हाइलाइट्स

  • कोरोना से पूरी दुनिया की अर्थव्यस्था तबाह
  • रूस-यूक्रेन युद्ध भी मचा रहा आर्थिक तबाही
  • रूस का बॉयकॉट तो करेंगे, समाधान क्या है?
  • रूस का बॉयकॉट करने पर यूरोप कैसे संभलेगा

लेटेस्ट खबर

VIRAL VIDEO: ट्रेन में बेटिकट बैठे GRP ASI की गुंडई... बुज़ुर्ग TTE ने टोका तो बुरी तरह पीटा

VIRAL VIDEO: ट्रेन में बेटिकट बैठे GRP ASI की गुंडई... बुज़ुर्ग TTE ने टोका तो बुरी तरह पीटा

हैंडसम IAS Athar Khan की 'बेगम' ने रखी कमाल की शर्तें, देखकर लोटपोट हो जाएंगे

हैंडसम IAS Athar Khan की 'बेगम' ने रखी कमाल की शर्तें, देखकर लोटपोट हो जाएंगे

'वर्ल्ड कप स्क्वाड में जगह मिल पाना मुश्किल', Kohli के फॉर्म को लेकर इस पूर्व क्रिकेटर ने बोल दी बड़ी बात

'वर्ल्ड कप स्क्वाड में जगह मिल पाना मुश्किल', Kohli के फॉर्म को लेकर इस पूर्व क्रिकेटर ने बोल दी बड़ी बात

रिकवर होने के बाद पहली बार मीडिया से मुखातिब हुए कप्तान रोहित, उमरान को लेकर किया बड़ा खुलासा

रिकवर होने के बाद पहली बार मीडिया से मुखातिब हुए कप्तान रोहित, उमरान को लेकर किया बड़ा खुलासा

Kullu Rescue Video : कुल्लू में उफनती लहरों के बीच जिंदगी की जंग, देखिए ITBP का रेस्क्यू ऑरपेशन Live...

Kullu Rescue Video : कुल्लू में उफनती लहरों के बीच जिंदगी की जंग, देखिए ITBP का रेस्क्यू ऑरपेशन Live...

Crude Oil: रूस का किया बॉयकॉट तो यूरोप और बाकी दुनिया पर क्या होगा असर?

Impact if Europe cuts off Russian oil: यूरोप भी क्रूड ऑयल के लिए रूस पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए विकल्प तलाश रहा है. आपको जानकर हैरानी होगी कि यूरोप रोजाना रूस को 64,89,46,52,500 रुपये दे रहा है.

Russia-Ukraine War: यूक्रेन पर युद्ध थोपने वाले रूस पर कई सारे आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए हैं. इसके बावजूद रूस, युद्ध नहीं रोक रहा है. सवाल उठ रहा है कि रूस पश्चिमी देशों के प्रतिबंध के बावजूद अपनी अर्थव्यवस्था को कैसे संभाल रहा है. वहीं यूरोप भी क्रूड ऑयल के लिए रूस पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए विकल्प तलाश रहा है. आपको जानकर हैरानी होगी कि यूरोप रोजाना रूस को 850 मिलियन डॉलर यानी कि 64,89,46,52,500 रुपये दे रहा है. हालांकि 27 सदस्यीय यूरोपियन यूनियन के सभी नेता दशकों से तेल और नेचुरल गैस के लिए रूस पर निर्भरता कम करने के लिए रास्ता देख रहे हैं. लेकिन क्या यह इतना आसान होगा? और अगर यूरोप ने रूस का बॉयकॉट किया तो यूरोप के लोगों और बाकी दुनिया पर उसका क्या असर होगा?

एनर्जी के लिए यूरोप रूस को कितने पैसे देता है?

यूरोप रोजाना रूस को 64,89,46,52,500 रुपये दे रहा है
सिर्फ क्रूड ऑयल के लिए खर्च हो रहा है 450 मिलियन डॉलर
गैस के लिए यूरोप रोजाना दे रहा है 400 मिलियन डॉलर
रूस की कमाई का 43 प्रतिशत इनकम सिर्फ तेल और गैस से

यूरोप भले ही इस युद्ध को लेकर रूस की निंदा कर रहा हो लेकिन उनसे धड़ल्ले से गैस और तेल का आयात कर रहा है और इसके बदले में रोजाना 850 मिलियन डॉलर दे भी रहा है. यूरोप रोजाना गैस के बदले 400 मिलियन डॉलर और तेल के बदले 450 मिलियन डॉलर दे रहा है. साल 2011 से 2020 के बीच का आंकड़ा देखें तो रूस की कमाई का 43 प्रतिशत इनकम सिर्फ तेल और गैस से है.


