हाइलाइट्स

  • स्वामी प्रसाद मौर्य की बिरादरी के वोटों का असर यूपी की 100 सीटों पर है
  • यूपी के 52 फीसदी पिछड़े वोट में 43 फीसदी गैर यादव वोट बैंक
  • स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी संघमित्र मौर्य अभी बदायूं से बीजेपी सांसद हैं

लेटेस्ट खबर

Uttar Pradesh में बारिश का अलर्ट के बीच वेस्टर्न डिस्टर्बेंस से बदलेगा उत्तर पूर्वी राज्यों का मौसम

Uttar Pradesh में बारिश का अलर्ट के बीच वेस्टर्न डिस्टर्बेंस से बदलेगा उत्तर पूर्वी राज्यों का मौसम

Jharkhand Civil Court Job 2024: झारखंड में ग्रेजुएट युवाओं के लिए सुनहरा मौका, 1 लाख रुपये मिलेगी सैलरी

Jharkhand Civil Court Job 2024: झारखंड में ग्रेजुएट युवाओं के लिए सुनहरा मौका, 1 लाख रुपये मिलेगी सैलरी

Delhi Weather: दिल्ली वाले अब ठंड को कहेंगे बाय-बाय...मौसम विभाग ने की ये भविष्यवाणी

Delhi Weather: दिल्ली वाले अब ठंड को कहेंगे बाय-बाय...मौसम विभाग ने की ये भविष्यवाणी

Maharashtra के लातूर की दुकानों में लगी भीषण आग- देखिए video

Maharashtra के लातूर की दुकानों में लगी भीषण आग- देखिए video

Haryana : किसानों का 'दिल्ली चलो' मार्च 29 फरवरी तक स्थगित- SKM

Haryana : किसानों का 'दिल्ली चलो' मार्च 29 फरवरी तक स्थगित- SKM

Jungle Safari: दुनिया की सबसे बड़ी जंगल सफारी होगी एनसीआर में, हरियाणा सीएम का ऐलान

Jungle Safari: दुनिया की सबसे बड़ी जंगल सफारी होगी एनसीआर में, हरियाणा सीएम का ऐलान

On This Day in History 24 Feb: आज ही के दिन जड़ा गया था ODI क्रिकेट का पहला 'दोहरा शतक', जानें इतिहास

On This Day in History 24 Feb: आज ही के दिन जड़ा गया था ODI क्रिकेट का पहला 'दोहरा शतक', जानें इतिहास

MP News: 'चादर ओढ़कर सो जाओ...' इंदौर में चोरों ने की फिल्मी स्टाइल में चोरी, देखें video

MP News: 'चादर ओढ़कर सो जाओ...' इंदौर में चोरों ने की फिल्मी स्टाइल में चोरी, देखें video

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

Swami Prasad Maurya आखिर क्यों बीजेपी और सपा के लिए जरूरी हैं और क्यों उनके अंदर इतना आत्मविश्वास है जो वह बीजेपी को खत्म कर देने की बात कह रहे हैं?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) ने अपने समर्थकों के साथ अब समाजवादी पार्टी से रिश्ते की गांठ जोड़ ली है. 2017 के विधानसभा चुनाव में भी स्वामी के लिए काफी हद तक माहौल ऐसा ही था, बस मंच बदला हुआ था. तब चौखट बीजेपी की थी, और इस बार समाजवादी पार्टी की. स्वामी प्रसाद मौर्य अकेले होते तो बात होती, न तो वह बसपा से अकेले आए थे और न बीजेपी से अकेले गए. आखिर कौन हैं स्वामी के ये संगी साथी? सबसे पहले जानते हैं, स्वामी के इन्हीं सिपहसालारों को और फिर बढ़ाते हैं यूपी की राजनीति के इस सिलसिले को आगे...

पूर्व मंत्री धर्म सिंह सैनी, भगवती सागर (बिल्हौर कानपुर से विधायक)
विनय शाक्य (एमएलसी बिधुना अरायये और पूर्व मंत्री)
रोशन लाल वर्मा (विधायक शाहजहांपुर)
डॉ मुकेश वर्मा (विधायक सिकोहाबाद, फिरोजाबाद)
बृजेश कुमार प्रजापति (विधायक बांदा)
भगवती प्रसाद शाक्य
चौधरी अमर सिंह

ये तो बात हुई स्वामी प्रसाद मौर्य के भरोसेमंद साथियों की. आइए अब जानते हैं कि यूपी की पॉलिटिक्स में क्यों ज़रूरी हैं स्वामी? ऐसी क्या वजह रही कि 2017 में बीजेपी ने न सिर्फ इन्हें हाथों हाथ लिया बल्कि इनके चहेतों को टिकट भी दिया. जब संसदीय चुनाव आए तो स्वामी ने अपनी बेटी संघमित्र मौर्य को बीजेपी का टिकट दिलवाया और बदायूं सीट से सांसद बनवाया.

