हाइलाइट्स

  • परमाणु बम विस्फोट होने के बाद क्या होता है?
  • परमाणु बम हमले से कैसे बचा जा सकता है?
  • रूस के पास हजारों सामरिक परमाणु हथियार
  • बम फटने पर सूरज से भी तेज चमक दिखती है

लेटेस्ट खबर

USA News:अमेरिका में अश्वेत युवक की हत्या, ट्रैफिक रूल नहीं मानने पर मारी 60 गोलियां

USA News:अमेरिका में अश्वेत युवक की हत्या, ट्रैफिक रूल नहीं मानने पर मारी 60 गोलियां

Petrol-Diesel Price: महाराष्ट्र में सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल, CM एकनाथ शिंदे का बड़ा ऐलान

Petrol-Diesel Price: महाराष्ट्र में सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल, CM एकनाथ शिंदे का बड़ा ऐलान

MooseWala Murder: धरा गया मूसेवाला पर नजदीक से गोलियां दागने वाला अंकित सिरसा, 19 की उम्र में बना हत्यारा

MooseWala Murder: धरा गया मूसेवाला पर नजदीक से गोलियां दागने वाला अंकित सिरसा, 19 की उम्र में बना हत्यारा

PM MODI SECURITY: सुरक्षा में बड़ी चूक, पीएम के हैलीकॉप्टर के पास उड़ाए काले गुब्बारे

PM MODI SECURITY: सुरक्षा में बड़ी चूक, पीएम के हैलीकॉप्टर के पास उड़ाए काले गुब्बारे

Nupur Sharma को लेकर ट्वीट करने पर Akhilesh Yadav फंसे, NCW ने DGP को लिखा पत्र

Nupur Sharma को लेकर ट्वीट करने पर Akhilesh Yadav फंसे, NCW ने DGP को लिखा पत्र

Nuclear Bomb Attack: परमाणु बम फटने के बाद क्या होता है, हमले के बाद कैसे बचे?

How to survive a tactical nuclear bomb: कई लोगों के मन में सवाल उठ रहा होगा कि परमाणु बम विस्फोट होने के बाद क्या होता है और इससे से कैसे बचा जा सकता है. इसे हम तीन चरणों में समझ सकते हैं.

How to survive a tactical nuclear bomb: रूस-यूक्रेन के बीच हो रहा युद्ध (Russia-Ukraine war) अब 56वें दिन में प्रवेश कर चुका है. ऐसे में चर्चा इस बात को लेकर हो रही है कि कहीं रूस, यूक्रेन के खिलाफ परमाणु हथियारों (Nuclear Weapon) का उपयोग तो नहीं करने वाला है. अनुमान के मुताबिक रूस के पास हजारों सामरिक परमाणु हथियार हैं. जो दुनिया का सबसे बड़ा भंडार है. यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने भी बाकी दुनिया से परमाणु खतरे (Nuclear War) को गंभीरता से लेने की अपील की है.

कई लोगों के मन में सवाल उठ रहा होगा कि परमाणु बम विस्फोट होने के बाद क्या होता है और इससे से कैसे बचा जा सकता है. इसे हम तीन चरणों में समझ सकते हैं. Ignition (प्रज्वलन), Blast (विस्फोट) और Radioactive fallout (रेडियोधर्मी फॉलआउट).

Ignition में क्या होता है?
आप आकाश में अचानक एक चमक देखते हैं, जो सूरज की तरह या उससे भी ज्यादा तेज होता है. आप जल्दी से अपना मुंह फेर लेते हैं और छिपने के लिए दौड़ते हैं. चमक अचानक गायब हो जाती है, लेकिन थोड़ी देर बाद फिर से लौट आती है और जारी रहती है.

आग के गोले और शॉक वेव के बीच प्रतिस्पर्धा के कारण दोहरी चमक उभरती है. यह अविश्वसनीय रूप से गर्म और चमकीला हो जाता है, और आप अपने रेटिना को जलने से बचाने के लिए अपनी आंखों को ढांप लेते हैं.

