मधुबाला... एक खूबसूरत ग़ज़ल

home > एडिटरजी स्पेशल > मधुबाला... एक खूबसूरत ग़ज़ल
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

मधुबाला... एक खूबसूरत ग़ज़ल

Feb 23, 2020 22:42 IST

हुस्न, दिल और दर्द की मुकम्मल दास्तां का नाम था मधुबाला. एक ऐसा नाम, ऐसी खूबसूरती जिसे एक बार देख लिया जाए तो ज़ेहन से निकालना मुश्किल हो. दिल्ली आकाशवाणी में बच्चों के एक कार्यक्रम के दौरान संगीतकार मदन मोहन के पिता ने जब मधुबाला को देखा तो पहली ही नज़र में उन्हें वो भा गईं, जिसके बाद बॉम्बे टॉकीज की फ़िल्म 'बसंत' में एक बाल कलाकार की भूमिका मधुबाला को दी गई. जैसे नियति ने तय कर दिया था कि इस बच्ची का जन्म अभिनेत्री बनने के लिए ही हुआ है. 'मुगल-ए-आज़म' की अनारकली यानी मधुबाला का जन्म 14 फरवरी 1933 को दिल्ली में हुआ था. महज 36 साल की उम्र में ही उन्होंने इस दुनिया के रंगमंच पर अपना किरदार निभा कर विदा भी ले लिया. उनके दिल में छेद था जिसका तब कोई इलाज नहीं था. मधुबाला को पहली बार हीरोइन बनाया डायरेक्टर केदार शर्मा ने अपनी फ़िल्म 'नीलकमल' में. इस फिल्म के बाद से ही उन्हें Venus Of The Screen कहा जाने लगा. लेकिन उन्हें सफलता और लोकप्रियता मिली फ़िल्म 'महल' से. इसके बाद उन्होंने चलती का नाम गाड़ी, मुग़ल-ए-आज़म, महल और हाफ टिकट जैसी एक के बाद एक कई सुपरहिट फिल्में दीं. मधुबाला ने ऐसी आधुनिक औरतों का किरदार निभाया है, जो कि लीक से हटकर रही हैं. हिंदी सिनेमा के सभी एक्टर जिस पर दिल छिड़कते थे, उस मधुबाला के प्यार का सफर बेहद अधूरा रहा है. मधुबाला का पहला प्यार था प्रेमनाथ, राजकपूर के साले साहब. हालांकि, इस लव स्टोरी में धर्म की दीवार आ गई. फिर मधुबाला की जिंदगी में आए दिलीप कुमार, लेकिन मधुबाला के पिता की शर्त दोनों के प्यार पर पहरा बन गई. इसके बाद मधुबाला ने किशोर कुमार से शादी की हालांकि ये प्यार भी परवान नहीं चढ़ा. फिर तो जिंदगी ने ही मधुबाला के शॉट को कट कर दिया और महज 36 साल की उम्र में 23 फरवरी 1969 को बेपनाह खूबसूरती की इस मलिका ने दुनिया को अलविदा कह दिया. अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने दुनिया की उन 15 बेहद खूबसूरत, सफल और मशहूर महिलाओं में मधुबाला को भी शुमार किया है जिनकी जिंदगी में ट्रैजेडी बहुत रही.

एडिटरजी स्पेशल