हाइलाइट्स

  • पिछले 32 सालों से सत्ता से बाहर है कांग्रेस
  • जीत के लिए 'खम' फॉर्मूला पर कांग्रेस की नजर
  • आदिवासी इलाकों पर कांग्रेस का फोकस
  • शहरी इलाकों में कमजोर रही है कांग्रेस

लेटेस्ट खबर

Odisha Health Minister Death: ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नब किशोर दास की मौत,  ASI गोपाल दास ने मारी थी गोली

Odisha Health Minister Death: ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नब किशोर दास की मौत,  ASI गोपाल दास ने मारी थी गोली

Odisha Health Minister: मंत्री को गोली मारने वाले ASI की पत्नी का दावा, 'उन्हें कुछ मानसिक परेशानी थी'

Odisha Health Minister: मंत्री को गोली मारने वाले ASI की पत्नी का दावा, 'उन्हें कुछ मानसिक परेशानी थी'

IGI Airport पर 64 लाख रूपये के विदेशी मुद्रा के साथ पकड़ा गया शख्स, बैंकॉक उड़ान भरने की थी तैयारी

IGI Airport पर 64 लाख रूपये के विदेशी मुद्रा के साथ पकड़ा गया शख्स, बैंकॉक उड़ान भरने की थी तैयारी

क्यों रोहित-विराट में से किसी एक को टी-20 फॉर्मेट में खेलते रहना चाहिए, राशिद लतीफ ने बताया कारण

क्यों रोहित-विराट में से किसी एक को टी-20 फॉर्मेट में खेलते रहना चाहिए, राशिद लतीफ ने बताया कारण

Indigo Airlines: इंडिगो एयरलाइंस में एक यात्री ने इमरजेंसी एक्जिट के कवर को हटाने की कोशिश की, FIR दर्ज

Indigo Airlines: इंडिगो एयरलाइंस में एक यात्री ने इमरजेंसी एक्जिट के कवर को हटाने की कोशिश की, FIR दर्ज

Gujarat Election: 32 साल से सत्ता से बाहर है कांग्रेस, यहां समझिए वापसी के लिए क्या है रणनीति और चुनौती ?

Gujarat Election: कांग्रेस (Congress) पिछले 32 सालों से गुजरात की सत्ता से बाहर है, लेकिन उसे इस बार सत्ता वापसी की उम्मीद है. यहां समझिए कांग्रेस का पूरा सियासी समीकरण, उसने चुनाव के लिए रणनीति क्या बनाई है और उसकी कमजोरी क्या है ? 

एक दौर था जब गुजरात की सत्ता पर कांग्रेस (Congress) का दबदबा रहा करता था. लेकिन 1995 के बाद से ही कांग्रेस गुजरात में पिछड़ती चली गई. पार्टी 1995 के बाद से गुजरात में लगातार 6 विधानसभा चुनाव हार चुकी है, हालांकि उसे इस बार सत्ता वापसी की उम्मीद है और ऐसा इसलिए क्योंकि 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी (BJP) को कड़ी टक्कर दी थी. कांग्रेस को 77 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि बीजेपी 99 सीट जीतकर सत्ता बचाने में कामयाब रही थी.

कांग्रेस को मजबूती देता है ये फैक्टर !

दरअसल कांग्रेस पिछले 6 विधानसभा चुनाव में लगातार हारी जरूर है, लेकिन उसकी ताकत ये रही कि उसने 40 फीसदी वोट बैंक पर अपनी पकड़ लगातार बनाए रखी और अगर इस चुनाव में कांग्रेस 'खम' यानि (क्षत्रिय, हरिजन, आदिवासी और मुस्लिम) के वोट लेने में कामयाब हो जाती है, तो वो बीजेपी को कड़ी टक्कर दे सकती है...लिहाजा इस बार भी पार्टी को अपने पारंपरिक वोटर्स (Congress traditional voters) के समर्थन की उम्मीद कर रही है. कांग्रेस को उम्मीद है कि कोली और ठाकोर (koli and thakor voters) जैसे ओबीसी समुदाय, मुस्लिम, अनुसूचित जातियां और जनजातियां उसे समर्थन करेंगी. गौरतलब है कि कांग्रेस कभी KHAM फॉर्मूला के बल न सिर्फ जीतती रही बल्कि जीत का ऐसा रिकॉर्ड बनाया है जो अभी तक नहीं टूटा.

विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की कमजोरी

सूबे में कांग्रेस की कमियों पर अगर नजर डालें, तो उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती है राज्य स्तर पर मजबूत नेताओं की कमी . साथ ही पार्टी की राज्य इकाई की गुटबाजी भी किसी से छुपी नहीं है. कांग्रेस लंबे वक्त से अंदरूनी कलह (congress infighting) से जूझ रही है. वहीं सियासी जानकर मानकर चल रहे हैं कि चुनाव के वक्त पार्टी के सबसे बड़े चेहरे राहुल गांधी 'भारत जोड़ो यात्रा' (Bharat Jodo Yatra) में व्यस्त हैं और गुजरात इकाई को उसके हाल पर छोड़ दिया गया है. ऐसे में पार्टी के कार्यकर्ताओं में उत्साह की कमी भी दिखती है. जो चुनाव में कांग्रेस को नुकसान पहुंचा सकती है. इसके अलावा पार्टी के कई बड़े नेता भी भगवा रंग में रंग चुके हैं.

