Medical breakthrough of 2019 | Editorji Hindi
  1. home
  2. > एडिटरजी स्पेशल
  3. > मेडिकल में साल 2019 की बड़ी खोजें
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

मेडिकल में साल 2019 की बड़ी खोजें

Jan 02, 2020 15:27 IST

भारत में जल्द दुनिया का पहला पुरुष गर्भनिरोधक इंजेक्शन, सफल ट्रायल

जल्द ही भारत में दुनिया का पहला पुरुष गर्भनिरोधक लॉन्च होने वाला है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, Indian Council of Medical Research (ICMR) ने दुनिया के पहले पुरुष गर्भनिरोधक इंजेक्शन का सफल क्लीनिकल ट्रायल किया है. ये कॉनट्रसेप्टिव इंजेक्शन 13 साल तक प्रभावी होगा. इसे वासेक्टोमी (Vasectomy) को रिप्लेस करने के लिए डिजाइन किया गया है जो दुनिया का एकमात्र पुरुष वासेक्टोमी विकल्प है. 303 लोगों पर 3 चरणों में किया गया क्लीनिकल ट्रायल 97.3% सफल रहा है और इसका कोई साइड इफेक्ट भी नज़र नहीं आया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को मंजूरी के लिए भेजा गया है. 

 

US वैज्ञानिकों ने बनाई महीने में एक बार लेने वाली कॉन्ट्रासेप्टिव गोली

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली बनाई है जिसे हर रोज लेने के बजाय महीने में सिर्फ एक बार लेने की जरूरत होगी. इसके लिए उन्होंने महीने भर की जरूरत को एक गोली के अंदर पैक किया है जो पूरे महीने इसके खुराक को पूरा करेगी. इस गोली को एक छोटे से स्टार शेप्ड डिवाइस में पैक किया गया है, जो पेट में जाकर खुल जाएगा और प्रेगनेंसी को रोकने वाली दवा रिलीज़ करेगा. फिलहाल इस गोली का टेस्ट जानवरों पर किया गया है, लेकिन MIT यूनिवर्सिटी के रिसचर्स का दावा है कि आने वाले समय में जल्द ही ये दवा के दुकानों पर उपलब्ध होगा. फिलहाल इस गोली को लेकर कुछ और टेस्ट करने बाकी हैं, जिससे गोली के पेट के अंदर खुलने और अलग-अलग लोगों पर होने वाले इसके असर को समझा जा सके.

अब इंजेक्शन की जगह कैप्सूल के जरिए इंसुलिन ले सकेंगे शुगर के मरीज

डायबटीज़ के मरीज अब जल्द ही इंसुलिन के दर्द भरे इंजेक्शन से मुक्ति मिलने वाली है. एमआईटी की टीम ने डैनिश दवा कंपनी नोवो नॉर्डिस्क के साथ मिलकर एक ऐसा कैप्सूल डेवेलप किया है जिसे मरीज आम दवाई की तरह गटक सकेंगे. ये कैप्सूल छोटी आंत में पहुंचने के बाद इन्सुलिन रिलीज करेगा और खून में घुल कर ब्लड में शुगर के लेवल को नियंत्रित करेगा. रिसचर्स की टीम ने जानवरों और इंसानी टिशू पर इसका सफल परीक्षण किया है. ये कैप्सूल मरीज के डाइजेस्टिव सिस्टम को भी प्रभावित होने से बचाता है.

 

एडिटरजी स्पेशल