हाइलाइट्स

  • 19 अक्टूबर 1870 को हुआ था मातंगिनी हाजरा का जन्म
  • 1932 में स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुईं मातंगिनी हाजरा
  • मातंगिनी हाजरा को लोग कहने लगे थे बूढ़ी गांधी

लेटेस्ट खबर

 Shraddha Murder Case: आफताब पर जानलेवा हमला, FSL रोहिणी के बाहर की घटना

Shraddha Murder Case: आफताब पर जानलेवा हमला, FSL रोहिणी के बाहर की घटना

Delhi Murder Case: लव, सेक्स और धोखे से भरी है पांडव नगर हत्याकांड की वारदात 

Delhi Murder Case: लव, सेक्स और धोखे से भरी है पांडव नगर हत्याकांड की वारदात 

Shraddha Murder Case: शव के टुकड़े करने में इस्तेमाल हथियार बरामद, श्रद्धा की अंगूठी भी मिली

Shraddha Murder Case: शव के टुकड़े करने में इस्तेमाल हथियार बरामद, श्रद्धा की अंगूठी भी मिली

UP News: योगी सरकार ने शिवपाल की सुरक्षा घटाई, अखिलेश से नजदीकी बनी वजह

UP News: योगी सरकार ने शिवपाल की सुरक्षा घटाई, अखिलेश से नजदीकी बनी वजह

Evening News Brief: दिल्ली में श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और वारदात...ऋतुराज ने एक ओवर में जड़ दिए 7 छक्के

Evening News Brief: दिल्ली में श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और वारदात...ऋतुराज ने एक ओवर में जड़ दिए 7 छक्के

Old Lady Gandhi Matangini Hazra : गोली लगने के बाद भी मातंगिनी ने नहीं छोड़ा तिरंगा | Jharokha 29 Sep

Old Lady Gandhi Matangini Hazra : स्वतंत्रता सेनानी मातंगिनी हाजरा को कितना जानते हैं आप? आइए आज जानते हैं भारत की बूढ़ी गांधी यानी मातंगिनी हाजरा के बारे में इस लेख में

Old Lady Gandhi Matangini Hazra : मातंगिनी हाजरा कौन थी और क्यों उन्हें बूढ़ी गांधी के नाम से जाना जाने लगा? भारतीय स्वाधीनता आंदोलन की नायिका मातंगिनी की जिंदगी को जानते हैं करीब से इस लेख में.

1932 में स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुईं मातंगिनी हाजरा

1932 में स्वाधीनता आंदोलन (Freedom Struggle of India) के दौरान जब देश के अलग अलग हिस्सों में यात्राएं निकाली जा रही थी. बंगाल प्रांत के मिदनापुर में तामलुक में भी ब्रिटिश शासन के खिलाफ ऐसी ही एक यात्रा निकाली गई.

जब ऐसा एक जुलूस 62 साल की बूढ़ी महिला के घर के पास से निकला, तो मानों आजादी के जज्बे ने उसकी उम्र का असर फीका कर दिया. महिला ने बंगाली परंपरा के अनुसार शंख ध्वनि से जुलूस का स्वागत किया और उसके साथ चल दी. सड़क किनारे एक झोपड़ी में अकेली रहने वाली ये महिला यात्रा से ऐसी जुड़ी कि इसने उसकी जिंदगी बदल डाली. महिला ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा.

मातंगिनी हाजरा को लोग कहने लगे थे बूढ़ी गांधी

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के आह्वान पर, उन्होंने बाद में हर सत्याग्रह में भाग लेना शुरू कर दिया. इस महिला ने नमक कानून तोड़ा और उसे 6 महीने की जेल हुई. जब तक वह जेल से बाहर आई, वह देशप्रेम से भरी ऐसी स्वतंत्रता सेनानी बन गई थी कि क्षेत्र के लोग उसे बूढ़ी गांधी (बुजुर्ग गांधी) कहने लगे थे.

ये भी देखें- Kirloskar Group Success Story: मशीनों के महारथी थे Laxmanrao, ऐसे बनाई अरबों की कंपनी

ये महिला थीं मातंगिनी हाजरा... 29 सितंबर 1942 को 71 साल की उम्र में मतंगिनी हाजरा देश के लिए कुर्बान हो गई थीं...