रूस का यूरोप में कितना बड़ा तेल बाजार है इसको समझने के लिए एक बार आंकड़ों पर नजर डालते हैं.

यूरोप, रूस से कितना तेल खरीदता है?

रूस ने साल 2020 में 260 मिलियन टन क्रूड ऑयल बेचा
सिर्फ यूरोप ने 138 मिलियन क्रूड ऑयल की खरीदारी की
यानी कि रूस जितना तेल बेचता है 53% यूरोप के पास जाता है
वहीं यूरोप अपनी जरूरत का एक चौथाई क्रूड ऑयल रूस से लेता है


अगर रूस से तेल लेना बंद कर दें तो क्या होगा?

यूरोप रोजाना 3.8 मिलियन बैरल तेल खरीदता है
रूस के विकल्प के तौर पर हो सकता है मिडिल ईस्ट देश
अमेरिका, लैटिन अमेरिका और अफ्रीका से हो सकता है आयात
सस्ते दामों पर सिर्फ मिडिल ईस्ट देशों से ही मिल सकता है तेल
नए बिजनेस पार्टनर ढूंढ़ने और इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने में लगेगा समय
यूरोप एकदम से तेल लेना बंद कर दे तो होगा भारी नुकसान

रूस-यूक्रेन युद्ध से पहले यूरोप रोजाना 3.8 मिलियन बैरल खरीदता था. ऐसे में अगर नए सिरे से क्रूड ऑयल देनदार देश ढूंढ़ा भी जाए तो विकल्प के तौर पर मिडिल ईस्ट देश हो सकता है. जिनका मौजूदा बाजार एशिया में है. इसके अलावा अमेरिका, लैटिन अमेरिका और अफ्रीका जैसे देशों से ही तेल आयात किया जा सकता है. हालांकि अगर सस्ते दामों पर तेल का विकल्प देखा जाए तो वह मिडिल ईस्ट ही है. हालांकि किसी भी तरह के बदलाव के लिए या नए बाजार विकल्प के लिए समय लगेगा. अचानक से तेल खरीदारी पर रोक लगाने से यूरोप की अर्थव्यवस्था तबाह हो सकती है...

और पढ़ें- Nuclear Bomb Attack: परमाणु बम फटने के बाद क्या होता है, हमले के बाद कैसे बचे?

रूस का बॉयकॉट करने से ग्लोबल मार्केट पर असर

कोरोना महामारी का असर पूरी तरह नहीं हुआ है खत्म
रूस-यूक्रेन युद्ध भी बर्बाद कर रहा है अर्थव्यवस्था
रूस का बॉयकॉट, यूरोप को बुरी तरह करेगा प्रभावित
व्यापार के लिए शिपिंग आदि की व्यवस्था तुरंत नहीं हो सकती
सऊदी अरब ने पहले ही सप्लाई बढ़ाने से किया है मना
कागज पर रूस का बॉयकॉट आसान, असल में भारी परेशानी
क्रूड ऑयल की आपूर्ति को संतुलित करना नहीं होगा आसान

विश्व की अर्थव्यवस्था अभी कोरोना महामारी से जूझना सीख ही रही थी कि रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू हो गया. ऐसे में पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था अभी चरमराई हुई है. वहीं अगर रूस का बॉयकॉट किया तो दुनिया के लिए मौजूदा दौर में और परेशानी खड़ी होगी. शिपिंग और साजो-सामान संबंधी बाधाओं की वजह से रूस के लिए भी यूरोप का पूरा बाजार एशिया की तरफ शिफ्ट करना आसान नहीं होगा.

OPEC oil उत्पादक संघ प्रमुख सऊदी अरब ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि रूस का बॉयकॉट करने की स्थिति में तेल आपूर्ति पहले की तरह बनाए रखने के लिए सप्लाई नहीं बढ़ाया जाएगा... इसके साथ यह भी स्पष्ट नहीं है कि पश्चिमी देशों के प्रतिबंध के बाद भारत और चीन जैसे देशों पर कितना प्रभाव पड़ेगा.