स्वामी क्यों दिखा रहे हैं कॉन्फिडेंस

स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) ने समाजवादी पार्टी जॉइन करने के दौरान दिए गए अपने भाषण में बीजेपी को उखाड़ देने की बात की. उन्होंने कहा कि मैं जिसका साथ छोड़ता हूं उसका कहीं अता पता नहीं रहता है. स्वामी के इस बयान की जड़ में मौर्य वोटों की वह संख्या है जिसका असर 100 सीटों पर बताया जाता है. काछी, मौर्य, कुशवाहा, शाक्य और सैनी जैसे उपनाम भी इसी समुदाय से संबंधित हैं. यूपी में 6 फीसदी के आसपास यह वोट हैं और यह संख्या प्रदेश में यादव और कुर्मी के बाद सबसे बड़े ओबीसी समुदाय की है.

इनका प्रभाव यूपी के कई जिलों में हैं. पूर्वांचल में गोरखपुर, मिर्जापुर, प्रयागराज, वाराणसी, देवरिया, बस्ती, आजमगढ़, अयोध्या मंडल की दो दर्जन से ज्यादा सीटों पर मौर्य वोट निर्णायक भूमिका में हैं. बुंदेलखंड और बदायूं तक इस वोट का प्रभाव माना जाता है.

अखिलेश ने क्यों लिया हाथों हाथ?

Akhilesh के लिए स्वामी प्रसाद मौर्य क्यों जरूरी है, ये सवाल भी अहम है. दरअसल, 2017 में कांग्रेस जैसे बड़े दल के साथ गठबंधन का अंजाम अखिलेश यादव देख चुके हैं. 2022 के विधानसभा चुनाव में उनकी कोशिश छोटी छोटी पार्टियों को अपने साथ जोड़ने की है. यूपी में 52 फीसदी पिछड़े वोट बैंक में 43 फीसदी वोट बैंक गैर यादव समुदाय से ताल्लुक रखता है.

ये वोट बैंक कभी एकजुट नहीं रहा. अखिलेश ने इसी वोट बैंक को अपने पाले में लाने के लिए कवायद महीनों पहले शुरू कर दी थी. जनपरिवर्तन दल, दलित महासभा, गोंडवाना समाज पार्टी, पिछड़ा वर्ग मोर्चा सहित कई दलों का विलय समाजवादी पार्टी में हो चुका है.

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा), जनवादी सोशलिस्ट पार्टी, महान दल, कांशीराम बहुजन मूल समाज पार्टी, पॉलिटिकल जस्टिस पार्टी और अपना दल (कमेरावादी) भी उनके साथ आ चुके हैं. लेबर एस पार्टी और भारतीय किसान सेना का विलय भी समाजवादी पार्टी (एसपी) में हो चुका है. समाजवादी पार्टी ने पश्चिमी यूपी में राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) से हाथ मिलाया है.

ऐसी ही कोशिशों में लगे अखिलेश भला स्वामी प्रसाद मौर्य का मौका कैसे छोड़ने वाले थे. स्वामी की जो मांगें हैं, वह निश्चित ही अखिलेश को माननी होंगी.

यूपी का रण अब और रोमांचक

अभी तक यूपी की लड़ाई में बीजेपी से थोड़ा पिछड़ती दिख रही है एसपी ने हाल में अपने कदमों से लड़ाई को कांटे की टक्कर में बदल दिया है. स्वामी प्रसाद मौर्य के एसपी में जाने से यूपी के समीकरण तेजी से बदले हैं. बीजेपी स्वामी के जाने के बाद हो सकने वाले नफा नुकसान के आंकलन में जुट गई है.


अप नेक्स्ट

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

UP Elections: स्वामी प्रसाद मौर्य के कॉन्फिडेंस की वजह क्या है?

Delhi में आप और कांग्रेस के बीच हुई डील, 7 में 4 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है AAP

Delhi में आप और कांग्रेस के बीच हुई डील, 7 में 4 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है AAP

Election 2024: सीट शेयरिंग के बाद ही Rahul Gandhi की यात्रा में जाएंगे Akhilesh Yadav, कांग्रेस को झटका!

Election 2024: सीट शेयरिंग के बाद ही Rahul Gandhi की यात्रा में जाएंगे Akhilesh Yadav, कांग्रेस को झटका!