71 साल की उम्र आते आते ज्यादातर लोगों को चलने फिरने के लिए दूसरे के सहारे की जरूरत होती है लेकिन देशभक्ति का जज्बा वो ताकत है, जो इंसान को इस उम्र में भी नई ऊर्जा दे देता है. जहां ज्यादातर लोग इस पड़ाव पर बिस्तर और कमरे में कैद हो जाते हैं.

वहीं, एक गरीब विधवा महिला ने इस उम्र में स्वाधीनता का ऐसा बिगुल बजाया कि अंग्रेजों के छक्के छूट गए. अपने क्षेत्र में उन्होंने आंदोलन की कमान थामी, तिरंगा हाथ में लिया और 72 साल की होते-होते अपनी जान की बाजी लगा दी. वे पूरी तरह से गांधीवादी बन गईं.

एक चरखा ले लिया, खादी पहनने लगीं और तन-मन से लोगों की सेवा में ऐसी जुट गई की बूढ़ी गांधी के नाम से मशहूर हो गईं.

19 अक्टूबर 1870 को हुआ था मातंगिनी हाजरा का जन्म

बंगाल के मिदनापुर जिले के होगला गांव में 19 अक्टूबर 1870 को जन्म हुआ था मातंगिनी हाजरा (Matangini Hazra) का... उन्हें बाल विवाह का दंश झेलना पड़ा. घोर गरीबी की वजह से सिर्फ 12 साल की उम्र में उनकी शादी गांव अलीनाम के 62 साल के विदुर त्रिलोचन हाजरा (Trilochan Hazra) से हो गई. मातंगिनी जब 18 साल की हुईं तब निस्संतान ही बाल विधवा हो गई. एक बार अगर हम इस पीड़ा के बारे में सोचकर भी देखें तो दर्द से सांसे मानों रुक जाती हैं.

पति की मौत के बाद सौतेले बच्चों ने उन्हें कभी स्वीकार नहीं किया. वे नजदीकी शहर तामलुक (Tamluk) में एक झोपड़ी बनाकर रहने लगीं और लोगों के घरों में काम करने लगीं. ऐसे ही अकेले रहते रहते उनकी जिंदगी के 44 साल बीत गए.

जेल जाने से पहले, मतंगिनी स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में ज्यादा नहीं जानती थी, लेकिन वह भारत में अंग्रेजों के हो रहे अत्याचार से वाकिफ थीं. 1930 से 1942 के बीच सबकुछ बदल गया. 17 जनवरी, 1933 को ‘करबन्दी आंदोलन’ को दबाने के लिए बंगाल के तब के गर्वनर एंडरसन तामलुक आये, तो उनके विरोध में कई प्रदर्शन हुए.

वीरांगना मातंगिनी हाजरा सबसे आगे काला झंडा लिये डटी थीं. वह ब्रिटिश शासन के विरोध में नारे लगाते हुई दरबार तक पहुंच गईं. इस पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और छह माह का सश्रम कारावास देकर मुर्शिदाबाद जेल में कैद कर दिया.

1932 से 1942 तक मतंगिनी स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुईं

1932 से 1942 तक मतंगिनी ने क्षेत्र में क्रांति की मशाल जला दी. उनके लगातार सत्याग्रह और धरने ने ब्रिटिश अधिकारियों के लिए चुनौतियां पैदा कर दीं.

1935 में तामलुक क्षेत्र भीषण बाढ़ के साथ ही हैजा और चेचक महामारियों की गिरफ्त में आ गया. तब मातंगिनी ने जान की परवाह न करते हुए राहत कार्य किया और रोगियों की सेवा में जुटी रहीं. बुढ़ापा, दुर्बलता और निर्धनता उनके काम में कोई बाधा खड़ी न कर सके.

तब महामारी ऐसी थी कि चारों ओर मुर्दों का ढेर और चीत्कार ही दिखाई देते थे. प्रशासन इसे नियंत्रित कर पाने में नाकाम रहा. चारों ओर त्राहि त्राहि मची रही.

