In Assam Bjp did what no non congress government has been able to do till now - BJP ने असम में किया वो कमाल जो अब तक कोई गैर कांग्रेस सरकार ना कर सकी | Editorji Hindi
  1. home
  2. > राजनीति
  3. > BJP ने असम में किया वो कमाल जो अब तक कोई गैर कांग्रेस सरकार ना कर सकी
prev icon/Assets/images/svg/play_white.svgnext button of playermute button of playermaximize icon
mute icontap to unmute
video play icon
00:00/00:00
prev iconplay paus iconnext iconmute iconmaximize icon
close_white icon

BJP ने असम में किया वो कमाल जो अब तक कोई गैर कांग्रेस सरकार ना कर सकी

May 03, 2021 01:35 IST | By Editorji News Desk

सर्बानंद सोनोवाल की बाइट (हम सरकार बना रहे हैं)
पूर्वोत्तर में असम के सीएम सोनोवाल का ये आत्मविश्वास यूं ही नहीं है, दरअसल बीजेपी ने असम में दो उपलब्धियां हासिल की है. एक तो उसने 10 दलों के महागठबंधन की चुनौती को ध्वस्त किया है. और साथ ही में वो कारनामा कर दिखाया है जो कभी भी कोई गैर कांग्रेस सरकार नहीं कर पाई है.. ये पहली बार है कि असम में पहली बार किसी गैर कांग्रेस सरकार की सत्ता में वापसी हुई है...बीजेपी,असम गण परिषद और यूनाइटेड पीपल्स पार्टी लिबरल के गठबंधन ने राज्य में कांग्रेस के नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रचे गए नरेटिव को ध्वस्त कर विजय हासिल की है. असम में कांग्रेस अपने चुनाव प्रचार को लेकर खासी आक्रामक थी और प्रचार नागरिकता संशोधन कानून यानि CAA के इर्द गिर्द ही रहा. राज्य में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने अपने चुनाव प्रचार में लगातार सीएए का मुद्दा उठाया था हालांकि हेमंत बिस्वा सरमा कहते रहे कि असम में CAA कोई मुद्दा है ही नहीं...जानकार मानते हैं कि वोटों का ध्रुवीकरण करने में बीजेपी कामयाब रही,ऊपरी असम में बीजेपी विरोधी वोट पूरी तरह बंट गए

इन वोटों का एक हिस्सा क्षेत्रीय दलों के साथ गया है तो एक हिस्सा कांग्रेस गठबंधन के साथ

वहीं निचले असम और बराक घाटी में भी वोटों का ध्रुवीकरण हुआ. जानकारों का कहना है कि कांग्रेस को असल नुकसान AIUDF की वजह से हुआ. निचले असम और बराक घाटी का हिंदू वोटर AIUDF की वजह से कांग्रेस के साथ नहीं गया, क्योंकि अमूमन इन दोनों ही इलाकों में कांग्रेस की स्थिति अच्छी रहती आई है लेकिन इस बार उसे सीटों का नुकसान उठाना पड़ा है
-नागरिकता कानून पर भी बीजेपी ने पहले बचाव की मुद्रा की अपनी रणनीति को बदल कर खुलकर अपनी राय सामने रखी. घुसपैठ का मुद्दा उठाते हुए बीजेपी ने महागठबंधन की जीत को असमिया पहचान के खतरे से जोड़ दिया. चाय बागान मजदूरों के मुद्दे, बेघरों की भूमि के पट्टे के मुद्दे ने फायदा पहुंचा जीत के पीछे महिलाओं को वित्तीय सहायता देने वाली उरुनोदोई जैसी स्कीम का असर भी देखा जा रहा है. लड़कियों को स्कूटर देने और अटल अमृत अभियान भी वोटरों के बीच पैठ कायम करने में मददगार रहा बीजेपी की सोशल इंजीनियरिंग की रणनीति पर सफल होती दिखी कार्बी, दिमासा, मीशिग, राभा और तिवा समुदाय के वोटर भी पार्टी के पक्ष में खड़े दिखाई दिए.

BJP ने असम में किया वो कमाल जो अब तक कोई गैर कांग्रेस सरकार ना कर सकी

1/3

BJP ने असम में किया वो कमाल जो अब तक कोई गैर कांग्रेस सरकार ना कर सकी

Rahul on Rafale: राफेल डील पर राहुल ने लिखी गांधीजी की उक्ति, कहा- अल्पमत में भी सच तो सच होता है

2/3

Rahul on Rafale: राफेल डील पर राहुल ने लिखी गांधीजी की उक्ति, कहा- अल्पमत में भी सच तो सच होता है

Tripura: होटल में नजरबंद I-PAC टीम के 23 सदस्य हुए रिहा, डेरेक बोले- मोदी-शाह को सीधी टक्कर देंगी दीदी

3/3

Tripura: होटल में नजरबंद I-PAC टीम के 23 सदस्य हुए रिहा, डेरेक बोले- मोदी-शाह को सीधी टक्कर देंगी दीदी

चुनाव