हाइलाइट्स

  • अग्निपथ स्कीम के तहत साढ़े तीन साल की नौकरी
  • प्रति माह 30 से 40 हजार रुपये तक की होगी सैलरी
  • सैनिकों को 'अग्निवीर स्किल सर्टिफिकेट' भी मिलेगा

लेटेस्ट खबर

Maharashtra में BJP का मास्टरस्ट्रोक! शिंदे को CM बनाकर साध लिए एक तीर से कई निशाने

Maharashtra में BJP का मास्टरस्ट्रोक! शिंदे को CM बनाकर साध लिए एक तीर से कई निशाने

Cylinder Price Cut: कमर्शियल LPG सिलेंडर के घटे दाम, जानिए अपने शहर में नया रेट...

Cylinder Price Cut: कमर्शियल LPG सिलेंडर के घटे दाम, जानिए अपने शहर में नया रेट...

Maharastra CM: Eknath Shinde के नाम का ऐलान होते ही जश्न में डूबे विधायक, मराठी गानों पर खूब झूमे

Maharastra CM: Eknath Shinde के नाम का ऐलान होते ही जश्न में डूबे विधायक, मराठी गानों पर खूब झूमे

Payal-Sangram Wedding: शादी के दिन संग्राम और पायल करेंगे ऐसा काम कि पेश हो जाएगी मिसाल, ये होगा खास

Payal-Sangram Wedding: शादी के दिन संग्राम और पायल करेंगे ऐसा काम कि पेश हो जाएगी मिसाल, ये होगा खास

Today's History: जिन अमेरिकी पैंटन टैंक पर इतरा रहा था पाक, Abdul Hamid ने उन्हें मिट्टी में मिला दिया था

Today's History: जिन अमेरिकी पैंटन टैंक पर इतरा रहा था पाक, Abdul Hamid ने उन्हें मिट्टी में मिला दिया था

Agnipath Scheme: जवानों को 'साढ़े तीन साल' की मिलेगी नौकरी, सेना को क्या होगा नुकसान?

अग्निपथ स्कीम (Agnipath Scheme) के तहत साढ़े तीन साल की नौकरी में सैनिकों को प्रति माह 30 हजार से 40 हजार रुपये तक की सैलरी दी जाएगी. इसके अलावा सैनिकों को 'अग्निवीर स्किल सर्टिफिकेट' भी मिलेगा.

Agnipath Scheme: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 4 साल के लिए सैनिकों की भर्ती वाली 'अग्निपथ' स्कीम का ऐलान किया है. सरकार को भरोसा है कि इस योजना के आने से देश को विश्व की बेहतरीन सेना मिलेगी और युवाओं को भी रोजगार का अवसर मिलेगा. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि इस स्कीम से सेनाओं के पास युवा शक्ति होगी. वहीं अग्निवीर सेवा के दौरान सर्वोच्च बलिदान पर परिवार को करोड़ रुपये की राशि दी जाएगी, जबकि दिव्यांग होने की स्थिति में 48 लाख रुपये की राहत राशि मिलेगी.

अधिकारियों के मुताबिक अग्निपथ मॉडल के तहत सेना में (PBOR) रैंक से नीचे के अधिकारियों की भर्ती होगी. 4 साल की सेवा में 6 महीने की ट्रेनिंग भी है. यानी अग्निपथ स्कीम के तहत साढ़े तीन साल की नौकरी में सैनिकों को प्रति माह 30 हजार से 40 हजार रुपये तक की सैलरी दी जाएगी. इसके अलावा सैनिकों को 'अग्निवीर स्किल सर्टिफिकेट' भी मिलेगा. अधिकारियों का कहना है कि इस सर्टिफिकेट से जवानों को साढ़े तीन साल बाद अन्य नौकरी हासिल करने में मदद मिलेगी. हालांकि अग्निवीर ग्रेच्युटी और पेंशन संबंधी लाभों के हकदार नहीं होंगे.

सरकार की स्कीम का विरोध क्यों?

रक्षा विशेषज्ञ पीके सहगल ने आजतक से बातचीत के दौरान सरकार की इस स्कीम को बेहद खराब बताते हुए कई गंभीर सवाल खड़े किए हैं.

