और अधिक उत्सुक हूं', दिग्गज खिलाड़ी Roger Federer ने दिए वापसी के संकेत

BJP Rally: दिल्ली में 16 अक्टूबर को BJP की रैली, QR कोड से होगी कार्यकर्ताओं की एंट्री

BJP Rally: दिल्ली में 16 अक्टूबर को BJP की रैली, QR कोड से होगी कार्यकर्ताओं की एंट्री

Guru Nanak Dev Ji Biography : जब बाबर के आने से पहले अयोध्या पहुंचे थे गुरू नानक देव जी | Jharokha 22 Sep

Guru Nanak Dev Ji Biography : गुरु नानक देव जी सिखों के पहले गुरू और सिख धर्म के संस्थापक हैं. आइए जानते हैं गुरू नानक देव जी के जीवन के बारे में, उनके दिए संदेशों के बारे में इस लेख में...

Guru Nanak Dev Ji Biography : गुरू नानक देव सिखों के पहले गुरु हैं. सिख धर्म के लोग इन्हें नानक, नानक देव जी, बाबा नानक और नानकशाह नामों से संबोधित करते हैं. नानक अपने व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्मसुधारक, समाजसुधारक, कवि, देशभक्त और विश्वबन्धु सभी के गुण समेटे हुए थे. इनका समाधि स्थल गुरुद्वारा ननकाना साहिब पाकिस्तान में स्थित है. आज यानी 22 सितंबर के ही दिन 1539 में नानक देव जी का निधन हुआ था. आज हम इस लेख में उनकी जिंदगी को करीब से जानेंगे...

22 सितंबर 1539 में हुआ गुरु नानक देव जी का निधन

22 सितंबर 1539 को गुरू नानक देवजी देह को त्याग चुके थे. निधन के बाद करतारपुर के उनके निवास पर एक विवाद भी पैदा हो गया. हिंदू शिष्य उनका दाह संस्कार करना चाहते थे और मुस्लिम अनुयायी उन्हें मुस्लिम रीति से दफनाना चाहते थे. ऐसा कहा जाता है कि जब निधन के कुछ देर बाद उनकी चादर हटाई गई तो वहां गुरू का शरीर था ही नहीं, बल्कि वहां कुछ फूल पड़े थे. तब हिंदू और मुस्लिम दोनों ने आधे आधे फूल बांट लिए और उनका अपने अपने तरीकों से अंतिम संस्कार कर दिया. अपनी 5वीं उदासी के दौरान ही गुरू नानक करतारपुर में ही रहने लगे थे.

ये भी देखें- Pandit Shriram sharma: अंग्रेज मारते रहे पर श्रीराम शर्मा ने नहीं छोड़ा तिरंगा

आज की तारीख का संबंध गुरू नानक देव जी से है, जो सिखों के पहले गुरू थे... आज यानी 22 सितंबर के दिन ही 1539 में उनका निधन हुआ था...

15 अप्रैल 1469 को हुआ था गुरु नानक देव जी का जन्म

15 अप्रैल 1469 को सुबह के प्रकाश से पहले कालू बेदी की पत्नी तृप्ता ने एक बच्चे को जन्म दिया. बच्चे ने जन्म लेते ही दाई को हैरान कर दिया था. माता-पिता ने उसके भाग्य का पता लगाने के लिए एक ज्योतिषी को बुलाया. बड़ी बहन का नाम नानकी था तो बेटे का नाम नानक रख दिया गया. परिवार ननकाना शहर में रहता था, जो अब पाकिस्तान में है.

सिख धर्म में नानक देव जी ने की लंगर की शुरुआत

युवावस्था की दहलीज पर खड़े बेटे नानक को एक दिन पिता कल्याण दास जी ने 20 रुपये देकर व्यापार करने के लिए भेजा... रास्ते में बेटे को कुछ भूखे साधु मिले... तब क्या था.... बेटा उन साधुओं को नजदीक के गांव में ले गया और पिता के दिए 20 रुपये से ही भरपेट खाना खिलाया... तब गुरू नानक देव जी द्वारा खर्च किए गए 20 रुपये से लंगर की ऐसी रीति की शुरुआत हुई जो आज तक चल रही है...