इसे भी पढ़ें: Gujarat Election: क्या रावण की तरह आपके भी 100 मुंह हैं ? पीएम मोदी को लेकर खड़गे का विवादित बयान

चुनाव के लिए कांग्रेस की रणनीति

बहुत से लोग ये देखकर हैरान हैं, कि राहुल गांधी (Rahul gadhi) इस बार गुजरात में एक्टिव क्यों नहीं हैं, लेकिन सियासी जानकार मानकर चल रहे हैं कि ये कांग्रेस की रणनीति का एक अहम हिस्सा है. पिछले चुनावों में देखा गया है कि मुकाबला मोदी वर्सेस राहुल (Modi Vs Rahul) होता रहा है और मोदी (Modi) की मजबूत छवि में राहुल कहीं ना कहीं दब जाते हैं. इसीलिए इस बार कांग्रेस ने रणनीति बदलते हुए पड़ोसी राज्य राजस्थान मॉडल को सामने रखकर चुनाव प्रचार की कमान राजस्थान के सीएम और अनुभवी नेता अशोक गहलोत को सौंपी. वहीं कांग्रेस आदिवासी और ग्रामीण इलाकों में छोटी-छोटी सभाएं कर रही है. इन सभाओं में बीजेपी की महंगी रैलियों का जिक्र किया जा रहा है. बिलकिस बानो, मोरबी पुल हादसा और महंगाई जैसे मुद्दों को उठाया जा रहा है. दरअसल कांग्रेस इन आदिवासी इलाकों की करीब 27 रिजर्व सीटों पर बीजेपी से हमेशा आगे रही है और उसे इस बार ज्यादा बढ़त की उम्मीद है. कांग्रेस ये भी मानकर चल रही है कि आम आदमी पार्टी के आने से बीजेपी को नुकसान हो सकता है, जिसका फायदा उसे मिल सकता है.

कांग्रेस के सामने ये बड़ी चुनौती

कांग्रेस की पकड़ ग्रामीण और आदिवासी इलाकों में रही है, वहीं बीजेपी शहरी इलाकों में मजबूत है. यही वजह है कि कांग्रेस के लिए चुनाव में शहरी मतदाताओं को साथ लाना एक बार फिर बड़ी चुनौती है. ऐसी करीब 66 प्रतिशत शहरी विधानसभा सीटें हैं, जिन्हें कांग्रेस पिछले 30 सालों से नहीं जीत सकी है और यही सीटें बीजेपी को हर बार मजबूती देती हैं.

यहां भी क्लिक करें: Gujarat Election: PM के दौरे के बीच बीजेपी को झटका, पूर्व केंद्रीय मंत्री बेटे के साथ कांग्रेस में शामिल

अप नेक्स्ट

Gujarat Election: 32 साल से सत्ता से बाहर है कांग्रेस, यहां समझिए वापसी के लिए क्या है रणनीति और चुनौती ?

Gujarat Election: 32 साल से सत्ता से बाहर है कांग्रेस, यहां समझिए वापसी के लिए क्या है रणनीति और चुनौती ?

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

और वीडियो

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

Haldwani Encroachments: क्या हल्द्वानी में 50 हजार लोग होंगे बेघर? कड़ाके की ठंड में सड़क पर उतरे लोग

Haldwani Encroachments: क्या हल्द्वानी में 50 हजार लोग होंगे बेघर? कड़ाके की ठंड में सड़क पर उतरे लोग

Shri Krishna Janmabhoomi Dispute : क्या है श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह मस्जिद विवाद, यहां जानें...

Shri Krishna Janmabhoomi Dispute : क्या है श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह मस्जिद विवाद, यहां जानें...

Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी को ठंड क्यों नहीं लगती ? ये रहा जवाब

Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी को ठंड क्यों नहीं लगती ? ये रहा जवाब

Arctic Blast USA: क्या है आर्कटिक ब्लास्ट? जिसकी वजह से 'तबाह' हुआ अमेरिका !

Arctic Blast USA: क्या है आर्कटिक ब्लास्ट? जिसकी वजह से 'तबाह' हुआ अमेरिका !

Vikram-S: देश का पहला निजी रॉकेट विक्रम-S लॉन्च, दो दोस्तों ने रच दिया इतिहास...जानें क्या है खास?

Vikram-S: देश का पहला निजी रॉकेट विक्रम-S लॉन्च, दो दोस्तों ने रच दिया इतिहास...जानें क्या है खास?

Workplace Harassment: ऑफिस में सहकर्मियों के इरादे नेक नहीं, दफ्तर में बे-आबरू हो रहीं महिलाएं!

Workplace Harassment: ऑफिस में सहकर्मियों के इरादे नेक नहीं, दफ्तर में बे-आबरू हो रहीं महिलाएं!

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.