हाइलाइट्स

  • मुंबई के वॉटसन होटल में पहली बार भारतीयों ने देखी थी फिल्म
  • 7 जुलाई 1896 को लुमियर ब्रदर्स ने किया था फिल्म का प्रदर्शन
  • हरीशचन्द्र सखाराम भाटवड़कर ने बनाई थी पहली भारतीय शॉर्ट फिल्म

लेटेस्ट खबर

न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान Ross Taylor ने अपनी आत्मकथा में किया बड़ा खुलासा, टीम पर लगाया नस्लवाद का आरोप

न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान Ross Taylor ने अपनी आत्मकथा में किया बड़ा खुलासा, टीम पर लगाया नस्लवाद का आरोप

Raksha Bandhan: पीएम मोदी ड्राइवर, सफाईकर्मियों और माली की बेटियों से बंधवाई राखी देखिए Video

Raksha Bandhan: पीएम मोदी ड्राइवर, सफाईकर्मियों और माली की बेटियों से बंधवाई राखी देखिए Video

Koffee with Karan में  Arjun Kapoor ने किया खुलासा, मलाइका से शादी के लिए क्यों नहीं हैं तैयार ?

Koffee with Karan में Arjun Kapoor ने किया खुलासा, मलाइका से शादी के लिए क्यों नहीं हैं तैयार ?

Delhi NCR News: दिल्ली-NCR के स्कूली बच्चों के लिए तेजी से बढ़ रहा इस बीमारी का खतरा, हो जाएं सावधान!

Delhi NCR News: दिल्ली-NCR के स्कूली बच्चों के लिए तेजी से बढ़ रहा इस बीमारी का खतरा, हो जाएं सावधान!

Mask Fine in Delhi: दिल्ली में मास्क न पहनने पर होगी सख्त कार्रवाई, देना होगा जुर्माना

Mask Fine in Delhi: दिल्ली में मास्क न पहनने पर होगी सख्त कार्रवाई, देना होगा जुर्माना

7 July Jharokha: फ्रांस से उड़ा हवाई जहाज मुंबई में खराब हुआ और भारत में हो गई सिनेमा की शुरुआत!

आज हम जानेंगे भारत के फिल्मी इतिहास को... आखिर कैसे भारत में पहली फिल्म की नींव पड़ी? ये पूरा किस्सा उस इतिहास से अलग से जिसे आप आजतक सुनते आए होंगे...

दुनिया में भारतीय सिनेमा के दीवानों की कमी नहीं है...राजकपूर की फिल्म 'मेरा नाम जोकर' (Mera Naam Joker) ने भारत-रूस की दोस्ती बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई तो जब अटल जी के सामने पाकिस्तान का संकट आया तो उन्होंने दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की मदद ली...'खुदा गवाह' (Khuda Gawah) फिल्म की शूटिंग के दौरान अफगानिस्तान के कबीलों ने कुछ वक्त के लिए लड़ाई ही रोक दी...

मतलब ये है कि आप ढूंढते जाइए आपको ऐसी अनंत गाथाएं मिलती जाएंगी...लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया को अपना दीवाना बनाने वाले भारतीय सिनेमा की शुरुआत फ्रांस से ऑस्ट्रेलिया जा रहे एक हवाई जहाज में खराबी आने की वजह से संयोगवश हुई थी...दरअसल, आज यानी 7 जुलाई का संबंध उसी ऐतिहासिक तारीख से है.

ये भी देखें- Todays History, 6th July: गांधी को सबसे पहले राष्ट्रपिता उसने कहा जिससे उनके गहरे मतभेद थे!

नमस्कार मैं हूं स्वर्णिका और देश-दुनिया की ऐतिहासिक घटनाओं से आपको रूबरू कराने वाले हमारे शो झरोखा में आज हम झाकेंगे भारतीय सिनेमा के उन्हीं शुरुआती दिनों में... जब पहली बार भारत में सिनेमा से साक्षात्कार का चमत्कार हुआ था...