15वीं शताब्दी में नानक के संदेश ने किया असर

15वीं शताब्दी का वक्त वह दौर था जब भारत आक्रांताओं के हमले झेल रहा था... भारत की संपदा को लूटने की होड़ मची थी... लोग धन दौलत इकट्ठा करने के लिए बुरे से बुरा काम करने से भी पीछे नहीं थे... तब भारत में नानक देव जी ने वंड छको का संदेश देकर ऊंच नीच, बड़े छोटे, अमीर गरीब के भेदभाव को खत्म करने में अपनी भूमिका निभाई.

गुरू नानक देव जी ने की 5 उदासियां

नानक देव जी ने जीवन में 5 उदासियां की. उदासियां यानि लंबी यात्राएं... इसी उदासी के दौरान वह अयोध्या भी पहुंचे थे... इसका जिक्र सिख धर्म के जानकार राजिंदर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर की सुनवाई के दौरान किया था... अयोध्या फ़ैसले की कॉपी में पेज संख्या 991-995 में सिखों के पहले गुरू. नानक जी का जिक्र किया गया है. एक तरह से ये प्रमुख आधार रहा, जिसका संज्ञान लेते हुए अदालत ने माना कि बाबर के हमले से सालों पहले भी अयोध्या एक तीर्थस्थल था और वहां पूजा-पाठ होते थे.

गुरू नानक देव जी ने की थी अयोध्या की यात्रा

सुनवाई के दौरान राजिंदर सिंह नाम के वकील कोर्ट में पेश हुए थे. यह सिख इतिहासकार हैं और सिख साहित्यों के बड़े विद्वान भी हैं. उन्होंने सिख साहित्य जन्म साखी के आधार पर यह साबित किया कि गुरु नानक देव 1510 में भगवान श्रीराम का दर्शन करने गए थे.

ये भी देखें- Vivekananda Chicago speech 1893 : अमेरिकी विवेकानंद को क्यों कहते थे 'साइक्लोन हिंदू?'

गुरु नानक देव जी ने साल 1510-1511 में अयोध्या में भगवान श्रीराम का दर्शन किया था. गुरु नानक देव साल 1507 (विक्रम संवत 1564) में भद्रपद पूर्णिमा के दिन तीर्थाटन के लिए निकले थे. वह दिल्ली से हरिद्वार होते हुए अयोध्या पहुंचे थे. सुप्रीम कोर्ट ने इस ओर ध्यान भी दिलाया कि जब उनका ये दौरा हुआ, तब तक बाबर ने भारत पर आक्रमण नहीं किया था. राजिंदर सिंह ने सिखों के पवित्र साहित्य ‘जन्म साखी’ का हवाला दिया था...

राजिंदर सिंह ने जन्म साखी और इससे जुड़ी जिन पुस्तकों का हवाला दिया, उनमें

Adhi Sakhies (1701 CE), “Puratan Janam Sakhi Guru Nanak Devji Ki” (1734 CE) creation of Bhai Mani Singh (1644–1734 CE);

“Pothi Janamsakhi: Gyan Ratnawali”, “Bhai Bale Wali Janamsakhi” (1883 CE) creation of Sodhi Manohar Das Meharban (1580–1640);

“Sachkhand Pothi: Janamsakhi Shri Guru Nanak Devji”, creation of Baba Sukhbasi Ram Vedu (8th descendant of Sri Laxmi Chand younger son of Guru Nanak Devji);

“Guru Babak Vansh Prakash (1829 CE);
creation of Shri Tara Hari Narotam (1822–1891 CE);

“Shri Guru Tirath Sangrahi” and famous creation of Gyani Gyan Singh “Tawarikh Guru Khalsa: Part I (1891 CE) etc. शामिल हैं.

