हाइलाइट्स

हाइपरसोनिक मिसाइलें कैसे काम करती हैं
ईयान बोयड ने समझाया हाइपरसोनिक मिसाइल कैसे काम करती हैं
बताया- हाइपरसोनिक मिसाइलें ग्लोबल सिक्योरिटी के खतरा

लेटेस्ट खबर

IND vs ENG: दूसरे दिन बारिश बनी विलेन, कप्तान बुमराह के दम पर टीम इंडिया ने कसा अंग्रेजों पर शिकंजा

IND vs ENG: दूसरे दिन बारिश बनी विलेन, कप्तान बुमराह के दम पर टीम इंडिया ने कसा अंग्रेजों पर शिकंजा

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान खान गिरफ्तार

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान खान गिरफ्तार

Sleeping Pods at railway station: रेलवे ने शुरू की स्लीपिंग पॉड्स की सर्विस, जानें कैसे होगी बुकिंग

Sleeping Pods at railway station: रेलवे ने शुरू की स्लीपिंग पॉड्स की सर्विस, जानें कैसे होगी बुकिंग

Amarnath Yatra में देवदूतों की तरह उतरे फौजी, चंद घंटों में बन दिया पुल

Amarnath Yatra में देवदूतों की तरह उतरे फौजी, चंद घंटों में बन दिया पुल

Indian Railways: शताब्दी एक्सप्रेस में 20 रुपये की चाय के लिए देने पड़े 70 रुपये! रेलवे ने दी सफाई

Indian Railways: शताब्दी एक्सप्रेस में 20 रुपये की चाय के लिए देने पड़े 70 रुपये! रेलवे ने दी सफाई

How Hypersonic Missiles Works: हाइपरसोनिक मिसाइलें कैसे काम करती हैं?

रूस, चीन और अमेरिका अगली जेनरेशन की जो हाइपरसोनिक मिसाइलें डेवलप कर रहे हैं, वे नेशनल और ग्लोबल सिक्योरिटी के लिए बड़ा खतरा पैदा कर सकती हैं.

रूस ने यूक्रेन के पश्चिमी हिस्से में बने सैन्य डिपो पर 18 मार्च 2022 को हमला करने के लिए हाइपरसोनिक मिसाइल का इस्तेमाल किया. यह बहुत डराने करने वाला लग सकता है, लेकिन रूसी जिस तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह बहुत एडवांस नहीं है. हालांकि, रूस, चीन और अमेरिका अगली जेनरेशन की जो हाइपरसोनिक मिसाइलें डेवलप कर रहे हैं, वे नेशनल और ग्लोबल सिक्योरिटी के लिए बड़ा खतरा पैदा कर सकती हैं.

व्हीकल को हाइपरसोनिक के तौर पर डिस्क्राइब करने का मतलब है कि यह साउंड से भी तेज स्पीड से उड़ान भर सकता है, जो समुद्र तल पर 1,225 किलोमीटर प्रति घंटा और 35 हजार फीट की ऊंचाई पर 1,067 किलोमीटर प्रति घंटा है, जिस पर यात्री विमान उड़ान भरते हैं. यात्री जेट विमान 966 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरते हैं, जबकि हाइपरसोनिक सिस्टम 5,633 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दूरी तय करती है.

हाइपरसोनिक सिस्टम का दशकों से इस्तेमाल किया जा रहा है. साल 1962 में जब अमेरिकी क्रू धरती का चक्कर लगाकर लौटा था, तब उसका विमान वायुमंडल में हाइपरसोनिक स्पीड से दाखिल हुआ था. परमाणु अस्त्रों से लैस दुनिया की सभी अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलें (आईसीबीएम) हाइपरसोनिक हैं, जो 24,140 किलोमीटर प्रति घंटे या 6.4 किलोमीटर प्रति सेकेंड की अधिकतम गति से टारगेट को हिट कर सकती हैं.

आईसीबीएम को एक बड़े रॉकेट से प्रक्षेपित किया जाता है? ऐसी मिसाइलें पहले से तय रास्ते पर उड़ान भरती हैं. पहले वे वायुमंडल से बाहर अंतरिक्ष में जाती हैं और फिर दोबारा वायुमंडल में दाखिल होती हैं.

