हाइलाइट्स

  • लाला अमरनाथ ने किया था डॉन ब्रैडमैन को हिट विकेट
  • भारत की तरफ से टेस्ट शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज
  • पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट सीरीज जिताने वाले पहले कप्तान
  • आजाद भारत के पहले टेस्ट कप्तान थे लाला अमरनाथ

लेटेस्ट खबर

PMO Declares Assets of Ministers: पीएम Modi के पास है कितनी संपत्ति? जानें कितना दान दिया?

PMO Declares Assets of Ministers: पीएम Modi के पास है कितनी संपत्ति? जानें कितना दान दिया?

Cyber Crime: सेक्सुअल हैरेसमेंट केस 6300%-साइबर क्राइम 400% बढ़े! कहां जा रहा 24 हजार करोड़

Cyber Crime: सेक्सुअल हैरेसमेंट केस 6300%-साइबर क्राइम 400% बढ़े! कहां जा रहा 24 हजार करोड़

Nitish Kumar: हर चुनाव से पहले पलट जाते हैं नीतीश कुमार, जानिए कब-कब पलटी मारी, लेकिन बने रहे CM

Nitish Kumar: हर चुनाव से पहले पलट जाते हैं नीतीश कुमार, जानिए कब-कब पलटी मारी, लेकिन बने रहे CM

Bihar Political Crisis: बदल जाएगा दिल्ली से बिहार तक का सियासी समीकरण, JDU-RJD गठबंधन के मायने समझिए

Bihar Political Crisis: बदल जाएगा दिल्ली से बिहार तक का सियासी समीकरण, JDU-RJD गठबंधन के मायने समझिए

सदी के बेहतरीन अंपायरों में से एक Rudi Koertzen की अचानक हुई मौत, क्रिकेट जगत में फैली शोक की लहर

सदी के बेहतरीन अंपायरों में से एक Rudi Koertzen की अचानक हुई मौत, क्रिकेट जगत में फैली शोक की लहर

Lala Amarnath: पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकता था ये भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी | Jharokha 5 August

महान क्रिकेटर लाला अमरनाथ (Lala Amarnath) को नानिक अमरनाथ के नाम से भी जानते हैं. आइए जानते हैं लाला अमरनाथ की जिंदगी के अनछुए किस्सों को इस खास शो में...

महान क्रिकेटर लाला अमरनाथ (Lala Amarnath) को नानिक अमरनाथ के नाम से भी जानते हैं. लाला अमरनाथ ने इंटरनेशनल क्रिकेट (International Cricket) में भारत की ओर से पहला शतक जड़ा था. वे भारत के पहले ऑलराउंडर थे जिन्होंने बल्ले के अलावा एक गेंदबाज के रूप में भी धमाल मचाया. उन्हें भारत सरकार ने साल 1991 में खेल के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए पद्म भूषण (Padma Bhushan) से सम्मानित किया.

ये भी देखें- JRD Tata Biography: सुधा मूर्ति के दफ्तर में क्यों लगी है भारत रत्न JRD टाटा की फोटो?

लाला अमरनाथ मूलतः दिल्ली के ही रहने वाले थे. लाला अमरनाथ का जन्म 11 सितंबर 1911 के दिन एक कायस्थ परिवार में हुआ था. लाला अमरनाथ का निधन 5 अगस्त 2000 को 88 बरस की उम्र में दिल्ली में हुआ. तब भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने अपने शोक संदेश में उन्हें भारतीय क्रिकेट का आइकन करार दिया था. आइए आज इस लेख में जानते हैं लाला अमरनाथ की जिंदगी के अनसुने किस्सों को...

बात तब की है जब भारत को आजाद हुए महज एक साल हुए थे और तारीख थी- 29 नवंबर 1948. भारतीय क्रिकेट टीम ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई थी. पहले टेस्ट की पहली पारी में क्रिकेट के ऑल टाइम ग्रेट बैट्समैन डॉन ब्रेडमैन (Sir Don Bradman) क्रीज पर मौजूद थे और दोहरे शतक की ओर बढ़ रहे थे. उन्होंने तकरीबन हर भारतीय गेंदबाज की खूब खबर ली थी. तभी गेंद संभाली भारतीय क्रिकेट के एक लीजेंड ने.