ये भी देखें- Mughal Princess Jahanara Begum Biography: औरंगजेब-दारा शिकोह से बड़ा था जहांआरा का रसूक

राजिंदर सिंह ने ‘आदि साखी’, ‘पुरातन जन्म साखी’, ‘पोढ़ी जन्म साखी’ और ‘गुरु नानक वंश प्रकाश’ जैसे पवित्र पुस्तकों का जिक्र करते हुए अपनी बात का सबूत पेश किया. यह भी पता चला कि बाद के दिनों में गुरु तेग बहादुर और गुरु गोविन्द सिंह भी भगवान श्रीराम का दर्शन करने अयोध्या पहुंचे थे.

1858 में राम जन्मभूमि में घुस आए थे निहंग

यहां एक घटना का जिक्र करना बेहद जरूरी है... और यह घटना निहंग सिखों से जुड़ी है. 30 नवंबर, 1858 को अवध के थानेदार ने एक एफआईआर दर्ज की थी. इसमें लिखा गया था कि 25 सिख राम जन्मभूमि में घुस आए और उन्होंने गुरु गोविन्द सिंह का हवन किया. इन सिखों ने जन्मभूमि की दीवारों पर ‘राम-राम’ लिख दिया और कई धार्मिक प्रक्रियाएं पूरी करते हुए लंबी पूजा पाठ की. इस एफआईआर की कॉपी आज भी खूब सर्कुलेट होती रहती है.

सिख धर्म की उत्पत्ति गुरू नानक देव जी से

सिख धर्म की उत्पत्ति 5 शताब्दी पहले गुरु नानक से हुई थी. नानक एक हिंदू परिवार से थे. वह मुस्लिम पड़ोसियों के बीच बड़े हुए. कम उम्र से ही उनमें गहरी आध्यात्मिकता दिखाई देने लगी थी. उन्होंने धार्मिक परंपराओं में हिस्सा लेने से खुद को दूर कर लिया था. नानक ने शादी की और कारोबार भी किया लेकिन ईश्वर और ध्यान के प्रति उनका झुकाव बना रहा. आखिर में नानक एक यात्री बन गए जिन्होंने दुनियाभर में अनेक यात्राएं की. उन्होंने मूर्तिपूजा का बहिष्कार किया.

ये भी देखें- Doordarshan Story: टेलीविजन इंडिया के नाम से शुरू हुआ था दूरदर्शन! जानें चैनल की कहानी

सिख धर्म के प्रथम गुरु गुरुनानक देवी जी के चार शिष्य हुए. ये चारों शिष्य हमेशा बाबाजी के साथ ही रहते थे. बाबाजी ने अपनी लगभग हर उदासी इन चारों के साथ ही की. इन चारों के नाम थे- मरदाना, लहना, बाला और रामदास... मरदाना ने गुरुजी के साथ 28 साल में लगभग दो उपमहाद्वीपों की यात्रा की. इस दौरान उन्होंने तकरीबन 60 से ज्यादा प्रमुख शहरों का भ्रमण किया. जब गुरुजी मक्का की यात्रा पर थे तब मरदाना उनके साथ थे.

मक्का की यात्रा पर भी गए थे गुरू नानक

मक्का में गुरू जी की यात्रा से जुड़ा एक रोचक प्रसंग मिलता है. जब वह मक्का गए तो पवित्र स्थान की ओर पैर करके सो गए. इससे कुछ लोग नाराज हो गए. गुरू जी ने उनसे कहा- आप मेरे पैर को उस दिशा में कर दें जो पवित्र न हो. कहते हैं, जब उनके पांव दूसरी ओर किए गए तो पूरा मक्का उधर घूम गया. यह देख सभी हैरान रह गए. हालांकि इस किस्से का कोई तथ्यात्मक प्रमाण नहीं मिलता है.

उन्‍होंने अपनी मृत्यु से पहले अपने शिष्य भाई लहना को उत्तराधिकारी बनाया, जो आगे चलकर गुरु अंगद देव कहलाए. वे सिखों के दूसरे रा गुरु माने जाते हैं.

