हाइलाइट्स

गोरखपुर संसदीय सीट से राजनीतिक दृष्टि से बेहद अहम राज्य यूपी के मुख्यमंत्री तक, आइए जानते हैं Yogi Adityanath की जिंदगी को...

लेटेस्ट खबर

Delhi में अभी जारी रहेगा वीकेंड कर्फ्यू, 50% क्षमता से खुलेंगे प्राइवेट ऑफिस

Delhi में अभी जारी रहेगा वीकेंड कर्फ्यू, 50% क्षमता से खुलेंगे प्राइवेट ऑफिस

कॉलेज के दिनों में फिल्म मेकर बनना चाहते थे Anand Mahindra, ट्वीट में किया खुलासा

कॉलेज के दिनों में फिल्म मेकर बनना चाहते थे Anand Mahindra, ट्वीट में किया खुलासा

Uttarakhand Elections: हरक सिह रावत की कांग्रेस में घर वापसी, बहू भी कांग्रेस से जुड़ीं

Uttarakhand Elections: हरक सिह रावत की कांग्रेस में घर वापसी, बहू भी कांग्रेस से जुड़ीं

Kili Paul ने Pushpa के ‘फ्लावर समझे क्या’ डायलॉग पर बनाया वीडियो, सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

Kili Paul ने Pushpa के ‘फ्लावर समझे क्या’ डायलॉग पर बनाया वीडियो, सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

IND vs SA: साउथ अफ्रीका की धरती पर पंत का बड़ा धमाका, एक झटके में पीछे छूटे धोनी-द्रविड़

IND vs SA: साउथ अफ्रीका की धरती पर पंत का बड़ा धमाका, एक झटके में पीछे छूटे धोनी-द्रविड़

योगी आदित्यनाथ: एक भावुक शख्स या कट्टर हिंदूवादी नेता!

  • 1998 में गोरखपुर से चुने गए योगी आदित्यनाथ सबसे युवा सांसद थे
  • हेमवंती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से मैथमेटिक्स में ग्रेजुएशन पूरी की
  • योगी का विवादों से भी है गहरा नाता, कई संगीन धाराओं में दर्ज हैं मामले

"गोरखपुर जाते हुए मुझे शांतिभंग करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. उस मामले में मुझे सिर्फ 12 घंटे बंद रखा जा सकता था लेकिन मैं 11 दिन जेल में रहा..."

साल 2006 में संसद सत्र के दौरान लोकसभा स्पीकर के आगे Yogi Adityanath ने जब ये बातें बोलीं, वह रो पड़े थे... दो साल पहले ही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) केंद्र की कुर्सी से विदा हुई थी और दो साल बाद, इस वाकये के दौरान शायद ही किसी ने सोचा होगा कि 35 साल का यह शख्स आगे चलकर यूपी में प्रचंड बहुमत वाली बीजेपी की सरकार का मुख्यमंत्री बनेगा...

19 मार्च 2017 को योगी ने जब सीएम पद की शपथ ली, तब हर किसी के जहन में 2006 वाली तस्वीर भी ज़रूर उभर आई थी.

अजय मोहन बिष्ट से बन गए योगी आदित्यनाथ

5 जून 1972 को पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड में पैदा हुए थे अजय सिंह बिष्ट. गोरखनाथ मन्दिर (Gorakhnath Mandir) के महंत अवैधनाथ से इनके पारिवारिक संबंध थे. गोरखपुर (Gorakhpur) में ही अजय ने 1994 में संन्यास लिया और तब इनका नाम अजय सिंह बिष्ट (Ajay Singh Bisht) से योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) हो गया. 12 सितम्बर 2014 को गोरखनाथ मंदिर के महंत अवैद्यनाथ के निधन के बाद योगी यहां के महंत बने. 2 दिन बाद इन्हें नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्ठान के साथ मंदिर का पिता पीठाधीश्वर बनाया गया.

देखें- अबकी बार किसकी सरकार: कब खुलेगी ‘लाल इमली’ के मजदूरों की किस्मत? कानपुर में CM Yogi होंगे कामयाब?