मध्यम गति से तेज गेंदबाजी करने वाले इस दिग्गज की गेंद बेहतरीन स्विंग हो रही थी. ब्रैडमैन तब 185 के निजी स्कोर पर खेल रहे थे, उसी वक्त उस गेंदबाज की एक शार्टपिच गेंद को ब्रैडमैन ने पीछे हटकर कट करना चाहा लेकिन गेंद के अचानक उछल जाने से वे चूके और लड़खड़ाकर स्टंप से टकरा गए. स्टंप की गिल्लियां नीचे गिर गईं और ब्रैडमैन अपने करियर में पहली और इकलौती बार हिट विकेट हो गए. जिस गेंदबाज ने ये असंभव सा कारनामा किया था वो थे लाला अमरनाथ (Lala Amarnath).

ये भी देखें- Third Battle of Panipat: सदाशिव राव की एक 'गलती' से मराठे हार गए थे पानीपत की जंग

5 अगस्त 2000 को हुई लाला अमरनाथ की मृत्यु

आज की तारीख का संबंध है उसी दिग्गज लाला अमरनाथ (Lala Amarnath) से है जिन्होंने भारतीय क्रिकेट में कई ऐसे रिकॉर्ड बनाए जो शायद ही कभी टूट पाएं. आज ही के दिन यानि 5 अगस्त 2000 को उन्होंने नई दिल्ली में अपनी आखिरी सांसें ली थी. अपने दौर में क्रिकेट की बदौलत वे इतने लोकप्रिय हो गए थे कि लोग मजाक में कहते थे कि यदि वे पाकिस्तान (Pakistan) में भी चुनाव लड़ें तो जीत जाएंगे.

लाला अमरनाथ की कप्तानी में पहली बार भारत से हारा पाक

वैसे तो लाला अमरनाथ जिस वक्त क्रिकेट खेल रहे थे उस वक्त भी भारत में कई दिग्गज क्रिकेटर मौजूद थे...मसलन सीके नायडू (CK Nayudu), महाराज कुमार (Maharajkumar) और इफ्तिकार अली खान पटौदी (Iftikhar Ali Khan Pataudi) लेकिन जब भारत को आजादी मिली तो टीम इंडिया के पहले कप्तान बने लाला अमरनाथ. लाला अमरनाथ ही वो पहले कप्तान थे जिनकी सरपरस्ती में भारत ने पहली बार पाकिस्तान को पटखनी दी.

दरअसल, देश बंटने के बाद धीरे-धीरे भारत-पाकिस्तान के बीच स्थितियां सामान्य होने लगी थी. साल 1952 में उनके नेतृत्व में टीम इंडिया ने पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में हराया. भारत के दौरे पर आई पाकिस्तान टीम की यह पहली टेस्ट सीरीज थी. पांच मैचों की ये सीरीज भारत ने 2-1 से जीती थी. इस सीरीज में भारत ने पहला और तीसरा टेस्ट जीता था, जबकि पाकिस्तान ने दूसरा मैच जीता और आखिरी के दो टेस्ट मैच ड्रॉ पर खत्म हुए थे. अहम ये भी है कि इस सीरीज से पहले भारतीय टीम ने आठ घरेलू सीरीज खेली थी, जिसमें से सात में उसे हार का सामना करना पड़ा था.

ये भी देखें- Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका?