कई जानकारों ने आगाह करते हुए कहा है कि रूस पर प्रतिबंध लगने की स्थिति में कागज पर भले ही हालात सामान्य लग रहे हों लेकिन असल में इतने बड़े स्तर पर क्रूड ऑयल की आपूर्ति को संतुलित करना आसान नहीं होगा. क्योंकि सब कुछ नए सिरे से शुरुआत नहीं की जा सकती है.

बॉयकॉट से रूस को क्या नुकसान?

पश्चिमी देशों के प्रतिबंध के बाद रूस ने कच्चे तेल की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बेंचमार्क के मुकाबले प्रति बैरल 35 डॉलर कम किए हैं. हालांकि इसके बावजूद रूस का नुकसान सीमित है. तेल से रूस की जो भी कमाई हो रही है उससे प्रतिबंधों के बीच रूस ने अपनी अर्थव्यवस्था को संभाले रखा है. जानकारों के मुताबिक जब तक रूसी बैरल को बाजार मिल रहा है, तभी तक उनका व्यापार है. जैसे ही बाजार मिलना बंद होगा, तेल के दाम काफी बढ़ जाएंगे और रूस को भारी आर्थिक नुकसान झेलना होगा.

अप नेक्स्ट

Crude Oil: रूस का किया बॉयकॉट तो यूरोप और बाकी दुनिया पर क्या होगा असर?

Crude Oil: रूस का किया बॉयकॉट तो यूरोप और बाकी दुनिया पर क्या होगा असर?

Todays History, 6th July: गांधी को सबसे पहले राष्ट्रपिता उसने कहा जिससे उनके गहरे मतभेद थे!

Todays History, 6th July: गांधी को सबसे पहले राष्ट्रपिता उसने कहा जिससे उनके गहरे मतभेद थे!

5 July Jharokha: पाकिस्तान के खूंखार तानाशह Zia Ul Haq को पायलट ने मारा या आम की पेटियों में रखे बम ने ?

5 July Jharokha: पाकिस्तान के खूंखार तानाशह Zia Ul Haq को पायलट ने मारा या आम की पेटियों में रखे बम ने ?

Alluri Sitarama Raju: अंग्रेजों की बंदूकों पर भारी थे अल्लूरी सीताराम राजू के तीर, बजा दी थी ईंट से ईंट

Alluri Sitarama Raju: अंग्रेजों की बंदूकों पर भारी थे अल्लूरी सीताराम राजू के तीर, बजा दी थी ईंट से ईंट

Heavy rains: दो दिन की बारिश में खुल गई महानगरों की पोल, बिहार में बदहाली शाप नहीं Trend!

Heavy rains: दो दिन की बारिश में खुल गई महानगरों की पोल, बिहार में बदहाली शाप नहीं Trend!

Udaipur Murder: कन्हैयालाल की हत्या का जिम्मेदार कौन? रियाज-गौस को एक महीने में मिलेगी सजा!

Udaipur Murder: कन्हैयालाल की हत्या का जिम्मेदार कौन? रियाज-गौस को एक महीने में मिलेगी सजा!

और वीडियो

Apple iPhone 1: आज ही बाजार में आया था पहला आईफोन, मच गया था तहलका!

Apple iPhone 1: आज ही बाजार में आया था पहला आईफोन, मच गया था तहलका!

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Black Hole Tragedy: 20 June, Today History- कलकत्ता की इस घटना ने भारत में खोल दिए अंग्रेजी राज के दरवाजे

Black Hole Tragedy: 20 June, Today History- कलकत्ता की इस घटना ने भारत में खोल दिए अंग्रेजी राज के दरवाजे

5 June in History: क्या आप जानते हैं- औरंगजेब ने दिल्ली से लेकर गुवाहाटी तक मंदिर भी बनवाए थे

5 June in History: क्या आप जानते हैं- औरंगजेब ने दिल्ली से लेकर गुवाहाटी तक मंदिर भी बनवाए थे

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

UP Elections 2022: क्या जाति फैक्टर बिगाड़ेगा BJP का खेल?

UP Elections 2022: क्या जाति फैक्टर बिगाड़ेगा BJP का खेल?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

सोतीगंज: उत्तर प्रदेश का 'बदनाम बाज़ार' जिसपर योगी ने जड़ा ताला!

सोतीगंज: उत्तर प्रदेश का 'बदनाम बाज़ार' जिसपर योगी ने जड़ा ताला!

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.