- 46 हजार लोगों को एक साथ भर्ती किया जाएगा, लेकिन चार साल बाद होंगे निराश
- आर्मी या दूसरी फोर्सेस से रिटायर होने पर भी गार्ड की नौकरी ही मिलती है, कॉर्पोरेट वर्ल्ड भी नहीं लेता
- इन अग्निवीरों को आसानी से किया जा सकता है रेडिकलाइज, देश के लिए साबित हो सकते हैं चुनौती
- 4 साल बाद अग्निवीरों को लगेगा कि उनका इस्तेमाल किया, सर्टिफिकेट पकड़ाया और फेंक दिया
- रिटायर होने वाले आर्मी, एयरफोर्स या नेवी जवानों में से 1 या 2% को ही मिलती है नौकरी
- आर्मी में बेहतर जवान को तैयार होने में लगते हैं 7-8 साल, अग्निवीर 6 महीने में कैसे होंगे ट्रेंड
- अग्निवीर जवानों को हमेशा अपने परिवार की चिंता होगी, वह 3-4 साल पूरा करने की फिराक में रहेगा
- 15 साल नौकरी होगी तभी कोई जान हथेली पर रख कर युद्ध लड़ेगा

ये भी पढ़ें| Petrol Diesel Crisis: कई राज्यों में बंद हो सकते हैं पेट्रोल पंप, जानिए क्यों आई तालाबंदी की नौबत?

वहीं लेफ्टिनेंट जनरल शंकर प्रसाद ने आजतक से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार को भले ही इस स्कीम में पैसे का फायदा दिख रहा हो. लेकिन इससे देश की सुरक्षा को बड़ा खतरा हो सकता है. हम युद्ध जीतने के लिए फौज तैयार करते हैं. युद्ध में हम रनर अप नहीं बन सकते हमें विनर बनना पड़ेगा, तभी देश की सुरक्षा की जा सकती है.

रक्षा विशेषज्ञ ब्रिगेडियर (रिटा.) वी. महालिंगम ने कहा कि मेहमान सैनिकों (Guest Soldiers) के दम पर कोई सेना युद्ध नहीं जीत सकती. ये एक बड़ी गलती है. सरकार दो तरह की गलतफहमियों में जी रही है. एक ये कि उनके पास पर्याप्त जवान हैं, दूसरी ये कि किसी युद्ध में बड़ा प्रभाव हथियार पैदा करते हैं.

BIG NEWS: यहां CLICK कर देखें हर बड़ी खबर

अप नेक्स्ट

Agnipath Scheme: जवानों को 'साढ़े तीन साल' की मिलेगी नौकरी, सेना को क्या होगा नुकसान?

Agnipath Scheme: जवानों को 'साढ़े तीन साल' की मिलेगी नौकरी, सेना को क्या होगा नुकसान?

Presidential Election 2022: कौन हैं Draupadi Murmu? जिन्हें NDA ने बनाया राष्ट्रपति उम्मीदवार

Presidential Election 2022: कौन हैं Draupadi Murmu? जिन्हें NDA ने बनाया राष्ट्रपति उम्मीदवार

Eknath Shinde: कौन हैं एकनाथ शिंदे? जिन्होंने महाराष्ट्र की सियासत में ला दिया 'भूचाल'

Eknath Shinde: कौन हैं एकनाथ शिंदे? जिन्होंने महाराष्ट्र की सियासत में ला दिया 'भूचाल'

President Election: भारत में कैसे चुने जाते हैं राष्ट्रपति? आसान शब्दों में समझें उलझी हुई प्रक्रिया

President Election: भारत में कैसे चुने जाते हैं राष्ट्रपति? आसान शब्दों में समझें उलझी हुई प्रक्रिया

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Exit Poll Results 2022: जानें कब कब गलत साबित हुए एग्जिट पोल?

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

Elections 2022: जानें क्या है Exit Poll और Opinion Poll ? ये रही पूरी ABCD

और वीडियो

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : 2nd Phase की वोटिंग को समझिए

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

UP Elections 2022 : दूसरे चरण में इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

छात्र आंदोलन में FIR झेलने वाले Khan Sir को कितना जानते हैं आप?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections: अयोध्या-मथुरा छोड़ योगी ने क्यों चुनी गोरखपुर सदर सीट?

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

UP Elections 2022 : 35 सालों की 'टाइम मशीन'!

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

Bulli Bai ऐप और Sulli Deals: अब तक हुआ क्या-क्या, पूरी जानकारी यहां लें

CM Custody Process: किसी भी राज्य के सीएम को हिरासत में कैसे लिया जा सकता है? जानें पूरी प्रक्रिया

CM Custody Process: किसी भी राज्य के सीएम को हिरासत में कैसे लिया जा सकता है? जानें पूरी प्रक्रिया

Nupur Sharma Career: कैसा है नूपुर शर्मा का राजनीतिक करियर? कैसे ABVP और BJP में आगे बढ़ीं, जानें

Nupur Sharma Career: कैसा है नूपुर शर्मा का राजनीतिक करियर? कैसे ABVP और BJP में आगे बढ़ीं, जानें

National Herald Case: जिस केस में सोनिया-राहुल को ED ने भेजा समन, आसान भाषा में समझें क्या है?

National Herald Case: जिस केस में सोनिया-राहुल को ED ने भेजा समन, आसान भाषा में समझें क्या है?

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.