हाइलाइट्स

  • गुरु दत्त के पसंदीदा थे जॉनी वॉकर
  • बलराज साहनी और जॉनी वॉकर थे दोस्त
  • बलराज साहनी ने जॉनी वॉकर को फिल्म दिलाई

लेटेस्ट खबर

IND vs BAN: Rohit Sharma का वनडे क्रिकेट में एक और बड़ा कारनामा, मोहम्मद अजहरुद्दीन को छोड़ा पीछे

IND vs BAN: Rohit Sharma का वनडे क्रिकेट में एक और बड़ा कारनामा, मोहम्मद अजहरुद्दीन को छोड़ा पीछे

Health Benefits of Sweet Potato: इतने फायदे जानकर आलू भूल जाएंगे, शकरकंद घर लाएंगे

Health Benefits of Sweet Potato: इतने फायदे जानकर आलू भूल जाएंगे, शकरकंद घर लाएंगे

UP News: जयमाला के दौरान दुल्हन की मौत, मातम में बदला जश्न का माहौल

UP News: जयमाला के दौरान दुल्हन की मौत, मातम में बदला जश्न का माहौल

Pakistan Army Chief: पाकिस्तानी आर्मी चीफ की गीदड़ भभकी! बोले- दुश्मन से मुकाबला के लिए तैयार

Pakistan Army Chief: पाकिस्तानी आर्मी चीफ की गीदड़ भभकी! बोले- दुश्मन से मुकाबला के लिए तैयार

Paresh Rawal ने कहा-अब वो स्टार नहीं रहें, वो अब वही घिसा पिटा काम नहीं कर सकते

Paresh Rawal ने कहा-अब वो स्टार नहीं रहें, वो अब वही घिसा पिटा काम नहीं कर सकते

Actor Johnny Walker Birthday: कॉमेडियन जॉनी वॉकर ने क्यों छोड़ दी थी फिल्म इंडस्ट्री? | Jharokha

Actor Johnny Walker Biography: जॉनी वॉकर बॉलीवुड के मशहूर कॉमेडियन थे. जॉनी वॉकर का असली नाम बदरुद्दीन जमालुद्दीन काज़ी था. गुरु दत्त के वह पसंदीदा कॉमेडियन थे. आइए जानते हैं जॉनी वॉकर के फिल्मी सफरनामे के बारे में...

Actor Johnny Walker Biography: 1950-1960 के दौर में... जॉनी वॉकर एक मशहूर कॉमेडियन (Famous Comedian) बन चुके थे... जॉनी वॉकर (Johnny Walker) की बेटी तसनीम खान (Tasneem Khan) इस दौर में कॉलेज की पढ़ाई कर रही थीं. वह कॉलेज से लौटने के लिए BEST बस लिया करतीं... घर के पास वाले बस स्टैंड पर आते ही उनकी खुशी बढ़ जाती थी क्योंकि कंडक्टर जोर से चिल्लाता- "जॉनी वॉकर बस स्टॉप, जॉनी वॉकर बस स्टॉप..."

ये भी देखें- Shahrukh Khan Birth Anniversary: शाहरुख खान के पिता ने क्यों छोड़ा था पाकिस्तान?

बांद्रा में जॉनी वॉकर का घर बस स्टॉप के ठीक सामने था और इसीलिए यह बस स्टॉप की एक नई पहचान बन गया था... जॉनी वॉकर खुद भी फिल्मों में आने से पहले एक बस कंडक्टर ही थे. बांद्रा में बॉलीवुड की कई हस्तियों के घर हैं... झरोखा में आज बात जॉनी वॉकर की ही जिनका जन्म 11 नवंबर 1926 को यानी 94 साल पहले आज ही के दिन हुआ था.

गुरु दत्त के पसंदीदा थे जॉनी वॉकर || Johnny Walker was Guru Dutt's favorite

ऐ दिल है मुश्किल जीना यहां... ये है बॉम्बे मेरी जान," गुरु दत्त की फिल्म सीआईडी ​​का ये एक ऐसा गीत है जो न सिर्फ सपनों के शहर मुंबई के मिजाज को दिखाता है बल्कि इस गीत की वजह से आज भी जॉनी वॉकर लाखों दिलों में जिंदा हैं. गुरु दत्त (Guru Dutt) के पसंदीदा रहे जॉनी वॉकर, इंडियन फिल्म इंडस्ट्री के ऐसे कॉमेडियन जिन्होंने फिल्मों में कॉमेडियन कैरेक्टर रखने की परंपरा शुरू की.

