लेटेस्ट खबर

Bhagat Singh Birth Anniversary: पीएम मोदी ने किया नमन, लिखा- हर भारतीय के दिल में हैं भगत सिंह

Bhagat Singh Birth Anniversary: पीएम मोदी ने किया नमन, लिखा- हर भारतीय के दिल में हैं भगत सिंह

Butterfly Pea Tea: ट्राई कीजिए ब्लू टी, फूलों से बनी ये चाय है लेटेस्ट ट्रेंड, जानिये इसकी ख़ासियत

Butterfly Pea Tea: ट्राई कीजिए ब्लू टी, फूलों से बनी ये चाय है लेटेस्ट ट्रेंड, जानिये इसकी ख़ासियत

Covid Update: भारत में कोरोना केस में भारी कमी, 201 दिनों बाद 20 हजार से भी कम नए केस

Covid Update: भारत में कोरोना केस में भारी कमी, 201 दिनों बाद 20 हजार से भी कम नए केस

Kareena Kapoor की हाउस पार्टी में पहुंचे करण जौहर, करिश्मा , अमृता अरोड़ा और मनीष मल्होत्रा

Kareena Kapoor की हाउस पार्टी में पहुंचे करण जौहर, करिश्मा , अमृता अरोड़ा और मनीष मल्होत्रा

IPL 14: दिल्ली के धुरंधरों के सामने कोलकाता की चुनौती, कौन मारेगा बाजी ?

IPL 14: दिल्ली के धुरंधरों के सामने कोलकाता की चुनौती, कौन मारेगा बाजी ?

International Friendship Day 2021: दोस्तों के नाम एक दिन...जानिये इस दिन का इतिहास और महत्व

भले ही यूएन ने 30 जुलाई को फ्रेंडशिप के नाम ये दिन घोषित किया है लेकिन भारत और कुछ साउथ एशियाई देशों में अगस्त के पहले रविवार को ये दिन मनाया जाता है और इस साल भारत सौहार्द की भावना का जश्न यानि फ्रेंडशिप डे 1 अगस्त को मना रहा है.

दुनिया में कई ऐसे रिश्ते हैं, जिन्हें लोग पूरी ईमानदारी और समझदारी के साथ निभाते हैं और एक ऐसा ही रिश्ता है दोस्ती का. ये वो रिश्ता है, जिसे कोई और नहीं बल्कि हम खुद चुनते हैं. लोग दोस्त बनाते है, उनसे अपने दिल की बातें शेयर करते हैं, उनके साथ समय गुजारते हैं और मुसीबत के समय यही दोस्त एक-दूसरे का साथ निभाते हैं. कहा जाता है कि भले कोई भी रिश्ता आपसे अलग हो जाए, लेकिन एक सच्चा दोस्त कभी आपका साथ नहीं छोड़ता है.

इस दिन लोग अपने दोस्तों के साथ पार्टी और हैंगआउट करते हैं. दोस्तों के लिए ये दिन बहुत ही खास होता है. लेकिन, Covid-19 महामारी और इसके चलते लगे लॉकडाउन जैसी चुनौतियों और परेशानियों ने दुनियाभर में लोगों के बीच दूरियां पैदा कर दी हैं. इस इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे पर आइये इन दूरियों को खत्म कर फ्रेंडशिप और एकजुटता को बढ़ावा देने में एक दूसरे की मदद करें.

दरअसल, साल 2011 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 30 जुलाई को आधिकारिक तौर पर इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे घोषित किया था. इस दिन का उद्देश्य सीमाओं, देशों और संस्कृतियों के बीच मित्रता बनाना है. भले ही यूएन ने 30 जुलाई को फ्रेंडशिप के नाम ये दिन घोषित किया है लेकिन भारत और कुछ साउथ एशियाई देशों में अगस्त के पहले रविवार को ये दिन मनाया जाता है और इस साल भारत सौहार्द की भावना का जश्न यानि फ्रेंडशिप डे 1 अगस्त को मना रहा है.

कोरोना जैसी वैश्विक महामारी और लॉकडाउन की वजह से दूर बैठे दोस्तों से मिलना जुलना तो दूर, हालात ऐसे बन गए हैं कि पड़ोसियों के साथ बैठकर एक कप चाय पीना भी असंभव जैसा हो गया है.

आप वर्चुअली मीटिंग, वीडियो कॉलिंग, टी पार्टी, एक दूसरे के लिए खाना या गिफ्ट ऑर्डर, वर्चुअल मूवी या गेम्स खेलकर, या फिर वर्चुअली ड्रिंक्स पार्टी कर इस महामारी के दौर में अपनी फ्रेंडशिप में मिठास और खुशी को बरकरार रख सकते हैं. आप चाहें तो स्कूल के दोस्तों को चिट्ठी लिखकर उन्हें अपनी करीब होने का एहसास दिला सकते हैं.

इस फ्रेंडशिप डे कोशिश कीजिए कि वर्तमान की परिस्थिति चाहे जैसी भी हो, अपने फ्रेंडली रिलेशंस को मजबूत बनाये रखने के लिए काम के बीच से कुछ समय जरूर निकालें.

अप नेक्स्ट

International Friendship Day 2021: दोस्तों के नाम एक दिन...जानिये इस दिन का इतिहास और महत्व

International Friendship Day 2021: दोस्तों के नाम एक दिन...जानिये इस दिन का इतिहास और महत्व

Butterfly Pea Tea: ट्राई कीजिए ब्लू टी, फूलों से बनी ये चाय है लेटेस्ट ट्रेंड, जानिये इसकी ख़ासियत

Butterfly Pea Tea: ट्राई कीजिए ब्लू टी, फूलों से बनी ये चाय है लेटेस्ट ट्रेंड, जानिये इसकी ख़ासियत

Sea salt or Regular salt: क्या आप कर रहे हैं सही नमक इस्तेमाल?

Sea salt or Regular salt: क्या आप कर रहे हैं सही नमक इस्तेमाल?

Chia seeds: इन छोटे से सीड्स के फायदे हैं बड़े! आपने शायद सोचा भी ना हो

Chia seeds: इन छोटे से सीड्स के फायदे हैं बड़े! आपने शायद सोचा भी ना हो

Fibre Deficiency: क्या आप ले रहे हैं पर्याप्त फाइबर? जानिये एक दिन में कितनी मात्रा लेना है ज़रूरी

Fibre Deficiency: क्या आप ले रहे हैं पर्याप्त फाइबर? जानिये एक दिन में कितनी मात्रा लेना है ज़रूरी

नई स्टडी में दावा: वैक्सीन ले चुकीं प्रेगनेंट महिलाओं से शिशुओं को मिलती है उच्च स्तर की एंटीबॉडी

नई स्टडी में दावा: वैक्सीन ले चुकीं प्रेगनेंट महिलाओं से शिशुओं को मिलती है उच्च स्तर की एंटीबॉडी