राजनीतिक पारी

गोरखपुर संसदीय सीट (Gorakhpur Parliamentary Constituency) बीजेपी के लिए सर्वाधिक सुरक्षित सीटों में से है. वजह है गोरखनाथ मंदिर. योगी के राजनीतिक गुरू रहे महंत अवैद्यनाथ चौथी लोकसभा में हिंदू महासभा के टिकट पर चुनाव जीते थे. इसके बाद नौवीं, दसवीं तथा ग्यारहवीं लोकसभा में भी जीते. 1998 में योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर से बीजेपी प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और जीता. 12वीं लोकसभा में उस वक्त 26 साल के योगी सबसे युवा सांसद थे.

गोरखपुर संसदीय सीट और योगी का नाम एकसाथ तब तक जुड़ा रहा, जब तक 2017 में वह यूपी के सीएम नहीं बन गए.

मैथमेटिक्स में पढ़ाई

1977 में टिहरी गढ़वाल के स्कूल से ही शिक्षा की शुरुआत करने वाले योगी के बारे में कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने मैथमेटिक्स में बैचलर्स की डिग्री ली हुई है. 1992 में हेमवंती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से उन्होंने यह पढ़ाई पूरी की थी.

नाथ संप्रदाय, जिसके प्रमुख हैं योगी

नाथ संप्रदाय भारत योगियों का प्राचीन संप्रदाय है. ये संप्रदाय हठ योग पर आधारित है. इस संप्रदाय में योगियों के दाहसंस्कार नहीं होते. दीक्षा लेने के लिए इन्हें अपने कान छिदवाने होते हैं. यह एक कठोर प्रक्रिया होती है. इस पंथ के योगी या तो जीवित रहते समाधि लेते हैं या शरीर छोड़ने पर उन्हें समाधि दी जाती है. इनका अंत्येष्टि जलाकर नहीं होती है. ऐसा माना जाता है कि उनका शरीर योग से ही शुद्ध हो जाता है और उसे जलाने की कोई आवश्यकता नहीं होती है.

योगी और विवाद

योगी आदित्यनाथ से जुड़े विवाद भी कम नहीं. राजनीतिक जीवन में कई बार वह गंभीर धाराओं के तहत मुकदमेबाजी में फंसे हैं. इनमें 302 जैसी गंभीर धाराएं भी शामिल हैं. 1999 में महाराजगंज जिले में योगी के खिलाफ हत्या (302), हत्या की कोशिश (307) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. इनपर धारा 147 (दंगे की साजिश), 148 (घातक हथियार से हिंसा), आदि धाराओं में भी मामले दर्ज किए गए थे.

2006 में गोरखपुर जिले में इनपर 147, 148, 133A (उपद्रव खत्म करने के लिए सशर्त आदेश), आदि धाराओं में मुकदमे दर्ज हुए थे. यहीं पर इनके खिलाफ कब्रिस्तानों पर अतिक्रमण के लिए धारा 297 के तहत केस दर्ज किया गया था. 2007 में ही गोरखपुर के एक घटनाक्रम में उनपर 147, 133A, 295, 297, 435 धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए थे.

राज्य में बीजेपी की मौजूदा सरकार बनने के बाद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस भी लिए गए. इसमें, 1995 में गोरखपुर के पीपीगंज थाने में दर्ज मामला अहम है. तब धारा 144 लागू होने के बावजूद प्रदर्शन करने पर योगी पर मुकदमा दर्ज कर गैर जमानती वॉरंट जारी किया गया था.

राजनीतिक में कदम रखने के बाद से गोरखपुर तक सीमित रहे योगी आदित्यनाथ ने बीते कुछ सालों में खुद को एक मंझा हुआ राजनेता भी साबित किया है, जानकार संभावना जताते हैं कि आने वाले वक्त में योगी राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में भी अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करा सकते हैं.

अप नेक्स्ट

योगी आदित्यनाथ: एक भावुक शख्स या कट्टर हिंदूवादी नेता!

योगी आदित्यनाथ: एक भावुक शख्स या कट्टर हिंदूवादी नेता!