बलराज साहनी और जॉनी वॉकर थे दोस्त || Balraj Sahni and Johnny Walker were friends

एस.के. ओझा (S K OJHA) की फिल्म हलचल (1951) में बलराज साहनी (Balraj Sahni) पहली बार दिलीप कुमार (Dilip Kumar), नरगिस (Nargis), के. आसिफ (K. Asif) जैसी नामचीन हस्तियों के साथ पहली बार काम कर रहे थे. लंच ब्रेक के दौरान साहनी ने देखा कि कई कलाकार बदरुद्दीन जमालुद्दीन काज़ी (Badruddin Jamaluddin Kazi) से कॉमेडी करने के लिए कह रहे थे ताकि कलाकारों का मनोरंजन हो सके. बदरू यानी बदरुद्दीन मिमिक्री में बहुत अच्छा था. शराबी की ऐक्टिंग उसकी स्पेशलाइजेशन थी. या कभी-कभी, वह फुटपाथ पर कुछ बेचने वाले का भी किरदार करता और सभी को अपना दीवाना बना देता था.

साहनी अभी इंडस्ट्री में पैर जमा ही रहे थे और अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे थे. ज्यादातर वह फ्रस्ट्रेशन से भरे काम की वजह से गुस्सा ही रहते थे. ऐसे ही एक दिन जब वह अपने काम से परेशान थे, बदरू के पास गए... बदरू की कंपनी में उन्हें ऐसा लगा मानों कोई दोस्त मिल गया हो.

ये भी देखें- Anuradha Paudwal Biography: गुलशन कुमार की 'दीवानगी' ने डुबाया अनुराधा पौडवाल का करियर?

बलराज साहनी अपनी तकलीफ भूल गए थे.... बातचीत का सिलसिला जैसे जैसे आगे बढ़ा साहनी को पता चला कि बदरुद्दीन काजी को हर दिन 5 रुपये मिलते थे. और इसमें से भी एक रुपये सप्लायर को जाता था. बलराज साहनी को यह बेहद कम लगा. वह जान गए थे कि बदरुद्दीन की असल प्रतिभा ब्रेक टाइम में कलाकारों का मनोरंजन करना नहीं, बल्कि फुल टाइम में फुल स्क्रीन पर करोड़ों लोगों को हंसाने की थी. वह बदरुद्दीन के लिए सही मौके की ताक में लग गए...

वे अच्छे दोस्त बन गए. जब भी साहनी अपनी मोटरसाइकिल पर बैठकर माहिम से गुजरते, बदरू उनसे टकरा ही जाता था... और हर बार बदरू साहनी को उनका वादा याद दिला देता था.. इसी दौरान एक समय जब बलराजज साहनी, गुरुदत्त के लिए बाजी फिल्म लिख रहे थे, उन्होंने बदरू को ध्यान में रखते हुए एक शराबी का किरदार भी तैयार किया. लेकिन वह सोचते रहे कि प्रोड्यूसर और डायरेक्टर को कैसे समझाएंगे कि बदरू इस कैरेक्टर के लिए एकदम फिट है. इसलिए नहीं क्योंकि वह बलराज साहनी के दोस्त थे, बल्कि इसलिए कि उनमें कॉमेडी का असल टैलेंट था.

बलराज साहनी ने जॉनी वॉकर को फिल्म दिलाई || Balraj Sahni help Johnny Walker to get character in Movies

कुछ दिनों बाद, देव आनंद और चेतन आनंद (आनंद बंधु), गुरुदत्त और बलराज साहनी अपने ऑफिस में बाजी के ट्रीटमेंट पर सोच विचार कर रहे थे. तभी ऑफिस में हंगामा खड़ा हो गया.. पता चला कि कहीं से एक शराबी घुस आया है... और वह सभी कर्मचारियों को परेशान कर रहा है. हर जगह से गुजरने के बाद वह सीधे अंदर आ गया और देव आनंद की ओर मुड़ गया. उसने देव आनंद से बातें करनी शुरू कीं. देव आनंद (Dev Anand) को उसकी कमाल की बातों के आगे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था.

