Story of this Moradabad girl Pragati can inspire others, International Women’s Day दोनों हाथ गंवाने के बावजूद नहीं मानी हार, मिसाल हैं मुरादाबाद की प्रगति - दोनों हाथ गंवाने के बावजूद नहीं मानी हार, मिसाल हैं मुरादाबाद की प्रगति | Editorji Hindi
  1. home
  2. > लाइफ़स्टाइल
  3. > दोनों हाथ गंवाने के बावजूद नहीं मानी हार, मिसाल हैं मुरादाबाद की प्रगति
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

दोनों हाथ गंवाने के बावजूद नहीं मानी हार, मिसाल हैं मुरादाबाद की प्रगति

Mar 08, 2021 22:08 IST | By ANI

मिलिए यूपी के मुरादाबाद की रहने वाली प्रगति से जिनकी कहानी किसी प्रेरणा से कम नहीं, बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती प्रगति की हथेली नहीं है, लेकिन आज उनके हाथ कागज पर ही नहीं, बल्कि कंप्यूटर पर भी तेजी से दौड़ते हैं. दरअसल, साल 2010 में हाईटेंशन तार की चपेट में आ जाने से उन्हें अपनी दोनों हथेली गंवा दी, इसके बावजूद उनके हौसले बुलंद रहे. बुलंद हौसलों के साथ उन्होंने हथेलियों के बिना भी लिखना सीखा. प्रगति आज ना सिर्फ आम लोगों की तरह अपने सारे काम खुद करती हैं. बल्कि जरूरतमंद बच्चों को पढ़ाती भी हैं और आर्थिक जरूरतों के लिए किसी पर निर्भर नहीं हैं. प्रगति ने साबित किया है कि सपनों की उड़ान पंखों से नहीं बल्कि हौसलों से होती है.

लाइफ़स्टाइल