हाइलाइट्स

  • यूक्रेन की राजधानी, दिल्ली से 4500 और रूस की राजधानी से 4300 किमी दूर
  • व्यापार की आती है, तो दोनों देश भारत के लिए बेहद अहमियत रखते हैं
  • भारत, दुनिया में सूरजमुखी के तेल का सबसे बड़ा आयातक देश है

लेटेस्ट खबर

Jan Vishwas Yatra: 3 साल में 3 बार शपथ लेने वाले मुख्यमंत्री पर आप करेंगे विश्वास? - तेजस्वी यादव

Jan Vishwas Yatra: 3 साल में 3 बार शपथ लेने वाले मुख्यमंत्री पर आप करेंगे विश्वास? - तेजस्वी यादव

Delhi-Haryana Border: दिल्ली कूच टलने के बाद सिंघू और टीकरी सीमा को आंशिक रूप से खोला गया

Delhi-Haryana Border: दिल्ली कूच टलने के बाद सिंघू और टीकरी सीमा को आंशिक रूप से खोला गया

Watch: फैंस के 'जिम्बाबर' कहने पर आगबबूला हुए Babar Azam, गुस्से में दे डाली बोतल से मारने की धमकी

Watch: फैंस के 'जिम्बाबर' कहने पर आगबबूला हुए Babar Azam, गुस्से में दे डाली बोतल से मारने की धमकी

UP News : कासगंज हादसे में अब तक 24 की मौत, पीएम मोदी ने दुख जताते हुए किया 2-2 लाख मुआवजे का ऐलान

UP News : कासगंज हादसे में अब तक 24 की मौत, पीएम मोदी ने दुख जताते हुए किया 2-2 लाख मुआवजे का ऐलान

IND vs ENG: यशस्वी जायसवाल का एक और बड़ा धमाका, कोहली-गावस्कर की इस खास लिस्ट में हुए शामिल

IND vs ENG: यशस्वी जायसवाल का एक और बड़ा धमाका, कोहली-गावस्कर की इस खास लिस्ट में हुए शामिल

Sandeshkhali: गांव में किसी महिला ने नहीं किया कम्प्लेन, संदेशखाली पहुंचे मंत्री पार्थ भौमिक का बयान

Sandeshkhali: गांव में किसी महिला ने नहीं किया कम्प्लेन, संदेशखाली पहुंचे मंत्री पार्थ भौमिक का बयान

Elephant Viral Video: जब सूंड उठाकर हाथी ने किया Thank You, देखिये दिल छू लेने वाला वीडियो

Elephant Viral Video: जब सूंड उठाकर हाथी ने किया Thank You, देखिये दिल छू लेने वाला वीडियो

Viral Video: दिल्ली मेट्रो में सीट को लेकर दो महिलाओं में हुई हाथापाई, देखिए video

Viral Video: दिल्ली मेट्रो में सीट को लेकर दो महिलाओं में हुई हाथापाई, देखिए video

Ukraine-Russia Crisis : जंग से बिगड़े हालात, तो भारत पर क्या असर होगा?

आइए समझते हैं कि अगर Russia Ukraine Crisis बढ़ता है, तो भारत के लिए कौन से नए संकट उत्पन्न होंगे...

Ukraine-Russia Crisis : जंग से बिगड़े हालात, तो भारत पर क्या असर होगा?

यूक्रेन-रूस (Russia Ukraine Crisis) पर दुनिया दो फाड़ हो जाए, उससे पहले इस भीषण लड़ाई का भारत पर हो सकने वाले संभावित असर का आकलन शुरू हो चुका है. यूक्रेन की राजधानी कीव (Ukraine Capital Kyiv) से भारत की राजधानी नई दिल्ली की दूरी 4500 किलोमीटर से ज्यादा है, जबकि मॉस्को (Russia Capital Moscow) से यह दूरी 4300 किलोमीटर से ज्यादा है. हालांकि, बात जब व्यापार की आती है, तो भारत के लिए रूस और यूक्रेन बराबर की अहमियत के तौर पर दिखाई देते हैं. आइए समझते हैं कि अगर Russia Ukraine Crisis बढ़ता है, तो भारत के लिए कौन से नए संकट उत्पन्न हो सकते हैं...

खाद्य तेल पर असर

भारत, दुनिया में सूरजमुखी के तेल का सबसे बड़ा आयातक देश है. भारत में कुल खपत का 90% सूरजमुखी तेल रूस और यूक्रेन से ही आता है. ऐसे में इस तेल की कीमत बढ़ सकती है. नवंबर-अक्टूबर (तेल सप्लाई वर्ष) 2020-21 में भारत ने कुल 18.93 लाख टन का सूरजमुखी का कच्चा तेल मंगाया. इसमें से 13.97 लाख टन यूक्रेन से अकेले था. अर्जेंटीना से 2.24 लाख टन और रूस से 2.22 लाख टन. ये आंकड़े बताते हैं कि यूक्रेन इस मामले में सबसे बड़ा निर्यातक देश है.

