Parents should keep these things in mind for safety of their kids during covid third wave - कोरोना की तीसरी लहर क्या बच्चों के लिए है खतरनाक? ऐसे करें उनका बचाव | Editorji Hindi
  1. home
  2. > कोविड-19
  3. > कोरोना की तीसरी लहर क्या बच्चों के लिए हो सकती है खतरनाक? जानें कैसे करें उनका बचाव
prev icon/Assets/images/svg/play_white.svgnext button of playermute button of playermaximize icon
mute icontap to unmute
video play icon
00:00/00:00
prev iconplay paus iconnext iconmute iconmaximize icon
close_white icon

कोरोना की तीसरी लहर क्या बच्चों के लिए हो सकती है खतरनाक? जानें कैसे करें उनका बचाव

Jun 12, 2021 13:11 IST | By Editorji News Desk

पिछले कुछ समय से कोविड की तीसरी लहर और बच्चों पर उसके असर को लेकर अलग अलग तरह की चर्चाएं चल रही हैं. इन सब के बीच पेरेंट्स इस बात को लेकर परेशान हैं कि कोरोना की आने वाली लहर किस तरह से बच्चों को इम्पैक्ट करेगी और कैसे उन्हें इससे बचाया जा सकता है. आपके इन सभी सवालों के जवाब हम रिपोर्ट में आपको देने की कोशिश करेंगे.

नीति आयोग के मुताबिक देश में सितंबर-अक्टूबर के महीने से कोरोना की तीसरी लहर देखने को मिल सकती है. चूंकि 18 साल से कम उम्र के बच्चों को अभी वैक्सीन नहीं लगी है इसलिए आशंका जताई जा रही है कि अगर लापरवाही की गई तो इस दौरान बच्चे ज़्यादा संक्रमित हो सकते हैं. हालांकि बच्चों पर कोरोना का असर हर्ड इम्यूनिटी और उनकी हाइजीन आदतों पर भी निर्भर करेगा. जैसे वो बच्चे ज्यादा प्रोटेक्टेड होंगे जो मास्क पहनेंगे, सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन करेंगे और बार बार हाथ धोते रहेंगे.

डॉक्टर्स का मानना है कि वायरस किसी खास एज ग्रुप को संक्रमित नहीं करेगा लेकिन फिर भी वो बच्चे ज्यादा रिस्क पर होंगे जिन्हें पहले से कोई बीमारी हो, जैसे ... हार्ट प्रॉब्लम, डायबिटीज़, लंग्स की बीमारी, किडनी फेलियर, या मोटापा. ऐसे बच्चों को कोरोना होने पर अस्पताल में भर्ती करने की ज़रूरत पड़ सकती है. 

इन बच्चों को अपने डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाओं का सही से सेवन करते रहना चाहिए. कोरोना की पहली और दूसरी लहर की तरह हल्के लक्षण वाले बच्चों को इस बार भी डॉक्टर की सलाह से घर पर ही ट्रीट किया जा सकता है. 

अब आपको बताते हैं कुछ ऐसे तरीके जिनसे बच्चों को तीसरी लहर के दौरान कोरोना इंफेक्शन से बचाया जा सकता है.

- बच्चों को वायरस से बचाने के लिए घर के सभी लोगों का वैक्सीनेशन जरूरी है.  

- सरकार को भी इस दिशा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे. बच्चों के लिए वेंटिलेटर की सुविधा वाले ICU बेड्स और ज़रूरी सामान की व्यवस्था दुरुस्त करनी होगी. 

- बच्चों के कोरोना ट्रीटमेंट में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों का उत्पादन बढाना होगा 

- बच्चों के लिए वैक्सीनेशन के ट्रायल्स में और तेज़ी लानी होगी 

- स्कूल खोलने में जल्दबाजी ना हो 

- बच्चों को कोविड सेफ्टी और हाइजीन के महत्व के बारे में समझाएं 

- बच्चों के बॉडी सिम्पटम्स पर लगातार नज़र रखें 

- उन्हें हेल्दी और घर का बना खाना खिलाएं 

ICMR की गाइडलाइंस का पालन करें और बच्चों को जागरूक करें. इससे काफी हद तक आप अपने बच्चों को इंफेक्शन से बचा सकते हैं. लेकिन अगर बच्चा कोरोना की चपेट में आ जाता है तो घबराएं नहीं, तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें. 

कोरोना की तीसरी लहर क्या बच्चों के लिए हो सकती है खतरनाक? जानें कैसे करें उनका बचाव

1/3

कोरोना की तीसरी लहर क्या बच्चों के लिए हो सकती है खतरनाक? जानें कैसे करें उनका बचाव

Corona Virus: भारत में कोरोना ने बढ़ाई फिर चिंता, एक दिन में 39 हजार 742 नए मामले दर्ज

2/3

Corona Virus: भारत में कोरोना ने बढ़ाई फिर चिंता, एक दिन में 39 हजार 742 नए मामले दर्ज

Delta-3 वेरिएंट ने अमेरिका में बढ़ाई चिंता, इसको लेकर भारत में भी अलर्ट जारी

3/3

Delta-3 वेरिएंट ने अमेरिका में बढ़ाई चिंता, इसको लेकर भारत में भी अलर्ट जारी

लाइफ़स्टाइल