1. home
  2. > एडिटरजी स्पेशल
  3. > कमाल हैं रहमान
replay trump newslist
up NEXT IN 5 SECONDS sports newslist
tap to unmute
00:00/00:00
NaN/0

कमाल हैं रहमान

Jan 06, 2020 11:40 IST

ए.आर.रहमान, एक भारतीय संगीत निर्देशक, गायक, और म्यूजिक कम्पोजर हैं. ए.आर.रहमान, का जन्म 6 जनवरी, 1967 को चेन्नई में हुआ. पहले ए.आर.रहमान का नाम ‘अरुणाचलम् शेखर दिलीप कुमार मुदलियार’ रखा गया था और धर्मपरिवर्तन के पश्चात उन्होंने अल्लाह रक्खा रहमान नाम दिया गया. ए. आर. रहमान ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्हें ब्रिटिश भारतीय फिल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए दो ऑस्कर पुरस्कार प्राप्त हुए है. इसी फिल्म के गीत 'जय हो' के लिए सर्वश्रेष्ठ साउंडट्रैक कंपाइलेशन और सर्वश्रेष्ठ फिल्मी गीत की श्रेणी में दो ग्रैमी पुरस्कार भी मिले. आज उनकी जिंदगी के कुछ अनछुए पहलुओं पर रोशनी डालते हैं. रहमान करना चाहते थे खुदकुशी 25 साल की उम्र में रहमान खुद को बेहद असफल मानते थे और रोज आत्महत्या के बारे में सोचते थे ऐसे मिला रहमान को पहला ब्रेक रहमान को संगीत अपने पिता से विरासत में मिली है। उनके पिता राजगोपाल कुलशेखर मलयालम फ़िल्मों में संगीतकार थे. 1991में रहमान ने अपना खुद का म्यूजिक रिकॉर्ड करना शुरु किया.1991 में उन्हें फिल्म डायरेक्टर मणिरत्नम ने अपनी फिल्म रोजा में संगीत देने का प्रस्ताव दिया. एल्बम रिलीज से पहले नहीं सोते रहमान म्यूजिक में पर्फेक्शन लाने के लिए रहमान कोई भी एल्बम रिलीज होने के बीस दिन पहले उसके गानों में लगातार डूबे रहते हैं। वे एक-एक गाने को कई बार सुनते हैं. इस दौरान वे मुश्किल से दिन में एक घंटे सोते हैं. रहमान को मिले पुरस्कार संगीत में अभूतपूर्व योगदान के लिए 1995 में मॉरीशस नेशनल अवॉर्ड्स से सम्मानित हुए. फर्स्ट वेस्ट एंड प्रोडक्शन के लिए लारेंस ऑलीवर अवॉर्ड्स भी मिला. चार बार संगीत के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता को 2000 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया. ब्रिटिश भारतीय फिल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए ऑस्कर पुरसकार मिला. हिन्दी म्यूजिकल फिल्म प्रोड्यूस कर रहे हैं रहमान रहमान इन दिनों फिल्में बनाने में भी काफी समय दे रहे हैं। जहां वे 99 सॉन्ग्स नाम की हिन्दी म्यूजिकल फिल्म प्रोड्यूस कर रहे हैं वहीं ले मस्क फिल्म का उन्होंने निर्देशन किया है। 'ले मस्क' वर्जुअल रियलिटी आधारित शॉर्ट फिल्म है जिसे रहमान 5डी में रिलीज करेंगे। अपने इस नए पैशन के बारे में रहमान कहते हैं कि वे फिल्म निर्माण में इसलिए आए क्योंकि वे बहुत जल्दी बोर हो जाते हैं।

एडिटरजी स्पेशल