Uttarakhand Elections: हरक सिह रावत की कांग्रेस में घर वापसी, बहू भी कांग्रेस से जुड़ीं

Uttarakhand Elections: हरक सिह रावत की कांग्रेस में घर वापसी, बहू भी कांग्रेस से जुड़ीं

Punjab elections 2022: चरणजीत सिंह चन्नी हैं कांग्रेस के सीएम फेस, पंजाब सरकार के मंत्री का दावा

Punjab elections 2022: चरणजीत सिंह चन्नी हैं कांग्रेस के सीएम फेस, पंजाब सरकार के मंत्री का दावा

अमर जवान ज्योति के विलय से यूपी चुनाव तक... एक क्लिक में जानें शाम की बड़ी खबरें

अमर जवान ज्योति के विलय से यूपी चुनाव तक... एक क्लिक में जानें शाम की बड़ी खबरें

UP Elections 2022: यूपी में कांग्रेस का CM उम्मीदवार पूछने पर प्रियंका गांधी ने दिया मजेदार जवाब

UP Elections 2022: यूपी में कांग्रेस का CM उम्मीदवार पूछने पर प्रियंका गांधी ने दिया मजेदार जवाब

क्यों बनाई गई थी अमर जवान ज्योति? लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने बताई कहानी

क्यों बनाई गई थी अमर जवान ज्योति? लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने बताई कहानी

और वीडियो

SC में बुजुर्ग ने की आत्मदाह की कोशिश, घटना के बाद मचा हड़कंप

SC में बुजुर्ग ने की आत्मदाह की कोशिश, घटना के बाद मचा हड़कंप

UP Election 2022: किन-किन नेताओं पर तीसरे-चौथे चरण में दांव खेलेगी बीजेपी?

UP Election 2022: किन-किन नेताओं पर तीसरे-चौथे चरण में दांव खेलेगी बीजेपी?

मोदी सरकार ने बताया, इंडिया गेट पर अब क्यों जलेगी अमर जवान ज्योति

मोदी सरकार ने बताया, इंडिया गेट पर अब क्यों जलेगी अमर जवान ज्योति

PM मोदी का ऐलान, इंडिया गेट पर लगेगी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति

PM मोदी का ऐलान, इंडिया गेट पर लगेगी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति

UP Election 2022: यूपी के लिए कांग्रेस का ‘यूथ मेनिफेस्टो’, राहुल-प्रियंका बोले-20 लाख रोजगार देंगे

UP Election 2022: यूपी के लिए कांग्रेस का ‘यूथ मेनिफेस्टो’, राहुल-प्रियंका बोले-20 लाख रोजगार देंगे

Supreme Court ने महिलाओं के पक्ष में सुनाया बड़ा फैसला, पिता की संपत्ति पर बेटियों को मिलेगा अधिक अधिकार

Supreme Court ने महिलाओं के पक्ष में सुनाया बड़ा फैसला, पिता की संपत्ति पर बेटियों को मिलेगा अधिक अधिकार

UP Election 2022: योगी के मंत्री के विवादित बोल, कहा- वैक्सीन नहीं लगवानी तो जहर खा लेंं

UP Election 2022: योगी के मंत्री के विवादित बोल, कहा- वैक्सीन नहीं लगवानी तो जहर खा लेंं

UP Election 2022: कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्य BJP में हुईं शामिल, टिकट कटने से थी नाराज

UP Election 2022: कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्य BJP में हुईं शामिल, टिकट कटने से थी नाराज

UP Election 2022: कैराना में इकरा Vs मृगांका, जानिए क्यों दिलचस्प हुआ बहन-बेटी का मुकाबला?

UP Election 2022: कैराना में इकरा Vs मृगांका, जानिए क्यों दिलचस्प हुआ बहन-बेटी का मुकाबला?

Coronavirus India Update: देश में कोरोना आउट ऑफ कंट्रोल! 24 घंटे में आए 3.47 लाख केस

Coronavirus India Update: देश में कोरोना आउट ऑफ कंट्रोल! 24 घंटे में आए 3.47 लाख केस

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2019 All Rights Reserved.