कमरे में बैठे सभी चार दिग्गज इस मेहमान को देखकर लोटपोट हुए जा रहे थे.. आधे घंटे तक यही चलता रहा. आखिर में चेतन ने ये सोचकर कि कहीं मामला हाथ से निकल न जाए, सिक्योरिटी से उसे बाहर करने को कहा... लेकिन तभी बलराज साहनी उठ खड़े हुए और शराबी शख्स से सभी को सलाम करने को कहा. आश्चर्य! नशे में धुत आदमी तुरंत शांत हो गया, और अब सबकी हैरानी और भी बढ़ गई थी.

ये भी देखें- Mahesh Bhatt Family Tree : महेश भट्ट का परिवार है 'मिनी इंडिया', जानें पूरी वंशावली

साहनी ने सबको बताया कि बदरू की प्रतिभा उन सभी को दिखाने के लिए उन्होंने ही ये सब किया था... अब तीनों इतने प्रभावित हो गए थे कि बदरू को फटाफट अगली फिल्म के लिए साइन कर लिया गया. वह गुरुदत्त ही थे जो बदरुद्दीन काजी की शराबी वाली ऐक्टिंग देखकर ऐसे खुश हुए कि उनका नया नाम जॉनी वॉकर रख दिया. सबसे बड़ी विडंबना ये कि शराब से बदरू यानी जॉनी वॉकर हमेशा दूर ही रहे!

सेंसर बोर्ड ने कभी नहीं काटे जॉनी वॉकर के डायलॉग || Censor Board never cut Johnnie Walker's dialogues

जिस शख्स ने कभी शराब को नहीं छुआ, उसने एक शराबी की ऐक्टिंग से करोड़ों लोगों के दिल को छुआ. वॉकर हिंदी सिनेमा के उस दौर की जरूरत बन गए जिसे आज भी उसका स्वर्णिम काल कहा जाता है. ये वह दौर था जब कॉमेडी का मतलब डबल मीनिंग जोक्स या फॉरवर्डेड मेसेज नहीं था.

उनका गोल्डन पीरियड 50 और 60 का दशक था. इसी दौरान उन्होंने यादगार और शानदार परफॉर्मेंस दी. वह एक नेचुरल कॉमेडियन थे, उनकी कॉमेडी कभी भी वल्गर नहीं थी. लेकिन, 1970 के बाद से कॉमेडी में बदलाव आने लगा. कुछ कॉमेडियन भद्दे जेस्चर तो कुछ डबल मीनिंग शब्दों की ओर बढ़ने लगे... जॉनी वॉकर ने कभी भी इस तरह की कॉमेडी नहीं ती.

एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि उन्होंने 300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया और सेंसर बोर्ड ने कभी भी उनके किरदार की एक लाइन भी कट नहीं की. बॉक्स ऑफिस पर ये उनका टैलेंट ही था कि डिस्ट्रिब्यूटर्स, प्रोड्यूसर्स या डायरेक्टर्स से फिल्म में उनका एक गीत रखने को जरूर कहते थे.

जॉनी वॉकर ने शकीला की बहन नूरजहां से की शादी || Johnny Walker marries Shakeela's sister Noor Jahan

जॉनी वॉकर ने शकीला (Shakila) की छोटी बहन नूरजहां से शादी की. शकीला, नूरजहां और नसरीन तीन बहनें थीं जिन्होंने बहुत कम उम्र में अपने माता-पिता को खो दिया था. वे अपने चाचा और चाची की देखरेख में बड़ी हुई थीं. तीनों बहने बेहद खूबसूरत थीं. तीन बहनों में शकीला सबसे मशहूर अभिनेत्री बनीं. उन्होंने सीआईडी, आर पर, काली टोपी लाल रुमाल, टावर हाउस, हातिम ताई जैसी फिल्मों में काम किया लेकिन शादी के बाद फिल्में करनी छोड़ दीं. अफसोस की बात ये कि उनकी शादी तलाक में खत्म हो गई.