Lumiere Brothers का किस्सा

मोशन पिक्चर्स (Motion Pictures) का आविष्कार करने वाले फ्रांस के निवासी लुमियर ब्रदर्स (Lumiere Brothers) अपने बनाए पिक्चर्स को दुनिया भर में फैलाना चाहते थे. इसी मकसद से उन्होंने अपने एजेंट मॉरिस के जरिए ऑस्ट्रेलिया के लिए फिल्म का पैकेज रवाना किया लेकिन मुंबई पहुंचने पर मॉरिस का हवाई जहाज खराब हो गया. वो तारीख थी 5 जुलाई 1896...मजबूरी में मॉरिस कोलाबा स्थित वॉटसन होटल (Watson's Hotel) में जाकर ठहर गया...ये होटल अब नौसेना के दफ्तर में तब्दील हो चुका है. होटल में जहाज ठीक होने का इंतजार कर रहे मॉरिस के दिमाग में आया कि जो काम ऑस्ट्रेलिया जाकर करना है, उसे मुंबई में ही क्यों न अंजाम दिया जाए?

मॉरिस के इस आइडिया पर लुमियर ब्रदर्स ने भी मुहर लगा दी. जिसके बाद 6 जुलाई को मॉरिस सीधे टाइम्स ऑफ इंडिया के दफ्तर गया और अगले दिन के लिए एक विज्ञापन बुक कराया. इस विज्ञापन का मजमून था- दुनिया का अजूबा देखना है तो आइए...इस विज्ञापन को पढ़कर मुंबई के कोने-कोने से दर्शकों का हुजूम वॉटसन होटल के लिए उमड़ पड़ा. टिकट का रेट था- 1 रुपये प्रति व्यक्ति...उस जमाने के लिहाज से ये रकम काफी बड़ी थी लेकिन फिर भी 200 लोगों का हुजूम इस अजूबे को देखने के लिए आया...

ये भी देखें- 5 July Jharokha: पाकिस्तान के खूंखार तानाशह Zia Ul Haq को पायलट ने मारा या आम की पेटियों में रखे बम ने ?

वॉट्सन होटल में फिल्मों का प्रदर्शन

वॉटसन होटल में 7 से 13 जुलाई 1896 तक फिल्मों का लगातार प्रदर्शन होता रहा. बाद में इस प्रदर्शन को 14 जुलाई से मुंबई के नौवेल्टी थिएटर में शिफ्ट कर दिया गया, जहां ये 15 अगस्त 1896 तक लगातार चलते रहे. लुमियर ब्रदर्स अपने साथ 6 फिल्में लाए थे जिसमें किसी की भी अवधि 1 मिनट से ज्यादा नहीं थी. लेकिन भारतीयों के लिए ये किसी चमत्कार से कम नहीं था. उन्होंने पहली बार परदे पर चलते-फिरते लोगों को देखा था.

अहम ये है कि 7 जुलाई को जब वॉटसन होटल में फिल्म का प्रदर्शन हो रहा था तब वहां फोटोग्राफर हरीशचन्द्र सखाराम भाटवड़कर (Harishchandra Sakharam Bhatavdekar) भी मौजूद थे. मुंबई में साल 1880 से ही अपना फोटो स्टूडियो चला रहे हरीशचंद्र ने सोचा कि क्यों न इसी तरह से हिंदुस्तान में भी ऐसी फिल्में बनाई और दिखाई जाए. लिहाजा साल 1898 में उन्होंने आनन-फानन में लुमिएर सिनेमाटोग्राफ यंत्र को मंगवाया. अब समस्या ये थी कि फिल्म कौन सी बनाई जाए.