इस दौरान होने वाला तीव्र थर्मल विकिरण भी आपके कपड़ों से गुजरकर आपकी त्वचा को जला देता है. हल्के रंग के कपड़े पहनने या घर के अंदर रहने से इसमें मदद मिल सकती है.

यही नहीं आपको अदृश्य परमाणु विकिरण, जैसे कि गामा किरणें, एक्स-रे और न्यूट्रॉन भी झेलना पड़ेगा. आप सबसे खराब गर्मी और विकिरण से बचने के लिए आश्रय ढूंढते हैं.

तथ्य यह है कि आप इतने लंबे समय तक जीवित बच गए हैं, इसका मतलब है कि आप परिधि पर हैं, ग्राउंड जीरो पर नहीं. लेकिन अगले कुछ सेकंड तक जीवित रहने के लिए, आपको कुछ काम करने होंगे.

विस्फोट की लहर

इसके बाद ब्लास्ट वेव आएगी. इसमें एक ओवरप्रेशर शॉक वेव होती है, जिसके बाद बाहर की तरफ जाती विस्फोटक हवाएं होंगी, जिसमें अक्सर विपरीत हवाएं ग्राउंड ज़ीरो की तरफ लौट आती हैं.

यह विस्फोट की क्षमता और ऊंचाई के आधार पर, एपिकसेंटर से एक निश्चित दायरे के भीतर सभी निर्मित संरचनाओं को नष्ट या क्षतिग्रस्त कर देगा.

और पढ़ें- Russia Ukriane War: रूस ने युद्ध में झोंकी ताकत, पूर्वी यूक्रेन में तेज किए हमले

उदाहरण के लिए, एक 15 किलोटन बम में लगभग 100 मीटर का आग का गोला होगा और एपिकसेंटर के चारों ओर 1.6 किलोमीटर तक के दायरे में पूर्ण विनाश का कारण होगा.


शॉक वेव ध्वनि की गति (लगभग 343 मीटर प्रति सेकंड) की तुलना में तेजी से यात्रा करती है. इसलिए यदि आप भूकंप के केंद्र से एक किलोमीटर दूर हैं, तो आपके पास बचने की जगह खोजने के लिए तीन सेकंड से भी कम समय है. अगर आप पांच किलोमीटर दूर हैं, तो आपके पास 15 सेकंड से कम का समय है.

आपको थर्मल और परमाणु विकिरण से खुद को बचाने की आवश्यकता होगी, क्योंकि इनके संपर्क में आने पर आप मर सकते हैं. हालांकि, आपको कहीं सुरक्षित स्थान ढूंढ लेना चाहिए - क्योंकि आप नहीं चाहेंगे कि आप विस्फोट की लहर से नष्ट हुई इमारत के मलबे तले कुचले जाएं.

किसी इमारत के भीतर और बेहतर हो कि एक मजबूत बंकर या तहखाने में जाएं. यदि आप बिना तहखाने वाले ईंट या कंक्रीट के घर में हैं, तो इमारत का एक मजबूत हिस्सा खोजें.

आने वाली शॉक वेव आंतरिक दीवारों से टकराकर, दबाव को दोगुना कर देगी. इमारत की विस्फोट वाली जगह से बचें और खड़े होने के बजाय लेट जाएं.

यदि कोई कमरा नहीं है, तो आप एक मजबूत मेज के नीचे या पलंग या सोफे के बगल में (नीचे नहीं) लेट सकते हैं. यदि कंक्रीट स्लैब नीचे गिर गया तो आप पलंग या सोफे के नीचे कुचले जा सकते हैं.

दरवाजे, ऊंचे फर्नीचर और खिड़कियों से दूर रहें, क्योंकि वे शायद टूट जाएंगे. यदि दीवारें नीचे आती हैं, तो आपके पास मलबे के बीच बची जगह में जीवित रहने का मौका होगा.

यदि आप एक अपार्टमेंट बिल्डिंग में हैं, तो बिल्डिंग के स्ट्रक्चरल कोर में फायर स्टेयर्स तक दौड़ें.