1942 में जब ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ (Bharat Chodo Andolan) ने जोर पकड़ा, तो मातंगिनी उसमें कूद पड़ीं. 1942 में, 71 साल की उम्र में, मातंगिनी ने तामलूक में आंदोलन की कमान संभाली. 8 सितम्बर को तामलुक में हुए एक प्रदर्शन में पुलिस की गोली से तीन स्वाधीनता सेनानी मारे गये. लोगों ने इसके विरोध में 29 सितम्बर को और भी बड़ी रैली निकालने का फैसला किया. इसके लिये मातंगिनी ने गांव-गांव घूमकर रैली के लिए 5,000 लोगों को तैयार किया.

तब भारत में ब्रिटिश राज के अंत की घोषणा करने के लिए मिदनापुर के सभी सरकारी कार्यालयों और पुलिस स्टेशनों पर तिरंगा फहराने का फैसला लिया गया.

29 सितंबर 1942 को तामलुक पुलिस थाने की ओर एक बड़ा जुलूस निकला. इसमें लगभग 6,000 लोग शामिल थे. ज्यादातर महिलाएं थीं. पुलिस ने उन्हें चेतावनी दी और कई लोगों को पीछे हटने के लिए मजबूर भी किया लेकिन मातंगिनी अड़ी रहीं. जुबां पर वंदे मातरम गाते हुए वह तिरंगा पकड़े चल रही थी.

सब दोपहर में सरकारी डाक बंगले पर पहुँच गये. तभी पुलिस की बन्दूकें गरज उठीं. मातंगिनी एक चबूतरे पर खड़ी होकर नारे लगवा रही थीं. एक गोली उनके बायें हाथ में लगी. उन्होंने तिरंगे झण्डे को गिरने से पहले ही दूसरे हाथ में ले लिया. तभी दूसरी गोली उनके दाहिने हाथ में और तीसरी उनके माथे पर लगी. मातंगिनी वहीं शहीद हो गईं.

इस गोलीकांड में मातंगिनी के अलावा लक्ष्मी नारायण दास, पुरीमाधव प्रमाणिक, नागेंद्रनाथ सामंत और जीवन चंद्रवंश भी शहीद हुए.

इस बलिदान से पूरे क्षेत्र में इतना जोश उमड़ा कि दस दिन के अन्दर ही लोगों ने अंग्रेजों को खदेड़कर वहाँ स्वाधीन सरकार स्थापित कर दी, जिसने 21 महीने तक काम किया.

ये भी देखें- Bahadur Shah Zafar Biography: 1857 में जफर ने किया सरेंडर और खत्म हो गया मुगल साम्राज्य

दिसम्बर, 1974 में भारत की प्रधानमन्त्री इन्दिरा गान्धी ने अपने प्रवास के समय तामलुक में मांतगिनी हाजरा की मूर्ति का अनावरण कर उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये.

13 लाख की जनसंख्या वाले तामलुक शहर में 17 दिसंबर 1974 को भारत में तब की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने मातंगिनी हाजरा की मूर्ति का अनावरण कर उनके त्यागमय जीवन के आदर्शों को नई पहचान दी.

चलते चलते 29 सितंबर को हुई दूसरी घटनाओं पर एक नजर डाल लेते हैं

1650 - इंग्लैंड में पहले मैरिज ब्यूरो (First Marriage Beuro) की शुरुआत हुई

1932 - मशहूर कॉमेडी ऐक्टर महमूद (Comedy Actor Mehmood) का जन्म हुआ

1725 - भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के पहले गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव (Robert Clive) का जन्म

2017- भारतीय सिनेमा के ऐक्टर टॉम ऑल्टर (Tom Alter) का निधन हुआ

अप नेक्स्ट

Old Lady Gandhi Matangini Hazra : गोली लगने के बाद भी मातंगिनी ने नहीं छोड़ा तिरंगा | Jharokha 29 Sep

Old Lady Gandhi Matangini Hazra : गोली लगने के बाद भी मातंगिनी ने नहीं छोड़ा तिरंगा | Jharokha 29 Sep

Delhi Murder Case: लव, सेक्स और धोखे से भरी है पांडव नगर हत्याकांड की वारदात 

Delhi Murder Case: लव, सेक्स और धोखे से भरी है पांडव नगर हत्याकांड की वारदात 

Shraddha Murder Case: शव के टुकड़े करने में इस्तेमाल हथियार बरामद, श्रद्धा की अंगूठी भी मिली