तकदीर ने उनके हिस्से में और भी तकलीफें लिखीं. उनकी 21 साल की बेटी ने मुंबई में आत्महत्या कर ली. शकीला नामचीन ऐक्ट्रेस रहीं... लेकिन उनकी जिंदगी तकलीफों से भरी रही.. वह एक शुगर पेशेंट थीं, 2017 में उनका निधन हो गया. वह अपनी छोटी बहन नूरजहां (नूर) के परिवार से करीब थीं. नूर की बात करें तो बॉलीवुड में उनका करियर बहुत अच्छा नहीं रहा लेकिन उन्हें जॉनी वॉकर के रूप में एक ऐसा पति मिला जिसने उन्हें जिंदगी भर खुश रखा. उनकी सादगी और ईमानदारी उन्हें किसी भी दूसरी चीज से ज्यादा प्यारी थी.

जॉनी वॉकर के 6 बच्चे हुए || Johnnie Walker has 6 children

जॉनी वॉकर की नूर से मुलाकात आर पार (1954) की शूटिंग के दौरान हुई थी. नूर उस समय एक नई कलाकार थीं. दोनों परिवारों के विरोध के खिलाफ जाकर शादी के बंधन में बंधे. उनके छह बच्चे हुए- एक नासिर खान को छोड़कर, उनके अन्य सभी बच्चे अमेरिका में बस गए. नासिर खान ने भी एक्टिंग की राह ही चुनी.

ये भी देखें- Shammi Kapoor Life & Career: 18 फ्लॉप के बाद चमका शम्मी का सितारा! थे पहले इंटरनेट यूजर

जॉनी वॉकर की कॉमेडी को आज गुजरे दौर का माना जा सकता है लेकिन 1950 और 1960 के दशक में उनकी अपनी फैन फॉलोइंग थी. 1970 के दशक में, जॉनी वॉकर को बहुत अधिक फिल्मों में नहीं देखा गया. इस वक्त के बाद उन्होंने अपनी ऐक्टिंग को धीरे धीरे फिल्मों से दूर कर दिया... एक समय, बॉम्बे की सड़कों पर चलने वाली 80% से अधिक टैक्सियां जॉनी वॉकर की थीं.

Chachi 420 (1997) थी जॉनी वॉकर की आखिरी फिल्म

वह दिलीप कुमार, नौशाद, मजरूह और मोहम्मद रफी (Mohammad Rafi) के करीबी दोस्त थे - ये सभी बांद्रा में रहते थे. फिल्में छोड़ने के सालों बाद जॉनी वॉकर ने कमल हासन की चाची 420 (Kamal Hassan Movie Chachi 420) में अभिनय किया. इस रोल के लिए वॉकर काफी मिन्नतों के बाद राजी हुए थे.

एक अभिनेता जिसने अपने परिवार को हर चीज से पहले रखा, उसने समाज के लिए भी कार्य किया. वह हमेशा बच्चों से एक ही दुकान से समोसे लाने को कहते ताकि गरीब दुकानदार की मदद हो सके. उनका कीमती स्टोन्स का कारोबार था. इंदौर में एक मिल में काम करने वाले गरीब मजदूर के बेटे को ताउम्र छठी कक्षा में स्कूल छोड़ देने का अफसोस रहा. और इसीलिए शायद उन्होंने अपने बेटे को पढ़ाई के लिए अमेरिका तक भेजा.

प्यासा के क्लाइमेक्स सीन में जॉनी वॉकर भगदड़ में फंस जाते हैं. तब वह भीड़ के सिर पर पैर रखकर आगे बढ़ते हैं... प्रतिज्ञा (1975) के एक लोटपोट करने वाले सीन में, धर्मेंद्र उन्हें थप्पड़ जड़ देते हैं तब जॉनी वॉकर कहते हैं, "इतनी सी बात के लिए, इतना गुस्सा ..." जिस तरह से वॉकर ने इस कॉमेडी सीन में अपनी बात कही, वह आज भी अमिट है...

ऋषिकेश मुखर्जी की आनंद में उनकी भूमिका आज भी दिल में उतर जाती है.

जॉनी वॉकर को पहला फिल्मफेयर अवॉर्ड मधुमति (1958) के लिए मिला जबकि दूसरा शिकार (1968) के लिए.

1960 के दशक में हिंदी सिनेमा में महमूद की लोकप्रियता ने जॉनी लीवर की डिमांग को कम किया लेकिन उन्होंने कभी महमूद से बैर नहीं रखा. वह महमूद को पसंद करते थे.