11 सितंबर 1911 को जन्मे थे लाला अमरनाथ

पाकिस्तान को चारों खाने चित करने वाले लाला अमरनाथ की हर सांस में क्रिकेट ही बसता था. पंजाब के कपूरथला में 11 सितंबर 1911 को जन्मे लाला अमरनाथ की परवरिश लाहौर में हुई. उन्हें बचपन से ही क्रिकेट खेलना पसंद था. कड़ी मेहनत और धुन के धनी अमरनाथ ने क्रिकेट के अलावा कभी कुछ देखा ही नहीं और धीरे-धीरे टेस्ट क्रिकेट के इतिहास का वो ऐसा नाम बन गए जिसे दुनिया बरसों तक अपने साथ रख सकती है. अपने छोटे से करियर में अनेक रिकॉर्ड्स के मालिक रह चुके अमरनाथ ने 15 दिसंबर 1933 को अपने करियर के पहले ही टेस्ट मैच में शतक लगा दिया था.

इंग्लैंड के खिलाफ इस टेस्ट मैच की दूसरी पारी में उन्होंने 118 रनों की शानदार पारी खेली थी. अमरनाथ की ये पहली शतकीय पारी कई मायनों में अनोखी थी. उन्होंने 185 मिनटों में 21 चौकों की मदद से 118 रन बनाए थे. सिर्फ 78 मिनट में 83 के स्कोर पर पहुंच गए थे, तेज गेंदबाज से लेकर स्पिनर्स सभी को कूट दिया था, 117 मिनट में शतक पूरा किया था. बता दें कि तब स्ट्राइक रेट मिनटों के हिसाब से कैलकुलेट होता था. उस समय तक भारत की ओर से किसी भी क्रिकेटर ने टेस्ट मैच में शतक नहीं लगाया था. इस मैच को इंग्लैंड ने जरूर जीता था, लेकिन शोर बस एक ही नाम का था लाला अमरनाथ.

लाला अमरनाथ ने 12 साल बाद की टीम में वापसी

लाला अमरनाथ के नाम एक ऐसा भी रिकॉर्ड रहा है जो उन्हें एक बेहतरीन खिलाड़ी के श्रेणी में रखता है. लाला, टेस्ट क्रिकेट में सबसे लंबे समय तक टीम से बाहर रहकर वापसी करने वाले भारतीय खिलाड़ी हैं. अमरनाथ ने 1933-1934 के बीच महज दो टेस्ट मैच खेले थे और पहले टेस्ट मैच में शतक जड़ने के बाद भी उन्हें टीम से बाहर रखा गया. एक दो साल नहीं, पूरे 12 साल बाद 1946 में उन्होंने टीम में वापसी की. इस वापसी के बाद लाला कई सालों तक टीम का मजबूत स्तंभ बन कर टिके रहे. उनके रिकॉर्ड्स आपको अचंभित कर सकते हैं.

ये भी देखें- Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM?

लाला अमरनाथ के बेटे भी भारत के लिए खेले

मसलन- एक ही टेस्ट मैच में एक पारी में पचास रन और पांच विकेट लेने वाले वे पहले भारतीय ऑलराउंडर थे. दस या उससे अधिक मैचों में देश का नेतृत्व करने वाले वे पहले भारतीय टेस्ट कप्तान थे. इसके अलावा रणजी ट्रॉफी में पांच राज्यों के लिए खेलने वाले पहले क्रिकेटर हैं. अमरनाथ ने 24 टेस्ट मैचों में एक शतक और चार अर्धशतक के साथ 24.38 की औसत से 878 रन बनाए. वहीं, 32.91 की औसत से 45 विकेट भी चटकाए, उन्होंने 186 फर्स्ट क्लास मैचों में 10,000 से अधिक रन बनाने के अलावा 22.98 की बेहतरीन औसत के साथ 463 विकेट भी अपने नाम किए. यही नहीं उनके दो बेटों ने भी टीम इंडिया की तरफ से कई मैच खेले. उनमें से एक मोहिंदर अमरनाथ ने तो भारत को 1983 वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका भी निभाई.

