Even in Ramadan, the number of namazis in Nizamuddin's Markaz Mosque will not increase, only 5 people will be able to offer Namaz-रमजान में भी निजामुद्दीन की मरकज मस्जिद में नमाजियों की संख्या नहीं बढ़ेगी, सिर्फ 5 लोग ही पढ़ सकेंगे नमाज- - रमजान में भी न | Editorji Hindi
  1. home
  2. > लोकल ख़बरें
  3. > रमजान में भी निजामुद्दीन की मरकज मस्जिद में नमाजियों की संख्या नहीं बढ़ेगी, 5 लोग ही पढ़ सकेंगे नमाज़
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

रमजान में भी निजामुद्दीन की मरकज मस्जिद में नमाजियों की संख्या नहीं बढ़ेगी, 5 लोग ही पढ़ सकेंगे नमाज़

Apr 14, 2021 00:27 IST | By Editorji News Desk

रमजान के लिए निजामुद्दीन की मरकज मस्जिद अगले आदेश तक लोगों के लिए नहीं खोली जाएगी और इसमें सिर्फ 5 लोग ही नमाज पढ़ सकेंगे जैसा कि बीते कई महीनों से हो रहा है, दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को ये साफ किया. मस्जिद खोलने की याचिका पर सोमवार को हाईकोर्ट ने कहा था कि इसे DDMA की गाइडलाइंस के मुताबिक खोला जाए. जिसपर मंगलवार को केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस ने मस्जिद खोलने से इनकार करते हुए DDMA गाइडलाइंस का ही हवाला दिया और कहा कि इसके तहत किसी भी धार्मिक जगह पर भीड़ जुटने की इजाजत नहीं है. इसपर हाईकोर्ट की जज जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को इस बाबत हलफनामा दाखिल करने को कहा है कि दिल्ली में कहां कहां DDMA के तहत धार्मिक अनुष्ठान की इजाजत नहीं है और कहां है. 

सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में कहा कि कोविड की वजह से हर जगह धार्मिक आयोजन पर रोक है, ऐसे में मस्जिद खोलने की इजाजत नहीं दे सकते. इसपर वक्फ बोर्ड के वकील ने कोर्ट में बहुत से दूसरे धार्मिक जगहों की तस्वीरें रखीं, जहां कोई कोविड नियम का पालन नहीं हो रहा. इसमें दिल्ली के मंदिरों के अलावा हरिद्वार कुंभ का भी जिक्र किया गया कि आखिर कैसे वहां लाखों लोगों को इकट्ठा होने की इजाजत दी गई. साथ ही SGI से पूछा कि क्या कोविड के नियम धर्म देख कर लगाए जाते हैं. 

कुंभ पर जस्टिस गुप्ता ने कहा कि किस राज्य में क्या हो रहा है वो मेरे कार्यक्षेत्र में नहीं है, लेकिन अगर मरकज़ को लेकर मेरे पास याचिका है तो फिर मैं इसका निपटारा कानून के दायरे में ही करूंगी, अगर डीडीएमए की गाइडलाइन्स है कि धार्मिक अनुष्ठान और भीड़ की इजाजत नहीं है तो मैं ये आदेश जारी नहीं कर सकती कि 200 या 500 लोगों को मरकज़ में जाने की इजाजत दी जाए.

लोकल ख़बरें