चलते चलते 22 सितंबर की दूसरी घटनाओं पर भी एक नजर डाल लेते हैं

1711 - फ्रांसीसी सैनिकों ने रियो डी जनेरियो पर कब्जा किया
1965 - भारत-पाकिस्तान युद्ध का संघर्ष विराम हुआ
1979 - जमीयत-ए-इस्लाम के संस्थापक मौलाना अब्दुल अली मौदूदी का निधन
2011 - मशहूर क्रिकेटर मंसूर अली ख़ान पटौदी (Mansoor Ali Khan Pataudi) का निधन

ये भी देखें- Hindi Diwas : कैसे बनी हिन्दी? कैसे बना भाषा का इतिहास? हिन्दी दिवस पर History of Hindi

अप नेक्स्ट

Guru Nanak Dev Ji Biography : जब बाबर के आने से पहले अयोध्या पहुंचे थे गुरू नानक देव जी | Jharokha 22 Sep

Guru Nanak Dev Ji Biography : जब बाबर के आने से पहले अयोध्या पहुंचे थे गुरू नानक देव जी | Jharokha 22 Sep

Pervez Musharraf Unknown Story: 1965 जंग में मुशर्रफ भी थे शामिल, आज ही हुआ था सीजफायर | Jharokha 23 Sep

Pervez Musharraf Unknown Story: 1965 जंग में मुशर्रफ भी थे शामिल, आज ही हुआ था सीजफायर | Jharokha 23 Sep

Ahsaan Qureshi Interview: 'बंद मुट्ठी लोगों की मदद करते थे राजू भाई', एहसान कुरैशी ने सुनाए किस्से

Ahsaan Qureshi Interview: 'बंद मुट्ठी लोगों की मदद करते थे राजू भाई', एहसान कुरैशी ने सुनाए किस्से

Iran में Hijab पर बवाल... उग्र प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार कौन, हिजाब या तानाशाही?

Iran में Hijab पर बवाल... उग्र प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार कौन, हिजाब या तानाशाही?

Allahabad University: 400% फीस बढ़ोतरी के खिलाफ सड़क पर छात्र... शिक्षा होगी दूर की कौड़ी?

Allahabad University: 400% फीस बढ़ोतरी के खिलाफ सड़क पर छात्र... शिक्षा होगी दूर की कौड़ी?

Bahadur Shah Zafar Biography: 1857 में जफर ने किया सरेंडर और खत्म हो गया मुगल साम्राज्य | Jharokha 21 Sep

Bahadur Shah Zafar Biography: 1857 में जफर ने किया सरेंडर और खत्म हो गया मुगल साम्राज्य | Jharokha 21 Sep

और वीडियो

Explainer: ब्रिटेन में राजपरिवार पर सालाना 1000 करोड़ रु खर्च, लोग बोले- हम क्यों ढो रहे हैं राजशाही?

Explainer: ब्रिटेन में राजपरिवार पर सालाना 1000 करोड़ रु खर्च, लोग बोले- हम क्यों ढो रहे हैं राजशाही?

Chandigarh Hostel Video Leak: बेटियां कैसे रहेंगी सुरक्षित, डिजिटल चुनौतियों का जवाब क्या?

Chandigarh Hostel Video Leak: बेटियां कैसे रहेंगी सुरक्षित, डिजिटल चुनौतियों का जवाब क्या?

Pandit Shriram sharma: अंग्रेज मारते रहे पर श्रीराम शर्मा ने नहीं छोड़ा तिरंगा | Jharokha 20 September

Pandit Shriram sharma: अंग्रेज मारते रहे पर श्रीराम शर्मा ने नहीं छोड़ा तिरंगा | Jharokha 20 September

Vivekananda Chicago speech 1893 : अमेरिकी विवेकानंद को क्यों कहते थे 'साइक्लोन हिंदू?' | Jharokha 19 Sep

Vivekananda Chicago speech 1893 : अमेरिकी विवेकानंद को क्यों कहते थे 'साइक्लोन हिंदू?' | Jharokha 19 Sep

Doordarshan Story: टेलीविजन इंडिया के नाम से शुरू हुआ था दूरदर्शन! जानें चैनल की कहानी | Jharokha 15 Sep

Doordarshan Story: टेलीविजन इंडिया के नाम से शुरू हुआ था दूरदर्शन! जानें चैनल की कहानी | Jharokha 15 Sep

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.