उनके बेटे और टेस्ट क्रिकेटर रहे सुरिंदर अमरनाथ पाकिस्तान और अपने पिता के रिश्ते को लेकर कई किस्से बताते हैं. सुरिंदर के मुताबिक लाला के पाकिस्तान के साथ रिश्ते कमाल के थे. ये बात 1978 की है. रावलपिंडी में टीम इंडिया का एक ऑफिशियल डिनर था जो वहां के गवर्नर ने दिया था. जिसमें भारत और पाकिस्तान, दोनों टीमों के खिलाड़ी थे. ऑफिशियल उनसे बात कर रहे थे. गवर्नर भी थे. अचानक अनाउंसमेंट हुआ और बताया गया कि लाला अमरनाथ आ गए हैं. सुरिंदर ने उसके बाद देखा, तो कोई पाकिस्तानी अधिकारी उनकी टीम के आसपास नहीं था.

पाकिस्तान में मिला था स्टेट गेस्ट का दर्जा

सब लाला अमरनाथ को घेरे थे. खुद गवर्नर भी उनके साथ खड़े हुए थे. सुरिंदर एक और किस्सा बताते हैं- भारतीय टीम पाकिस्तान गई थी. तब टीम के मैनेजर थे- फतेहसिंह राव गायकवाड़ (Fateh Singh Rao Gaekwad ). एयरपोर्ट पर एक टीम बस थी और एक मर्सिडीज आई थी. मैनेजर साहब टीम के पास आए और कहा कि चलो बॉयज, हम लोग होटल में मिलते हैं. तुम लोग बस से जाओ. मैं गाड़ी से आता हूं. तब उन्हें पीछे खड़े सेक्रेटरी ने धीरे से समझाया कि ये गाड़ी आपके लिए नहीं है. वो हैरान कि ये किसके लिए है? सेक्रेटरी ने कहा कि ये लालाजी के लिए है. सरकारी गाड़ी है. उन्हें यहां स्टेट गेस्ट का दर्जा मिला है. आप खुद समझ सकते हैं कि अगर 70 के दशक में ये हाल था, तो उनके प्लेइंग डेज में क्या होता होगा.

ये भी देखें- Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं

चलते-चलते आज के दिन घटी दूसरी अहम घटनाओं पर भी निगाह डाल लेते हैं

1914: अमेरिका में पहली इलेक्ट्रिक ट्रैफिक (First Traffic Light) लाइट लगाई गई

1962: हॉलीवुड अभिनेत्री मर्लिन मुनरो (Hollywood Actress Marilyn Monroe) लॉस एंजेलिस स्थित आवास में मृत पाई गईं

2019: मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाने का ऐलान किया

2020: अयोध्या में राममंदिर (Shri Ram Mandir Ayodhya) का भूमि पूजन समारोह संपन्न हुआ

अप नेक्स्ट

Lala Amarnath: पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकता था ये भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी | Jharokha 5 August

Lala Amarnath: पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकता था ये भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी | Jharokha 5 August

सदी के बेहतरीन अंपायरों में से एक Rudi Koertzen की अचानक हुई मौत, क्रिकेट जगत में फैली शोक की लहर

सदी के बेहतरीन अंपायरों में से एक Rudi Koertzen की अचानक हुई मौत, क्रिकेट जगत में फैली शोक की लहर

Asia Cup 2022: फिर हुआ Sanju के साथ अन्याय, एशिया कप स्क्वाड में इस खिलाड़ी के नहीं चुने जाने पर मचा बवाल

Asia Cup 2022: फिर हुआ Sanju के साथ अन्याय, एशिया कप स्क्वाड में इस खिलाड़ी के नहीं चुने जाने पर मचा बवाल

'मेरे टीम में जरूर होते Shami', एशिया कप के लिए चुने गए स्क्वाड से नाखुश दिखे BCCI के पूर्व चयनकर्ता

'मेरे टीम में जरूर होते Shami', एशिया कप के लिए चुने गए स्क्वाड से नाखुश दिखे BCCI के पूर्व चयनकर्ता

भांगड़े पर थिरके भारतीय एथलीट, CWG 2022 के समापन समारोह में दमदार प्रस्तुति देकर कलाकारों ने जमाया रंग

भांगड़े पर थिरके भारतीय एथलीट, CWG 2022 के समापन समारोह में दमदार प्रस्तुति देकर कलाकारों ने जमाया रंग

