राजस्थान के अदालती-प्रशासनिक मामलों में जाति नहीं लिखी जाए: हाईकोर्ट

  1. home
  2. > लोकल ख़बरें
  3. > राजस्थान के अदालती-प्रशासनिक मामलों में जाति नहीं लिखी जाए: हाईकोर्ट
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

राजस्थान के अदालती-प्रशासनिक मामलों में जाति नहीं लिखी जाए: हाईकोर्ट

Apr 28, 2020 20:30 IST

राजस्थान हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि अब राज्य के किसी भी न्यायिक या प्रशासनिक मामले में किसी भी व्यक्ति की जाति नहीं लिखी जाएगी. राजस्थान हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि जाति के आधार पर किसी की भी पहचान बताना संविधान के खिलाफ है. हाईकोर्ट का ये आदेश सोमवार देर रात कोर्ट की वेबसाइट पर जारी कर दिया गया है. आदेश में साफ तौर से लिखा है कि भविष्य में किसी की भी जाति का उल्लेख नहीं किया जाए. इस बारे में जुलाई 2018 में हाईकोर्ट के जस्टिस एसपी शर्मा के एक फैसले का भी उल्लेख है, जब उन्होंने आदेश दिया था कि जाति किसी की पहचान का आधार नहीं हो सकता. व्यक्ति की पहचान उसके पितृत्व के आधार पर होनी चाहिए न कि जाति के आधार पर.

लोकल ख़बरें