ये भी देखें- Mithun से दुश्मनी, Madhubala के लिए बने मुस्लिम, ऐसी थी Kishore Kumar की लाइफ

जॉनी लीवर अक्सर ही पवई झील में पत्नी के साथ मछलियां पकड़ने जाया करते थे. उनके लिए परिवार ही उनकी दुनिया थी और दुनिया ही उनका परिवार थी. उनके बंगले का नाम नूर विला है और यह पेरी क्रॉस रोड, ब्रांदा में है.

चलते चलते 11 नवंबर को हुई दूसरी घटनाओं पर भी एक नजर डाल लेते हैं

1675 - गुरु गोबिन्द सिंह (Guru Govind Singh) सिखों के गुरु नियुक्त हुए थे

1918 - पोलैंड (Poland) ने खुद को स्वतंत्र देश घोषित किया

1989 - बर्लिन की दीवार (Berlin Wall) गिराने की शुरुआत

2000 - ऑस्ट्रिया में सुरंग से गुजरती हुई ट्रेन में आग लगने से 180 लोगों की मौत

अप नेक्स्ट

Actor Johnny Walker Birthday: कॉमेडियन जॉनी वॉकर ने क्यों छोड़ दी थी फिल्म इंडस्ट्री? | Jharokha

Actor Johnny Walker Birthday: कॉमेडियन जॉनी वॉकर ने क्यों छोड़ दी थी फिल्म इंडस्ट्री? | Jharokha

Delhi MCD Election: जानिए दिल्ली में तीनों बड़ी पार्टियों के वादों को फिर फैसला करिए अपने वोट का

Delhi MCD Election: जानिए दिल्ली में तीनों बड़ी पार्टियों के वादों को फिर फैसला करिए अपने वोट का

 Silk Smitha: सिल्क स्मिता ने क्यों दी जान? Dirty Picture नहीं दिखा पाई पूरा सच! | Jharokha

Silk Smitha: सिल्क स्मिता ने क्यों दी जान? Dirty Picture नहीं दिखा पाई पूरा सच! | Jharokha

World AIDS Day 2022: क्यों Gay-Bisexuals को शिकार बना रही एड्स की बीमारी? जानें चौंकाने वाला सच| Jharokha

World AIDS Day 2022: क्यों Gay-Bisexuals को शिकार बना रही एड्स की बीमारी? जानें चौंकाने वाला सच| Jharokha

क्या Miss World कॉम्पिटिशन में Priyanka Chopra को मिला स्पेशल ट्रीटमेंट? अवॉर्ड वाली रात का सच | Jharokha

क्या Miss World कॉम्पिटिशन में Priyanka Chopra को मिला स्पेशल ट्रीटमेंट? अवॉर्ड वाली रात का सच | Jharokha

When Indira Gandhi Dismissed Gujarat Government: इंदिरा ने क्यों बर्खास्त की थी गुजरात सरकार ? | Jharokha

When Indira Gandhi Dismissed Gujarat Government: इंदिरा ने क्यों बर्खास्त की थी गुजरात सरकार ? | Jharokha

और वीडियो

Hinduism in Thailand : थाईलैंड में कहां से पहुंचा हिंदू धर्म ? भारत से रिश्ते की सदियों पुरानी | Jharokha

Hinduism in Thailand : थाईलैंड में कहां से पहुंचा हिंदू धर्म ? भारत से रिश्ते की सदियों पुरानी | Jharokha

Congress crisis: 'सेल्फ गोल' कर रहा है कांग्रेस आलाकमान, जानिए कब-कब हुआ विफल?

Congress crisis: 'सेल्फ गोल' कर रहा है कांग्रेस आलाकमान, जानिए कब-कब हुआ विफल?

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Story of India: भारत ने मिटाई दुनिया की भूख, चांद पर ढूंढा पानी..जानें आजाद वतन की उपलब्धियां | EP #5

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Field Marshal General Sam Manekshaw: 9 गोलियां खाकर सर्जन से कहा- गधे ने दुलत्ती मार दी, ऐसे थे मानेकशॉ

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

Russia-Ukraine War: ‘वैक्यूम बम’ यानी फॉदर ऑफ ऑल बम ? जानिए सबकुछ

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections 2022: अंदर से कैसा दिखता है योगी आदित्यनाथ का मठ, देखें Exclusive Video

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

UP Elections : यूपी चुनाव में क्या प्रियंका पलटेंगी बाजी?

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.