Asia cup 2022 के लिए टीम इंडिया का ऐलान, चोट के चलते Bumrah बाहर, Kohli और Kl Rahul की टीम में वापसी

Asia cup 2022 के लिए टीम इंडिया का ऐलान, चोट के चलते Bumrah बाहर, Kohli और Kl Rahul की टीम में वापसी

और वीडियो

Asia cup 2022 के आगाज से पहले टीम इंडिया को बड़ा झटका, चोट के चलते Jasprit Bumrah टूर्नामेंट से हुए बाहर

Asia cup 2022 के आगाज से पहले टीम इंडिया को बड़ा झटका, चोट के चलते Jasprit Bumrah टूर्नामेंट से हुए बाहर

CWG 2022: 4 नए गोल्ड मेडल की बदौलत न्यूजीलैंड को पीछे छोड़ चौथे स्थान पर पहुंचा भारत, ऑस्ट्रेलिया टॉप पर

CWG 2022: 4 नए गोल्ड मेडल की बदौलत न्यूजीलैंड को पीछे छोड़ चौथे स्थान पर पहुंचा भारत, ऑस्ट्रेलिया टॉप पर

40 साल के अचंता शरथ कमल ने जीता टेबल टेनिस के पुरुष एकल में गोल्ड, CWG 2022 में ये उनका तीसरा स्वर्ण पदक

40 साल के अचंता शरथ कमल ने जीता टेबल टेनिस के पुरुष एकल में गोल्ड, CWG 2022 में ये उनका तीसरा स्वर्ण पदक

CWG 2022 : बैडमिंटन से आया तीसरा सोना, सात्विक-चिराग की जोड़ी ने पुरुष युगल में भारत को दिलाया गोल्ड

CWG 2022 : बैडमिंटन से आया तीसरा सोना, सात्विक-चिराग की जोड़ी ने पुरुष युगल में भारत को दिलाया गोल्ड

CWG 2022 : सिंधु के बाद लक्ष्य ने जीता गोल्ड, फाइनल मुकाबले में मलेशिया के त्ज़े योंग को दी मात

CWG 2022 : सिंधु के बाद लक्ष्य ने जीता गोल्ड, फाइनल मुकाबले में मलेशिया के त्ज़े योंग को दी मात

CWG 2022: भारत की झोली में आया एक और गोल्ड, स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी PV Sindhu ने महिला एकल में जीता सोना

CWG 2022: भारत की झोली में आया एक और गोल्ड, स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी PV Sindhu ने महिला एकल में जीता सोना

IND vs WI: बिश्नोई-अक्षर के स्पिन जाल में उलझे कैरेबियाई बल्लेबाज, टीम इंडिया ने 4-1 से जीती टी-20 सीरीज

IND vs WI: बिश्नोई-अक्षर के स्पिन जाल में उलझे कैरेबियाई बल्लेबाज, टीम इंडिया ने 4-1 से जीती टी-20 सीरीज

CWG 2022: महिला क्रिकेट फाइनल से आई चौंकाने वाली खबर, कोविड पॉजिटिव होने पर भी खेली ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

CWG 2022: महिला क्रिकेट फाइनल से आई चौंकाने वाली खबर, कोविड पॉजिटिव होने पर भी खेली ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

CWG 2022: वर्ल्ड चैंपियन Nikhat Zareen ने लगाया गोल्डन पंच, बॉक्सिंग से भारत की झोली में आया तीसरा स्वर्ण

CWG 2022: वर्ल्ड चैंपियन Nikhat Zareen ने लगाया गोल्डन पंच, बॉक्सिंग से भारत की झोली में आया तीसरा स्वर्ण

CWG 2022: बर्मिंघम में विनेश फोगाट ने रचा इतिहास, लगातार तीन गोल्ड जीतने वाली बनीं पहली भारतीय रेसलर

CWG 2022: बर्मिंघम में विनेश फोगाट ने रचा इतिहास, लगातार तीन गोल्ड जीतने वाली बनीं पहली भारतीय रेसलर

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.