एनर्जी इंपैक्ट

कच्चे तेल की कीमत 7 साल में सबसे उच्चतम स्तर पर हैं, ब्रेंट ऑयल $ 100 के पार पहुंच चुका है. ऐसा 2014 के बाद पहली बार हुआ है. रूस, दुनिया भर में इसका बड़ा सप्लायर है. तेल और गैस की सप्लाई के लिए भी यूरोप, रूस पर ही निर्भर है.

JPMorgan Chase & Co ने भी तेल कीमतों में बढ़ोतरी का अंदेशा जताया था. अगर भारत की बात की जाए तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2022 के बाद मीडिया से बातचीत में कहा था कि रूस-यूक्रेन संकट से कच्चे तेल की कीमत में होने वाली बढ़ोतरी देश की वित्तीय स्थिरता को खतरे में डाल सकती है. सरकार गहराई से इसपर नजर बनाए हुए है.

फार्मा सेक्टर पर असर

यूक्रेन को भारत के मुख्य निर्यात में फार्मा प्रोडक्ट शामिल हैं. जर्मनी और फ्रांस के बाद भारत, यूक्रेन को फार्मा प्रोडक्ट एक्सपोर्ट करने वाला तीसरा सबसे बड़ा है. Ranbaxy, Sun Group और Dr Reddy’s Laboratories जैसी कंपनियों के रेप्रजेंटेटिव ऑफिस यूक्रेन में हैं. इन्होंने वहां Indian Pharmaceutical Manufacturers’ Association (IPMA) भी बनाया हुआ है. युद्ध के किसी भी भीषण हालात में इसपर भी असर होना स्वाभाविक है.

2020 में फार्मा सेक्टर में, भारत, यूक्रेन के लिए 15वां सबसे बड़ा एक्सपोर्टर और दूसरा सबसे बड़ा इंपोर्टर रहा. भारत के लिए इसी वर्ष यूक्रेन 23वां सबसे बड़ा एक्सपोर्टर और 30वां सबसे बड़ा इंपोर्ट मार्केट रहा.

छात्रों पर असर

ऐसे भारतीय छात्र जिन्होंने यूक्रेन में पढ़ाई के लिए वहां कॉलेज की फीस भर दी है और वह इस संकट के बीच फंसे हुए हैं, ऐसे छात्रों का भविष्य, युद्ध के हालात में अनिश्चितता से भर उठना स्वाभाविक है. कुछ दिन पहले ही यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने एडवाइजरी जारी कर भारतीय छात्रों और नागरिकों को देश छोड़ने के लिए कहा था. एडवाइजरी में छात्रों से अस्थायी रूप से यूक्रेन छोड़ने की सलाह दी गई थी.

यूक्रेन में लगभग 18-20 हजार भारतीय छात्र पढ़ाई करते हैं, जबकि रूस में करीब 14 हजार भारतीय. इन दोनों ही देशों में ज्यादातर भारतीय छात्र मेडिकल की पढ़ाई के लिए जाते हैं. छात्र, कई टेक्निकल कोर्स की पढ़ाई भी इन दो देशों में करते हैं.

कीमती स्टोन पर असर

भारत, रूस से मोती, कीमती पत्थर, धातु भी इंपोर्ट करता है. इनमें रेयर स्टोल मेटल भी हैं, जिनका इस्तेमाल फोन और कंप्यूटर की मैन्युफैक्चरिंग में होता है. यदि, भारत को इन सामान की आपूर्ति कम होती है, तो फोन, कंप्यूटर, मोबाइल आदि के दाम बढ़ने स्वाभाविक हैं. बता दें कि भारत पहले ही सेमी कंडक्टर चिप की कमी से जूझ रहा है.

2020 में भारत ने रूस से $877.62 मिलियन के कीमती पत्थर, आदि खरीदे. इसी साल भारत ने लगभग 5700 मिलियन अमेरिकी डॉलर की कीमत के चीज़ें रूस से खरीदी थीं. इनमें, फर्टिलाइजर, मशीनरी, पशु उत्पाद, इलेक्ट्रिक सामान, आदि चीजें हैं. रूस को लेकर कहा जाए तो दोनों देशों के करीब 500 कारोबारी ऐसे हैं, जो चाय, कॉफी, चावल, मसाले के कारोबार से जुड़े हैं.


अप नेक्स्ट

Ukraine-Russia Crisis : जंग से बिगड़े हालात, तो भारत पर क्या असर होगा?

