Chirag appealed to PM Modi, asked- Why is Ram silent when Hanuman is killed? - LJP Controversy: चिराग की PM मोदी से गुहार, पूछा- हनुमान का वध होने पर राम चुप क्यों हैं? | Editorji Hindi
  1. home
  2. > राजनीति
  3. > LJP Controversy: चिराग की PM मोदी से गुहार, पूछा- हनुमान का वध होने पर राम चुप क्यों हैं?
prev icon/Assets/images/svg/play_white.svgnext button of playermute button of playermaximize icon
mute icontap to unmute
video play icon
00:00/00:00
prev iconplay paus iconnext iconmute iconmaximize icon
close_white icon

LJP Controversy: चिराग की PM मोदी से गुहार, पूछा- हनुमान का वध होने पर राम चुप क्यों हैं?

Jun 24, 2021 12:28 IST | By Editorji News Desk

लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) में छिड़ी रार के बीच करीब-करीब अकेले हुए चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने अब PM मोदी से गुहार लगाई है. समाचार एजेंसी एएनआई चिराग ने कहा कि हनुमान का वध होने पर यदि राम चुप रहे तो यह ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी की चुप्पी (BJP's silence) से दुखी हूं.

चिराग ने कहा कि उनकी पार्टी लोजपा हनुमान की तरह हर छोटे-बड़े फैसले पर नरेंद्र मोदी जी के साथ खड़ी रही है. अब इसी हनुमान की लोजपा पर संकट की घड़ी आई है तो मुझे उम्मीद थी कि राम हस्तक्षेप करेंगे और किसी तरह इस विवाद को सुलझाने की कोशिश करेंगे. हालांकि इसके साथ ही चिराग ने ये भी कहा कि उन्हें पीएम पर पूरा भरोसा (full faith in PM) है कि वे स्थिति को नियंत्रण में लेकर इस राजनीतिक मुद्दे को सुलझाने के लिए हस्तक्षेप जरूर करेंगे. चिराग ने अपनी बातचीत में नीतीश पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यह एक खुला रहस्य है नीतीश ने उनकी पार्टी में फूट डाली है.

LJP Controversy: चिराग की PM मोदी से गुहार, पूछा- हनुमान का वध होने पर राम चुप क्यों हैं?

1/3

LJP Controversy: चिराग की PM मोदी से गुहार, पूछा- हनुमान का वध होने पर राम चुप क्यों हैं?

Prashant Kishor: IPAC की टीम का आरोप- त्रिपुरा पुलिस ने सर्वे करने गए लोगों को किया नजरबंद

2/3

Prashant Kishor: IPAC की टीम का आरोप- त्रिपुरा पुलिस ने सर्वे करने गए लोगों को किया नजरबंद

BS Yediyurappa के इस्तीफे से लिंगायत समाज नाराज, BJP को दी नुकसान भुगतने की चेतावनी

3/3

BS Yediyurappa के इस्तीफे से लिंगायत समाज नाराज, BJP को दी नुकसान भुगतने की चेतावनी

राजनीति