नई जनरेशन की हाइपरसोनिक मिसाइलें तेज रफ्तार से उड़ान भरती हैं, लेकिन आईसीबीएम जितनी तेज नहीं. इन्हें छोटे रॉकेट से प्रक्षेपित किया जाता है और ये वायुमंडल की ऊपरी परत में ही रहती हैं.

तीन तरह की गैर-आईसीबीएम हाइपरसोनिक मिसाइलें होती हैं, जिनमें एयरो बैलिस्टिक, ग्लाइड व्हीकल और क्रूज मिसाइल शामिल हैं. हाइपरसोनिक एयरो बैलिस्टिक सिस्टम को विमान से गिराया जाता है, जो रॉकेट का इस्तेमाल कर हाइपरसोनिक स्पीड हासिल करती हैं और फिर अपने बैलिस्टिक क्वालिटीज को कॉपी करती है, जिसका मतलब है कि बिना ऊर्जा के रास्ता तय करती है. यूक्रेन के किंझाल में हमले के लिए रूसी बलों ने जिस सिस्टम का इस्तेमाल किया था, वह एयरो बैलिस्टिक मिसाइल थी. इस तकनीक का इस्तेमाल साल 1980 से हो रहा है.

वहीं, हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल को रॉकेट के जरिये ऊंचे स्थान से छोड़ा जाता है और इसके बाद यह सरकते हुए टारगेट की तरफ बढ़ता है और पूरे रास्ते में करतब दिखाता जाता है. हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल के उदाहरणों में चीन का डोंगफेंग-17, रूस का एवानगार्ड और अमेरिकी नौसेना का कंन्वेंशनल प्रॉम्प्ट स्ट्राइक सिस्टम शामिल है. अमेरिकी अधिकारियों ने चिंता जताई है कि चीन की हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल तकनीक अमेरिकी सिस्टम से भी ज्यादा अडवांस है.

इसी तरह, हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल को रॉकेट से हाइपरसोनिक स्पीड दी जाती है और इसके बाद इस स्पीड को बनाए रखने के लिए एयर ब्रीदिंग इंजन का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे स्क्रैमजेट कहा जाता है.

हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइलों के प्रक्षेपण के लिए हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल के मुकाबले छोटे रॉकेट की जरूरत पड़ती है, जिसका अर्थ है कि इन्हें कहीं से भी प्रक्षेपित किया जा सकता है और प्रक्षेपण का खर्च भी काफी कम आता है.

हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइलें चीन और अमेरिका में विकास के क्रम में हैं. खबर है कि अमेरिका ने मार्च 2020 में स्क्रैमजेट हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया था.

देशों द्वारा अगली पीढ़ी के हाइपरसोनिक हथियार बनाने की अहम वजह यह है कि इनकी स्पीड, चंचलता और उड़ान के तरीके की वजह से इनसे बचना मुश्किल है.

अमेरिका ने हाइपरसोनिक हथियारों से बचाव की तकनीक का चरणबद्ध विकास शुरू किया है, जिसमें अंतरिक्ष में सेंसर की सीरीज और अहम साझेदारों से करीबी सहयोग स्थापित करना शामिल है. हालांकि, यह तरीका बहुत खर्चीला हो सकता है और इसे लागू करने में वर्षों लग सकते हैं.

पारंपरिक और गैर-पारंपरिक हथियारों से लैस हाइपरसोनिक मिसाइलें ज्यादा महत्वपूर्ण लक्ष्यों को निशाना बनाने में कारगर हैं, मसलन विमानवाहक पोत. इस तरह के लक्ष्यों को भेद पाने की सूरत में संघर्ष के नतीजों पर उल्लेखनीय प्रभाव पड़ेगा. हालांकि, हाइपरसोनिक मिसाइलें मंहगी होती हैं और बड़े पैमाने पर इनके उत्पादन की संभावना नहीं है.

ये भी पढ़ें: Weekly Tech Update EP6: टेक जगत की Top 5 Updates

अप नेक्स्ट

How Hypersonic Missiles Works: हाइपरसोनिक मिसाइलें कैसे काम करती हैं?

How Hypersonic Missiles Works: हाइपरसोनिक मिसाइलें कैसे काम करती हैं?