Shraddha Murder Case: शव के टुकड़े करने में इस्तेमाल हथियार बरामद, श्रद्धा की अंगूठी भी मिली

UP News: योगी सरकार ने शिवपाल की सुरक्षा घटाई, अखिलेश से नजदीकी बनी वजह

UP News: योगी सरकार ने शिवपाल की सुरक्षा घटाई, अखिलेश से नजदीकी बनी वजह

Evening News Brief: दिल्ली में श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और वारदात...ऋतुराज ने एक ओवर में जड़ दिए 7 छक्के

Evening News Brief: दिल्ली में श्रद्धा हत्याकांड जैसी एक और वारदात...ऋतुराज ने एक ओवर में जड़ दिए 7 छक्के

Draupadi Murmu: और जेल की क्या जरूरत है?, गरीब कैदियों की बात करते हुए भावुक हुईं राष्ट्रपति मुर्मू

Draupadi Murmu: और जेल की क्या जरूरत है?, गरीब कैदियों की बात करते हुए भावुक हुईं राष्ट्रपति मुर्मू

और वीडियो

UP News: वाराणसी में दरवाजे में पूरी रात फंसी रही चोर की गर्दन, तड़प-तड़प कर गई जान

UP News: वाराणसी में दरवाजे में पूरी रात फंसी रही चोर की गर्दन, तड़प-तड़प कर गई जान

Delhi news: दिल्ली में श्रद्धा जैसी एक और वारदात, बाप की हत्या कर किए टुकड़े, मां-बेटा गिरफ्तार

Delhi news: दिल्ली में श्रद्धा जैसी एक और वारदात, बाप की हत्या कर किए टुकड़े, मां-बेटा गिरफ्तार

Bihar News: पटना में बुलंद हैं चोरों के हौसले, 19 लाख के मोबाइल टावर पर किया हाथ साफ

Bihar News: पटना में बुलंद हैं चोरों के हौसले, 19 लाख के मोबाइल टावर पर किया हाथ साफ

Loudspeaker Row: महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर की एंट्री, 'मस्जिदों के बाहर ट्रक ले जाकर बजाएं हनुमान चालीसा'

Loudspeaker Row: महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर की एंट्री, 'मस्जिदों के बाहर ट्रक ले जाकर बजाएं हनुमान चालीसा'

Punjab News: कीरतपुर साहिब में ट्रेन की चपेट में आने से 3 बच्चों की दर्दनाक मौत

Punjab News: कीरतपुर साहिब में ट्रेन की चपेट में आने से 3 बच्चों की दर्दनाक मौत

Madarsa: अब नहीं मिलेगी कक्षा 1 से 8 तक की स्कॉलरशिप, मदरसों को लेकर मोदी सरकार का फैसला

Madarsa: अब नहीं मिलेगी कक्षा 1 से 8 तक की स्कॉलरशिप, मदरसों को लेकर मोदी सरकार का फैसला

Morning News Brief: गुजरात में इस बार होगा चमत्कार- केजरीवाल, आफताब का आज हो सकता है नार्को टेस्ट..TOP 10

Morning News Brief: गुजरात में इस बार होगा चमत्कार- केजरीवाल, आफताब का आज हो सकता है नार्को टेस्ट..TOP 10

Rahul Gandhi: राहुल गांधी का आरोप- GST और नोटबंदी पर बोलने से संसद में बंद कर दिए गए माइक

Rahul Gandhi: राहुल गांधी का आरोप- GST और नोटबंदी पर बोलने से संसद में बंद कर दिए गए माइक

Shraddha Murder Case: आफताब की नई गर्लफ्रेंड के पास मिली श्रद्धा की अंगूठी, क्या अब सुलझेगी मौत की गुत्थी

Shraddha Murder Case: आफताब की नई गर्लफ्रेंड के पास मिली श्रद्धा की अंगूठी, क्या अब सुलझेगी मौत की गुत्थी

Rajasthan Congress: क्या छिन जाएगी CM गहलोत की गद्दी? कांग्रेस ने कहा- कठोर निर्णय लिए जाएंगे

Rajasthan Congress: क्या छिन जाएगी CM गहलोत की गद्दी? कांग्रेस ने कहा- कठोर निर्णय लिए जाएंगे

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.