लकड़ी, फाइबर सीमेंट या पूर्वनिर्मित संरचनाओं से बचें क्योंकि ये शायद टिके नहीं रहेंगे। और जैसे ही ब्लास्ट आता है, अपना जबड़ा खोलें, ताकि आपके ईयरड्रम्स को दोनों तरफ प्रेशर वेव मिले.

और पढ़ें- Bomb Blast in Afghanistan: काबुल के एक स्कूल में सिलसिलेवार 3 धमाके, 20 से ज्यादा बच्चों की मौत

रेडियोधर्मिता होना

तीसरा चरण फॉलआउट है. बम से जहरीले रेडियोधर्मी कणों का एक बादल विस्फोट के दौरान ऊपर उठ जाएगा और हवा में जमा हो जाएगा, जिससे उसके रास्ते में आने वाला सब कुछ दूषित हो जाएगा. यह विस्फोट के बाद के घंटों या संभवत: कुछ दिनों तक जारी रहेगा.

आपको खुद को इसके असर से बचाना होगा, वर्ना आप जीवित नहीं बच पाएंगे.

यदि आप एक स्थिर संरचना जैसे तहखाने या आग लगने की स्थिति में इस्तेमाल की जाने वाली सीढ़ी पर हैं, तो आप जरूरत पड़ने पर, कुछ दिनों के लिए यहां रूक सकते हैं. यदि आपका भवन नष्ट हो गया है, तो आपको पास के किसी सुरक्षित ढांचे में जाने की आवश्यकता होगी.

सभी दरवाजे, खिड़कियां और हवा गुजरने के स्थान को बंद कर दें. आप बिना क्षति वाले पाइप से पानी पी सकते हैं और सीलबंद डिब्बे से खा सकते हैं.

एक बार जब आप आश्रय पा लेते हैं, तो आपको कीटाणुरहित करने की आवश्यकता होगी. इसके लिए त्वचा, नाखूनों और बालों को अच्छी तरह से साफ करने और साफ कपड़े पहनने होंगे. लेकिन सबसे पहले किसी भी गंभीर जलन को ठीक किया जाना चाहिए.

अप नेक्स्ट

Nuclear Bomb Attack: परमाणु बम फटने के बाद क्या होता है, हमले के बाद कैसे बचे?

Nuclear Bomb Attack: परमाणु बम फटने के बाद क्या होता है, हमले के बाद कैसे बचे?

Presidential Election 2022: कौन हैं Draupadi Murmu? जिन्हें NDA ने बनाया राष्ट्रपति उम्मीदवार

Presidential Election 2022: कौन हैं Draupadi Murmu? जिन्हें NDA ने बनाया राष्ट्रपति उम्मीदवार

Eknath Shinde: कौन हैं एकनाथ शिंदे? जिन्होंने महाराष्ट्र की सियासत में ला दिया 'भूचाल'

Eknath Shinde: कौन हैं एकनाथ शिंदे? जिन्होंने महाराष्ट्र की सियासत में ला दिया 'भूचाल'

President Election: भारत में कैसे चुने जाते हैं राष्ट्रपति? आसान शब्दों में समझें उलझी हुई प्रक्रिया

President Election: भारत में कैसे चुने जाते हैं राष्ट्रपति? आसान शब्दों में समझें उलझी हुई प्रक्रिया

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

और वीडियो

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

कौन हैं Justice Suryakant? जिन्होंने पैगंबर मोहम्मद मामले में Nupur Sharma को लगाई कड़ी फटकार

कौन हैं Justice Suryakant? जिन्होंने पैगंबर मोहम्मद मामले में Nupur Sharma को लगाई कड़ी फटकार

Maharashtra में BJP का मास्टरस्ट्रोक! शिंदे को CM बनाकर साध लिए एक तीर से कई निशाने

Maharashtra में BJP का मास्टरस्ट्रोक! शिंदे को CM बनाकर साध लिए एक तीर से कई निशाने

Agnipath Scheme: जवानों को 'साढ़े तीन साल' की मिलेगी नौकरी, सेना को क्या होगा नुकसान?

Agnipath Scheme: जवानों को 'साढ़े तीन साल' की मिलेगी नौकरी, सेना को क्या होगा नुकसान?

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.