Ukraine-Russia Crisis : जंग से बिगड़े हालात, तो भारत पर क्या असर होगा?

Jan Vishwas Yatra: 3 साल में 3 बार शपथ लेने वाले मुख्यमंत्री पर आप करेंगे विश्वास? - तेजस्वी यादव

Jan Vishwas Yatra: 3 साल में 3 बार शपथ लेने वाले मुख्यमंत्री पर आप करेंगे विश्वास? - तेजस्वी यादव

Delhi-Haryana Border: दिल्ली कूच टलने के बाद सिंघू और टीकरी सीमा को आंशिक रूप से खोला गया

Delhi-Haryana Border: दिल्ली कूच टलने के बाद सिंघू और टीकरी सीमा को आंशिक रूप से खोला गया

UP News : कासगंज हादसे में अब तक 24 की मौत, पीएम मोदी ने दुख जताते हुए किया 2-2 लाख मुआवजे का ऐलान

UP News : कासगंज हादसे में अब तक 24 की मौत, पीएम मोदी ने दुख जताते हुए किया 2-2 लाख मुआवजे का ऐलान

Sandeshkhali: गांव में किसी महिला ने नहीं किया कम्प्लेन, संदेशखाली पहुंचे मंत्री पार्थ भौमिक का बयान

Sandeshkhali: गांव में किसी महिला ने नहीं किया कम्प्लेन, संदेशखाली पहुंचे मंत्री पार्थ भौमिक का बयान

Election Commission: चुनावी वादों को कैसे करेंगे राजनीतिक दल पूरा? जनता को जानने का अधिकार- CEC

Election Commission: चुनावी वादों को कैसे करेंगे राजनीतिक दल पूरा? जनता को जानने का अधिकार- CEC

और वीडियो

UP सरकार की नौकरी देने की नीयत नहीं, पहले क्यों नहीं की कार्रवाई- विपक्ष 

UP सरकार की नौकरी देने की नीयत नहीं, पहले क्यों नहीं की कार्रवाई- विपक्ष 

Haldwani violence: हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक गिरफ्तार, छुप कर बैठा था दिल्ली में

Haldwani violence: हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक गिरफ्तार, छुप कर बैठा था दिल्ली में

Bharat Jodo Nyay Yatra: से जुड़े बीएसपी से निलंबित सांसद दानिश अली, राहुल-प्रियंका से की चर्चा

Bharat Jodo Nyay Yatra: से जुड़े बीएसपी से निलंबित सांसद दानिश अली, राहुल-प्रियंका से की चर्चा

New Criminal Laws: नहीं मिलेगी अब 'तारीख पे तारीख', तीन नए क्रिमिनल लॉ 1 जुलाई से होंगे लागू

New Criminal Laws: नहीं मिलेगी अब 'तारीख पे तारीख', तीन नए क्रिमिनल लॉ 1 जुलाई से होंगे लागू

Bengal: गठबंधन को लेकर दुविधा में TMC, नहीं ले पा रही फैसला - अधीर रंजन 

Bengal: गठबंधन को लेकर दुविधा में TMC, नहीं ले पा रही फैसला - अधीर रंजन 

Uttar Pradesh: यूपी पुलिस कांस्टेबल परीक्षा रद्द होने पर परीक्षार्थी खुश

Uttar Pradesh: यूपी पुलिस कांस्टेबल परीक्षा रद्द होने पर परीक्षार्थी खुश

Uttar Pradesh सरकार का बड़ा फैसला, यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा रद्द

Uttar Pradesh सरकार का बड़ा फैसला, यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा रद्द

Uttar Pradesh में माघ पूर्णिमा पर भीषण एक्सीडेंट, ट्रैक्टर ट्रॉली के तालाब में पलटने से 12 लोगों की मौत

Uttar Pradesh में माघ पूर्णिमा पर भीषण एक्सीडेंट, ट्रैक्टर ट्रॉली के तालाब में पलटने से 12 लोगों की मौत

हमारे बारे में

एडिटरजी भारत में स्थित एक लोकप्रिय वीडियो समाचार और सूचना प्लेटफार्म है. इसकी शुरुआत साल 2018 में भारत के प्रमुख पत्रकारों में से एक, विक्रम चंद्रा, ने की थी, और कुछ ही सालों में एडिटर्जी ने  डिजिटल समाचार की दुनिया में अपनी अलग पहचान बना ली है. ये प्लेटफ़ॉर्म मुख्य रूप से मोबाइल उपकरणों के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें एंड्रॉइड और आईओएस के लिए एप्लिकेशन उपलब्ध हैं.

हमसे संपर्क करें

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.