Haryana के मुख्यमंत्री Manohar Lal का बड़ा दावा, लोकसभा चुनाव में अबकी बार 400 पार का दिया नारा

Haryana के मुख्यमंत्री Manohar Lal का बड़ा दावा, लोकसभा चुनाव में अबकी बार 400 पार का दिया नारा

Lok Sabha Elections: गाजीपुर से मुख्तार अंसारी के भाई को टिकट, Akhilesh Yadav ने 11 और उम्मीदवार उतारे

Lok Sabha Elections: गाजीपुर से मुख्तार अंसारी के भाई को टिकट, Akhilesh Yadav ने 11 और उम्मीदवार उतारे

Delhi में AAP कांग्रेस को सिर्फ 1 सीट देने को तैयार, क्या बचेगा गठबंधन?

Delhi में AAP कांग्रेस को सिर्फ 1 सीट देने को तैयार, क्या बचेगा गठबंधन?

और वीडियो

Lok Sabha Polls: जयंत चौधरी और BJP में क्यों नहीं बन रही बात? RLD ने खुद बताई वजह

Lok Sabha Polls: जयंत चौधरी और BJP में क्यों नहीं बन रही बात? RLD ने खुद बताई वजह

Lok Sabha Polls: जयंत चौधरी पर शिवपाल यादव का दावा बढ़ाएगा BJP की मुश्किल, कहां जाएंगे RLD प्रमुख?

Lok Sabha Polls: जयंत चौधरी पर शिवपाल यादव का दावा बढ़ाएगा BJP की मुश्किल, कहां जाएंगे RLD प्रमुख?

BJP के वरिष्ठ नेताओं से मिले Jayant Chaudhary, NDA में शामिल होने का मिला ऑफर: मीडिया रिपोर्ट

BJP के वरिष्ठ नेताओं से मिले Jayant Chaudhary, NDA में शामिल होने का मिला ऑफर: मीडिया रिपोर्ट

Lok Sabha Elections 2024 के लिए BJP का कैंपेन थीम हुआ लॉन्च

Lok Sabha Elections 2024 के लिए BJP का कैंपेन थीम हुआ लॉन्च

TMC इंडिया गठबंधन का महत्वपूर्ण हिस्सा- कांग्रेस नेता जयराम रमेश

TMC इंडिया गठबंधन का महत्वपूर्ण हिस्सा- कांग्रेस नेता जयराम रमेश

General Election: लोकसभा चुनाव से पहले 'इंडिया' गठबंधन को झटका, ममता बनर्जी अकेले लड़ेंगी चुनाव

General Election: लोकसभा चुनाव से पहले 'इंडिया' गठबंधन को झटका, ममता बनर्जी अकेले लड़ेंगी चुनाव

Karanpur Election : राजस्थान के करणपुर में वोटिंग जारी, बीजेपी-कांग्रेस में  जोरदार टक्कर

Karanpur Election : राजस्थान के करणपुर में वोटिंग जारी, बीजेपी-कांग्रेस में  जोरदार टक्कर

Mizoram Election: मिजोरम के मनोनीत CM लालडुहोमा की ये है प्राथमिकता

Mizoram Election: मिजोरम के मनोनीत CM लालडुहोमा की ये है प्राथमिकता

Mizoram Results: कौन हैं मिजोरम में ZPM के सीएम फेस लालदुहोमा? जानिए पूर्व IPS का अबतक का सफर

Mizoram Results: कौन हैं मिजोरम में ZPM के सीएम फेस लालदुहोमा? जानिए पूर्व IPS का अबतक का सफर

Mizoram Assembly Election: मिजोरम में ZPM की बनेगी सरकार, जोरमथांगा ने CM पद से दिया इस्तीफा

Mizoram Assembly Election: मिजोरम में ZPM की बनेगी सरकार, जोरमथांगा ने CM पद से दिया इस्तीफा

हमारे बारे में

एडिटरजी भारत में स्थित एक लोकप्रिय वीडियो समाचार और सूचना प्लेटफार्म है. इसकी शुरुआत साल 2018 में भारत के प्रमुख पत्रकारों में से एक, विक्रम चंद्रा, ने की थी, और कुछ ही सालों में एडिटर्जी ने  डिजिटल समाचार की दुनिया में अपनी अलग पहचान बना ली है. ये प्लेटफ़ॉर्म मुख्य रूप से मोबाइल उपकरणों के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें एंड्रॉइड और आईओएस के लिए एप्लिकेशन उपलब्ध हैं.

हमसे संपर्क करें

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.