ये भी देखें- Alluri Sitarama Raju: अंग्रेजों की बंदूकों पर भारी थे अल्लूरी सीताराम राजू के तीर, बजा दी थी ईंट से ईंट

इसके लिए हरीशचंद्र ने मुंबई के हैगिंग गार्डन (Hanging Garden) में कुश्ती का आयोजन करवाया और उसी पर एक लघु फिल्म बनाई. उनकी दूसरी फिल्म सर्कस के बंदरों की ट्रेनिंग पर आधारित थी. इन फिल्मों को शूट करने बाद उन्होंने प्रोसेस के लिए इसे लंदन भेजा. इसके बाद साल 1899 में हरीश ने विदेशी फिल्मों के साथ जोड़कर उनका प्रदर्शन किया. इस तरह वे भारत में फिल्म बनाने वाले पहले भारतीय बन गए. उन्होंने अपनी यह फ़िल्में पेरी थिएटर में प्रदर्शित की. तब टिकट की दर थी आठ आना से लेकर तीन रुपये तक. इसके बावजूद हर शो में उनको 300 रुपये तक मिल जाते थे.

फिर धीरे-धीरे भारत में सिनेमा का सफर बढ़ने लगा. फिर आया साल 1904 का वक्त...जब मणि सेठना ने भारत का पहला सिनेमाघर (India's First Movie Theatre) बनाया, जो विशेष रूप से फ़िल्मों के प्रदर्शन के लिए ही बनाया गया था. इसमें नियमित फ़िल्मों का प्रदर्शन होने लगा. उसमें सबसे पहले विदेश से आयी दो भागों मे बनी फ़िल्म ‘द लाइफ आफ क्राइस्ट’ प्रदर्शित की गयी. यही वह फ़िल्म थी जिसे देखने के बाद भारतीय सिनेमा के पितामह दादा साहब फाल्के को भारत में सिनेमा की नींव रखने का ख्याल आया.

ये भी देखें- Today's History: जिन अमेरिकी पैंटन टैंक पर इतरा रहा था पाक, Abdul Hamid ने उन्हें मिट्टी में मिला दिया था

इसके बाद भारतीय सिनेमा के इतिहास में 1913 का साल एक बड़ी खबर लेकर आया और दादा साहब फाल्‍के (Dadasaheb Phalke) ने राजा हरिश्‍चंद्र नामक पहली पूरी लंबाई की फीचर फिल्‍म बनाई. 40 मिनट की अवधि वाली यह एक मूक फिल्‍म थी लेकिन यह वहीं फिल्‍म थी जिसने भारतीय सिनेमा के आगाज की शुरुआत की थी. इस फिल्‍म को 3 मई 1913 को रिलीज किया गया था.

अब चलते-चलते 7 जुलाई को इतिहास में घटी दूसरी घटनाओं पर भी निगाह डाल लेते हैं…

1999: कारगिल युद्ध के दौरान परमवीर चक्र विजेता कैप्टन विक्रम बत्रा (Captain Vikram Batra) शहीद हो गए.

2007: न्यू 7 वंडर्स फाउंडेशन ने दुनिया के 7 अजूबों की घोषणा की. भारत के ताजमहल को भी इस लिस्ट में शामिल किया गया.

2008: काबुल में भारतीय दूतावास पर आतंकी हमले में 41 लोगों की मौत हुई.

2013: बिहार के बोध गया में महाबोधी मंदिर परिसर में सिलसिलेवार 10 धमाके हुए.

ये भी देखें- Emergency Number History: दुनिया ने आज ही देखा था पहला इमर्जेंसी नंबर-999, जानें कैसे हुई थी शुरुआत

अप नेक्स्ट

7 July Jharokha: फ्रांस से उड़ा हवाई जहाज मुंबई में खराब हुआ और भारत में हो गई सिनेमा की शुरुआत!

7 July Jharokha: फ्रांस से उड़ा हवाई जहाज मुंबई में खराब हुआ और भारत में हो गई सिनेमा की शुरुआत!

Har Ghar Tiranga : तिरंगा खरीदो तभी मिलेगा राशन, अधिकारी का ये कैसा फरमान?

Har Ghar Tiranga : तिरंगा खरीदो तभी मिलेगा राशन, अधिकारी का ये कैसा फरमान?