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान खान गिरफ्तार

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान खान गिरफ्तार

Sleeping Pods at railway station: रेलवे ने शुरू की स्लीपिंग पॉड्स की सर्विस, जानें कैसे होगी बुकिंग

Sleeping Pods at railway station: रेलवे ने शुरू की स्लीपिंग पॉड्स की सर्विस, जानें कैसे होगी बुकिंग

Amarnath Yatra में देवदूतों की तरह उतरे फौजी, चंद घंटों में बन दिया पुल

Amarnath Yatra में देवदूतों की तरह उतरे फौजी, चंद घंटों में बन दिया पुल

Maharashtra: बागी विधायकों संग मुंबई पहुंचे एकनाथ शिंदे, विधानसभा में साबित करेंगे बहुमत

Maharashtra: बागी विधायकों संग मुंबई पहुंचे एकनाथ शिंदे, विधानसभा में साबित करेंगे बहुमत

Gujarat Riots Case: तीस्ता सीतलवाड़-श्रीकुमार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

Gujarat Riots Case: तीस्ता सीतलवाड़-श्रीकुमार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

और वीडियो

Hyderabad: स्वागत पर संग्राम! PM को लेने पहुंचा एक प्रतिनिधि, सिन्हा के लिए पूरी कैबिनेट...KCR भी पहुंचे

Hyderabad: स्वागत पर संग्राम! PM को लेने पहुंचा एक प्रतिनिधि, सिन्हा के लिए पूरी कैबिनेट...KCR भी पहुंचे

Mathura News: दोस्त को फांसी पर लटकाया, UP Police का सिपाही अरेस्ट

Mathura News: दोस्त को फांसी पर लटकाया, UP Police का सिपाही अरेस्ट

Kanhaiya Lal Murder: कोर्ट परिसर में आरोपियों की धुनाई, 12 जुलाई तक NIA को मिली कस्टडी

Kanhaiya Lal Murder: कोर्ट परिसर में आरोपियों की धुनाई, 12 जुलाई तक NIA को मिली कस्टडी

Remark on Prophet Muhammad: नुपूर शर्मा के खिलाफ लुकआउट नोटिस, जानें क्या होगा इसका असर

Remark on Prophet Muhammad: नुपूर शर्मा के खिलाफ लुकआउट नोटिस, जानें क्या होगा इसका असर

Evening News Brief: नुपूर शर्मा के खिलाफ लुकआउट नोटिस, दिल्ली में ऑटो-टैक्सी किराया बढ़ा... 10 बड़ी खबरें

Evening News Brief: नुपूर शर्मा के खिलाफ लुकआउट नोटिस, दिल्ली में ऑटो-टैक्सी किराया बढ़ा... 10 बड़ी खबरें

Maharashtra: उदयपुर पार्ट-2! नुपूर के समर्थन पर हुई अमरावती के उमेश कोल्हे की हत्या?

Maharashtra: उदयपुर पार्ट-2! नुपूर के समर्थन पर हुई अमरावती के उमेश कोल्हे की हत्या?

Punjab में BJP का मेगाप्लान: अमरिंदर की पार्टी का होगा विलय, कैप्टन को मिलेगी नई कमान!

Punjab में BJP का मेगाप्लान: अमरिंदर की पार्टी का होगा विलय, कैप्टन को मिलेगी नई कमान!

WhatsApp ने बैन किए 19 लाख भारतीय अकाउंट्स, इस वजह से हुई कार्रवाई

WhatsApp ने बैन किए 19 लाख भारतीय अकाउंट्स, इस वजह से हुई कार्रवाई

ALT News को-फाउंडर Mohammad Zubair की जमानत याचिका खारिज, 14 दिन की न्यायिक हिरासत

ALT News को-फाउंडर Mohammad Zubair की जमानत याचिका खारिज, 14 दिन की न्यायिक हिरासत

Udaipur Murder: कन्हैया लाल के हत्यारे को कांग्रेस ने बताया BJP कार्यकर्ता, सबूत के लिए दिखाए FB पोस्ट

Udaipur Murder: कन्हैया लाल के हत्यारे को कांग्रेस ने बताया BJP कार्यकर्ता, सबूत के लिए दिखाए FB पोस्ट

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.