Khudiram Bose: भगत सिंह तब एक साल के थे जब फांसी के फंदे पर झूले थे खुदीराम बोस | jharokha 11 August

Khudiram Bose: भगत सिंह तब एक साल के थे जब फांसी के फंदे पर झूले थे खुदीराम बोस | jharokha 11 August

भारत के बनने की कहानी: Nehru का विजन और Patel का मिशन- गजब की थी आजाद भारत की पहली उड़ान | EP #1

भारत के बनने की कहानी: Nehru का विजन और Patel का मिशन- गजब की थी आजाद भारत की पहली उड़ान | EP #1

President VV Giri: भारत का राष्ट्रपति जो पद पर रहते सुप्रीम कोर्ट के कठघरे में पहुंचा | Jharokha 10 Aug

President VV Giri: भारत का राष्ट्रपति जो पद पर रहते सुप्रीम कोर्ट के कठघरे में पहुंचा | Jharokha 10 Aug

Cyber Crime: सेक्सुअल हैरेसमेंट केस 6300%, साइबर क्राइम 400% बढ़े! कहां जा रहा 24 हजार करोड़?

Cyber Crime: सेक्सुअल हैरेसमेंट केस 6300%, साइबर क्राइम 400% बढ़े! कहां जा रहा 24 हजार करोड़?

और वीडियो

EPFO Data Hack : 28 करोड़ EPFO खाताधारकों का डाटा लीक! एक्सपर्ट से जानें बचने के उपाय...

EPFO Data Hack : 28 करोड़ EPFO खाताधारकों का डाटा लीक! एक्सपर्ट से जानें बचने के उपाय...

Indo–Soviet Treaty in 1971: भारत पर आई आंच तो अमेरिका से भी भिड़ गया था 'रूस! | Jharokha 9 August

Indo–Soviet Treaty in 1971: भारत पर आई आंच तो अमेरिका से भी भिड़ गया था 'रूस! | Jharokha 9 August

Quit India Movement: गांधी ने नहीं किसी और शख्स ने दिया था ‘भारत छोड़ो’ का नारा! | Jharokha 8 August

Quit India Movement: गांधी ने नहीं किसी और शख्स ने दिया था ‘भारत छोड़ो’ का नारा! | Jharokha 8 August

महंगाई की मार: RBI ने बढ़ाई repo rate, EMI बढ़ने से महंगाई कैसे होगी कंट्रोल?

महंगाई की मार: RBI ने बढ़ाई repo rate, EMI बढ़ने से महंगाई कैसे होगी कंट्रोल?

Lala Amarnath: पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकता था ये भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी | Jharokha 5 August

Lala Amarnath: पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकता था ये भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी | Jharokha 5 August

'मेडिकल साइंस का फेलियर' वाले बयान पर घिरे रामदेव...एलोपैथी फ्रेटरनिटी ने कहा- बिना जानें ना बोलें...

'मेडिकल साइंस का फेलियर' वाले बयान पर घिरे रामदेव...एलोपैथी फ्रेटरनिटी ने कहा- बिना जानें ना बोलें...

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Christopher Columbus Discovery: भारत की खोज करते-करते कोलंबस ने कैसे ढूंढा अमेरिका? | Jharokha 3 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Dadra and Nagar Haveli History: नेहरू के रहते कौन सा IAS अधिकारी बना था एक दिन का PM? Jharokha 2 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Non-Cooperation Movement: जब अंग्रेज जज ने गांधी के सामने सिर झुकाया और कहा-आप संत हैं| Jharokha 1 August

Unemployment in India: देश में नौकरियों का नाश क्यों हो रहा है ? सरकारी दावों के उलट क्या कह रहे आंकड़ें

Unemployment in India: देश में नौकरियों का नाश क्यों हो रहा है ? सरकारी दावों के उलट क्या कह रहे आंकड़ें

Editorji Technologies Pvt. Ltd. © 2022 All Rights Reserved.